Athrav – Online News Portal
दिल्ली नई दिल्ली

अगस्त क्रांति के नायकों के बलिदान को नयी पीढी़ को अवगत कराने की जरूरत–ज्ञानेन्द्र रावत

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
नई दिल्ली: गत सोमवार को आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के नायकों की स्मृति में नई दिल्ली स्थित इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के कमला देवी सभागार में समारोह के आयोजन का अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलन के साथ प्रारंभ हुआ। समारोह के प्रारंभ में प्रख्यात संगीतकार जनाब जौहर अली खान के राष्ट्र प्रेम की गीत-ध्वनि और संगीत लहरी और प्रख्यात नृत्यांगना डॉ सुमिता दत्त राय की भावभीनी नृत्य प्रस्तुति ने सभी उपस्थित जनों को मंत्रमुग्ध कर दिया।  समारोह में उपस्थित विशिष्ठ जनों यथा- प्रख्यात पत्रकार एवं वैदेशिक मामलों के विशेषज्ञ डॉ वेद प्रताप वैदिक, भारत सरकार के पूर्व सचिव आई ए एस एवं पंचगव्य विद्यापीठ के उप कुलपति डॉ कमल टावरी, अंतरराष्ट्रीय सहयोग परिषद के निदेशक नारायण कुमार, सुप्रीम कोर्ट के अपर महाधिवक्ता संजीव सहगल,

प्रख्यात समाजवादी नेता,चिंतक रघु ठाकुर, साहित्यकार श्रीमती अलका सिन्हा, इतिहासकार डॉ संतोष कुमार पटैरिया, पूर्व केन्द्रीय मंत्री संजय पासवान, पूर्व सांसद  संतोष भारतीय व  सूरज मंडल, प्रख्यात लेखक जनाब शाहनवाज कादरी, संगीतकार जनाब जौहर अली खान व प्रसिद्ध नृत्यांगना डॉ सुमिता दत्त राय आदि का लोकनायक जयप्रकाश अंतरराष्ट्रीय अध्ययन विकास केन्द्र के महासचिव व समारोह के आयोजक अभय सिन्हा, आयोजन स्वागत समिति के प्रमुख बालाजी ग्रुप ऑफ एजुकेशन के निदेशक डा. जगदीश चौधरी द्वारा स्मृति चिन्ह व संजीव कुमार, प्रशांत सिन्हा, सुखविंदर सिंह, जनाब मोहसिन खान, जनाब आरिफ सिद्दीकी,अरुण कुमार सिंह, राजेश सिन्हा, विनय खरे व श्रीमती अनु सिन्हा ने पुष्प गुच्छ व पटका पहनाकर स्वागत किया गया। इसके उपरांत स्व० कन्हैय्या लाल खरे द्बारा रचित खण्ड काव्य क्रांतिकारी दुर्गा भाभी नामक पुस्तक का मंचासीन विशिष्ठ अतिथियों द्वारा विमोचन किया गया।

