Athrav – Online News Portal
दिल्ली नई दिल्ली

संकल्प लें कि हम न केवल पेड़ लगायेंगे व इस के लिए दूसरों को प्रेरित भी करेंगे कि पेड़ रहेंगे तो हम रहेंगे और तभी जीवन बचेगा।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
नई दिल्ली: गत दिवस विश्‍व पर्यावरण दिवस की पूर्व संध्‍या पर दिल्ली के आईटीओ स्थित लोक नायक सेतु के समीप यमुना के तट पर बने छठ घाट पर लोकनायक जयप्रकाश अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन विकास केन्द्र,  यमुना मिशन, गो ग्रीन, एनवायरमेंट सोशल डेवलपमेंट एसोसिएशन और जी के सी के संयुक्त तत्वावधान में स्वाधीनता संग्राम के अमर सेनानियों और बलिदानी सपूतों की याद में बड़े पैमाने पर जयप्रभा उद्यान में वृक्षारोपण किया गया। इस अवसर पर देश के जाने-माने पर्यावरणविद, शिक्षाविद, समाजसेवी, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के प्रख्यात चिकित्सकों, गांधीवादियों, भूगर्भ वैज्ञानिकों, संस्कृति कर्मियों , प्रशासनिक अधिकारियों, विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों व सैकड़ों स्कूली छात्र-छात्राओं की उपस्थिति विशेष रूप से उल्लेखनीय रही।
 
इस वृक्षारोपण कार्यक्रम में केन्द्र के अध्यक्ष पूर्व केन्द्रीय मंत्री सर्वश्री ब्रज किशोर त्रिपाठी, महासचिव अभय सिन्हा, एम्स के प्रख्यात चिकित्सक डा. विवेक दीक्षित, पब्लिक हैल्थ एसोसिएशन एम्स के अध्यक्ष डा.  संजय राय, प्रख्यात कथावाचक श्रीकांत द्विवेदी, नदी रत्न व सुंदरलाल बहुगुणा सम्मान से सम्मानित व यमुना पुत्र के नाम से विख्यात अशोक उपाध्याय, गो ग्रीन की प्रमुख श्रीमती रागिनी रंजन,पर्यावरणविद व राष्ट्रीय पर्यावरण सुरक्षा समिति के अध्यक्ष, वरिष्ठ पत्रकार ज्ञानेन्द्र रावत , पर्यावरणविद, दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर व एनवायरनमेंट सोशल डेवलपमेंट एसोसिएशन के चेयरमैन डॉ जितेन्द्र नागर,पर्यावरणविद व हमारी धरती नामक पर्यावरण पत्रिका के संपादक सुबोध नंदन शर्मा, पर्यावरणविद, शिक्षाविद, हरियाणा में तालाब पुनर्जीवन योजना के प्रणेता व विश्व जल परिषद के सदस्य डा.जगदीश चौधरी, पर्यावरणविद प्रो टी के सिन्हा, पर्यावरणविद रमेश बौडाई व प्रशांत सिन्हा,मर्स्क शिपिंग कंपनी के मैनेजर ज्ञान अभिषेक, सुप्रीम कोर्ट के जाने-माने अधिवक्ता  अभिषेक राज, श्रीमती मोनिका पाण्डेय,अमृत राज, राजरानी तायल फाउण्डेशन के प्रमुख  राकेश गुप्ता, प्रख्यात गांधीवादी रमेश चंद्र शर्मा, सुरेश राठी, प्रख्यात नेत्री,

पूर्व केन्द्रीय मंत्री, सांसद एवं वन्यजीव प्रेमी श्रीमती मेनका गांधी के निजी सचिव कमलकांत, नन्हे कदम की प्रमुख श्रीमती शैली अग्रवाल, प्रयास एक आशा की प्रमुख श्रीमती जयश्री सिन्हा, प्रख्यात नृत्यांगना सुमिता दत्त राय, श्रीमती रजनी श्रीवास्तव, श्रीमती जया श्रीवास्तव, श्रीमती मेघा जोशी,  राजीव कांत,  आकाश श्रीवास्तव, दिल्ली विश्व विद्यालय के प्रो डी.के.श्रीवास्तव, भारत पेट्रोलियम के पूर्व प्रबंधक व 100 करोड़ ट्री अभियान के  आशीष शर्मा व  अनिल तिवारी, भारतीय रेल के अवकाश प्राप्त वरिष्ठ अधिकारी सुशील कुमार, पटना से आये अशोक कुमार, जीकेसी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष  सुनील श्रीवास्तव, शुभ्रांशु कुमार,  सर्वेश कुमार,राजकुमार श्रीवास्तव व श्रीमती शालिनी वर्मा आदि सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने राजा नाहर सिंह, वीर कुंवर सिंह,नानासाहेब पेशवा ,लोकनायक जयप्रकाश नारायण, देश के