इसके उपरांत आयोजक अभय सिन्हा ने सभी अतिथियों-आगंतुकों का स्वागत करते हुए अगस्त क्रांति के भूले-बिसरे नायकों की स्मृति में किए  जा रहे इस आयोजन के कारणों पर प्रकाश डाला, आयोजन में सहयोग-समर्थन देने वाले सहयोगियों का आभार व्यक्त किया जिनके परिश्रम से यह आयोजन संभव हो सका। उन्होंने आंदोलन में बलिदानी सेनानियों की सिलसिलेवार चर्चा की और आश्वस्त किया कि लोकनायक जयप्रकाश अंतरराष्ट्रीय अध्ययन विकास केन्द्र देश के आजादी के आंदोलन के भूले बिसरे नायकों की स्मृति को जीवंत बनाए रखने के अभियान को जारी रखेगा। समारोह में जहां डा० वेद प्रताप वैदिक ने अगस्त क्रांति के नायकों के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डाला और आजादी उपरांत उनकी उपेक्षा का सिलसिलेवार वर्णन किया और उनकी स्मृति में स्मारक, केन्द्रों की स्थापना पर बल दिया तथा ऐसे आयोजनों की आवश्यकता को समय की मांग बताया, वहीं समाजवादी चिंतक श्री रघु ठाकुर ने आजादी के आंदोलन के नेताओं की भूमिका, गांधी, लोहिया, जयप्रकाश के सपनों के आजाद भारत में हो रहे ह्वास और देश के  करोड़ लोगों की आशाओं के धूल धूसरित होने के कारणों का ब्यौरेवार खुलासा किया, वहीं आज पुनः नौजवानों को उठकर खड़े होने की जरूरत पर बल दिया और कहा कि अब बहुत हो चुका। यदि देश बचाना है तो गांधी, लोहिया, जयप्रकाश का बताया रास्ता ही एकमात्र उपाय है तभी सच्ची आजादी संभव है। संजय पासवान ने आजादी के दीवानों को देश की धरोहर करार दिया। समारोह में लखनऊ से आए  प्रख्यात समाजवादी नेता लोकबंधु राजनारायण के सहयोगी व ख्यातनामा पुस्तक लहू पुकारेगा के लेखक जनाब शाहनवाज कादरी ने भारत छोड़ो आंदोलन की पृष्ठभूमि व उसके नेताओं की भूमिका पर सिलसिलेवार प्रकाश डाला, वहीं महोबा से आये प्रख्यात इतिहासकार डा० संतोष कुमार पटेरिया ने देश की आजादी में भारत छोड़ो आंदोलन के महत्व और आंदोलनकारियों के योगदान की क्षेत्रवार व्याख्या की। अपर महाधिवक्ता संजीव सहगल ने जहां गांधी, लोहिया, जयप्रकाश की आंदोलन में भूमिका पर प्रकाश डाला, वहीं  नारायण कुमार ने आंदोलन में अपने परिवार के सहयोग और उसके कारण परिवार को किन किन परेशानियों का सामना करना पड़ा का वर्णन किया। इसके अलावा पूर्व सांसद श्री सूरज मंडल, पूर्व कैबिनेट सचिव कमल टावरी, पूर्व सांसद संतोष भारतीय, साहित्यकार श्रीमती अलका सिन्हा, केन्द्र के सचिव श्री विनय खरे आदि वक्ताओं ने आजादी के आंदोलन के नेताओं के कृतित्व पर प्रकाश डाला। समारोह में वरिष्ठ पत्रकार, लेखक, स्तंभकार एवं पर्यावरणविद ज्ञानेन्द्र रावत ने अपने संबोधन में देश के प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन से लेकर भारत छोड़ो आंदोलन तक में अपना सर्वस्व होम करने वाले बलिदानियों की चर्चा करते हुए दुख व्यक्त किया कि जिनके असंख्यक बलिदानों की कीमत पर आज हम खुली हवा में सांस ले रहे हैं, उनको आज हम बिसार चुके हैं। आज उनके त्याग और बलिदान से हमारी आज की पीढ़ी अनजान है। एक षड्यंत्र के तहत उनके बलिदान को भुलाने का काम किया गया है। इसे हमें समझना होगा। सबसे बड़ा दुख तो यह है कि जिस झंडे को लेकर आजादी के संघर्ष के दौर में 8 से 14 साल के नौनिहालों ने अंग्रेज रेजिडेंशियल पर फहराने की खातिर बरतानिया हुकूमत के सैनिकों की गोलियां खाई, उनका नामलेवा भी कोई नहीं है। यही नहीं जिस झंडा गीत को गाते हुए आजादी के दीवाने हजारों की संख्या में सड़कों कर निकल पड़ते थे, उस “झंडा ऊंचा रहे हमारा, विजयी विश्व तिरंगा प्यारा” गीत के रचियेता श्यामलाल गुप्त पार्षद को अभावों में जीना पडा़ । वह बात दीगर है कि उनको पद्मश्री से सम्मानित किया गया लेकिन अंत समय में उनके पार्थिव शरीर को शासन ने वाहन तक मुहैया नहीं कराया। न प्रदेश सरकार का कोई मंत्री उनके संस्कार में ही शामिल हुआ।हां कानपुर वासियों ने उनका अंतिम संस्कार पूरे सम्मान से किया। यह बड़े शर्म की बात है कि जिन आजादी के सेनानियों की कुर्बानी की बदौलत आज हम आजाद हैं, उनके परिवारों की सुध लेने वाला कोई नहीं है। असलियत में आज का दिन उनकी स्मृति का दिन है। हमारा दायित्व है कि हम उन बलिदानियों के बलिदान को जीवंत बनाये रखें। उनको विस्मृत न होने दें और उनके बलिदान से नयी पीढ़ी को अवगत करायें। यही हमारी उनको सबसे बडी़ श्रद्धांजलि होगी। अंत में स्वागत समिति के अध्यक्ष डॉ जगदीश चौधरी ने इस आयोजन के मान्य अतिथियों और आगंतुक महानुभावों का आभार व्यक्त किया और कहा कि हमारी पीढ़ी का यह दायित्व है कि हम अपने उन महावीरों जिन्होंने हमारे जीवन को सुखी बनाने के लिए अपना सर्वस्व देश के लिए न्यौछावर कर दिया, उनके बलिदान को न केवल याद करें बल्कि नयी पीढ़ी को इससे अवगत भी करायें। तभी हम सच्चे अर्थों में भारतीय कहलाने के अधिकारी होंगे। ऐसे कार्यक्रम हम सदैव करते रहेंगे, यह हमारा आप सबसे वादा है।

Related posts

बिहार के सासाराम में दो पक्षों के बीच जबरदस्त बमबारी, आगजनी की खबर आ रही हैं, कई लोगों के घायल होने की खबर हैं।

Ajit Sinha

दिल्ली को मिली सीएम अरविन्द केजरीवाल से बड़ी राहत, सीवर कनेक्शन पर लगने वाला शुल्क माफ 

Ajit Sinha

दिल्ली: प्रदूषण का स्तर बढ़ने पर स्कूल-कॉलेज, कोचिंग संस्थान समेत सभी प्रशिक्षण संस्थान दोबारा कल से बंद

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//piteevoo.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x