प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद, आचार्य जे. बी. कृपलानी, अच्युत पटवर्धन, आचार्य नरेन्द्र देव, देश के प्रथम गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल, डा.राममनोहर लोहिया, लाला लाजपत राय, डा श्रीकृष्ण सिंह, मीनू मसानी, करतार सिंह सराभा,सरदार पृथ्वीसिंह आजाद,सरदार भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु, चंद्रशेखर आजाद, जयराज गुरु,महान वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई, दुर्गा भाभी, बेगम हजरत महल, अरुणा आसफ अली,  राजा महेन्द्र प्रताप , मंगल पाण्डेय,गणेश शंकर विद्यार्थी, सरदार उधम सिंह, खुदीराम बोस,प्रख्यात पर्यावरणविद व सिल्यारा के संत सुंदरलाल बहुगुणा,प्रख्यात आध्यात्मिक गुरु आचार्य श्रीराम शर्मा आदि की स्मृति में वृक्षारोपण किया।कार्यक्रम के प्रारंभ में केंद्र के महासचिव अभय सिन्हा ने केन्द्र के कार्यक्रमों व वृक्षारोपण कार्यक्रम की रूपरेखा के बारे में विस्तार से बताया और इसके पीछे  अशोक उपाध्याय व यमुना मिशन के संस्थापक  प्रदीप बंसल जी की प्रेरणा की भूरि-भूरि प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि देश के स्वाधीनता संग्राम के अमर बलिदानियों और मां भारती के भूले-बिसरे अमर सपूतों की स्मृति में हमारी संस्था, गो ग्रीन, ईएसडीए,जीकेसी व प्रयास एक आशा का वृक्षारोपण किए  जाने  का यह प्रथम प्रयास है जो भविष्य में भी अनवरत जारी रहेगा। समारोह में  ब्रजकिशोर त्रिपाठी, डॉ संजय राय,डॉ विवेक दीक्षित,श्रीकांत द्विवेदी, डॉ जितेन्द्र नागर, डा. जगदीश चौधरी , रमेश चंद्र शर्मा आदि अतिथियों ने वृक्षों की महत्ता पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि बहुत हो चुका अब कुछ करना ही होगा तभी हम पर्यावरण की रक्षा करने में समर्थ हो सकेंगे अन्यथा बहुत देर हो जायेगी। अतिथि वक्ताओं ने पर्यावरण की रक्षा में हर संभव सहयोग का आश्वासन भी दिया और कहा कि आज हम सभी संकल्प लें कि हम न केवल पेड़ लगायेंगे व इस हेतु दूसरों को प्रेरित भी करेंगे कि पेड़ रहेंगे तो हम रहेंगे और तभी जीवन बचेगा। रमेश  शर्मा ने तो मां यमुना और नदियों से संबंधित अपनी कविता से सबका मन मोह लिया।इस अवसर पर जीकेसी गो ग्रीन अभियान की अध्यक्ष रागिणी रंजन ने कहा कि विश्व पर्यावरण दिवस की पूर्व संध्या पर हमने स्वाधीनता संग्राम के बलिदानी सपूतों की याद में न केवल बड़े पैमाने पर पौधारोपण किया है बल्कि वृक्षारोपण करने के साथ ही उसका नामकरण भी किया है। इस कार्यक्रम में हमें प्रख्यात पर्यावरणविद् ज्ञानेंद्र रावत , यमुना मिशन संस्था के संस्थापक अध्यक्ष प्रदीप बंसल जी, मिशन के वृक्षारोपण अभियान और मां यमुना की सेवा के प्रमुख सूत्रधार अशोक उपाध्याय और जीकेसी दिल्ली प्रदेश के सभी सहयोगियों की हृदय से आभारी हूं जिन्होंने इस कार्यक्रम को सफल बनाने में कोई कोर कसर नहीं रखी। अंत में पर्यावरणविद  ज्ञानेन्द्र रावत ने अतिथियों व उपस्थित जनों का आभार व्यक्त किया और कहा कि यह सब आपके सहयोग और समर्थन से ही संभव हुआ है और मैं आशा करता हूं कि भविष्य में भी पर्यावरण रक्षा के कार्यक्रमों में आप सभी का इसी प्रकार सहयोग-समर्थन हमें मिलता रहेगा।

Related posts

भारत में कोरोना वायरस महामारी से हुई मौतों के बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किए गए आंकड़े ‘‘गलत’’ हैं-बीजेपी

Ajit Sinha

नई दिल्ली: भाजयुमो कार्यकर्ताओं ने जम्मू क्षेत्र के विभिन्न हिस्सों का दौरा किया।

Ajit Sinha

प्रेमिका शादी का दबाव बना और बहन की सम्पति में से हिस्सा मांग रही थी, इसलिए उसकी हत्या कर दी, और उसके शव को फेंक दिया।

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//ptamselrou.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x