Athrav – Online News Portal
गुडगाँव दिल्ली राष्ट्रीय स्वास्थ्य

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने महिलाओं में बढ़ रहे स्तन कैंसर की शीघ्र जांच और पता लगाने के लिए ‘सवेरा’ कार्यक्रम की शुरूआत की


अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
गुरुग्राम: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आज गुरुग्राम में महिलाओं में बढ़ रहे स्तन कैंसर की शीघ्र जांच और पता लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से मेदांता फाउंडेशन द्वारा शुरू किए जा रहे ‘सवेरा’ कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने बताया कि यह अद्भुत कार्यक्रम देश में पहली बार शुरू हो रहा है और इस कार्यक्रम के तहत महिलाओं में स्तन कैंसर का शुरूआती स्तर पर ही पता लगाया जाएगा। इसके अलावा, उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम की सफलता के उपरांत इसे राज्य के अन्य जिलों में भी विस्तारित किया जाएगा। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आज स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से मेदाता फाउंडेशन द्वारा सवेरा कार्यक्रम की अनूठी शुरुआत की गई है। इस कार्यक्रम को पहले चरण में गुरुग्राम के सेक्टर-10 के सिविल अस्पताल, सेक्टर-31 के पॉलीक्लिनिक और वजीराबाद के प्राथमिक सामुदायिक केंद्र में संचालित किया जाएगा। इस कार्यक्रम/अभियान के विस्तार के लिए जल्द ही स्वास्थ्य विभाग और मेदाता फाउंडेशन के बीच एक समझौता भी होगा।

मनोहर लाल ने कहा कि कैंसर एक ऐसा रोग है जिसकी पहचान (डायग्नोस) देर से होती है जिसके अंतर्गत कभी स्टेज-2, स्टेज-3 और कभी-कभी स्टेज-4 तक कैंसर की पहचान की होती है और यह शरीर के अलग-अलग हिस्सों में अपना प्रभाव डालता है। इसी प्रकार, स्तन कैंसर भी उनमें से एक कैंसर है जोकि ज्यादातर शहरों में रहने वाली महिलाओं में पनपता है। उन्होंने कहा कि देशभर में लगभग 90 हजार महिलाएं स्तन कैंसर के कारण प्रतिवर्ष अपनी जान गंवा देते हैं। लेकिन आज यहां शुरू किए गए ‘सवेरा’ कार्यक्रम के अंतर्गत स्तन कैंसर की जांच के लिए नेत्रहीन महिलाओं / बहनों की सहायता ली जाएगी जोकि बहुत ही सराहनीय है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेशक ‘सवेरा’ कार्यक्रम को संचालित करने में  नेत्रहीन /दिव्यांग बहनों की मदद ली जा रही है जिनमें कुछ न्यूनता है परतु इसके साथ-साथ इन दिव्यांग बहनों में कुछ अद्भुत गुण भी होते हैं जिसके तहत ये बहनें अपनी अत्याधिक विकसित स्पर्श इंद्रियों की मदद से स्तन कैंसर का परीक्षण करेगी। उन्होंने उपस्थित लोगों को इस संबंध में उदाहरण देते हुए कहा कि फरीदाबाद के गांव सिहीं में जन्में सूरदास भले ही दृष्टिहीन थे परतु वे बहुत ही बड़े कवि हुए और उन्होंने समाज को दर्शन देने का काम किया तथा दिव्यांगता उनके कभी भी आड़े नहीं आई। मनोहर लाल ने कहा कि दृष्टिबाधित व्यक्तियों में नैसर्गिक स्पर्श संवेदनशीलता क्षमता होती है। इस क्षमता के महत्व को मेडिकल जगत से जुड़े लोगों ने समझा, परखा और उसका उपयोग भी किया है। जैसा कि उन्हें बताया गया कि आधा सेंटीमीटर तक दृष्टिबाधित बहनें स्तन कैंसर के बारे में पहचान कर सकती है जबकि सामान्य डॉक्टर भी एक सेंटीमीटर तक इसकी पहचान परीक्षण के बाद कर सकता है। इन बहनों में स्पर्श की संवेदनशीलता की क्षमता बहुत ही अधिक है।मुख्यमंत्री ने सरकार द्वारा कैंसर की रोकथाम के लिए उठाए जा रहे कदमों के अंतर्गत जानकारी सांझा करते हुए बताया कि जिला झज्जर में नेशनल कैंसर संस्थान- एम्स को स्थापित किया गया है जिसमें 1000 बिस्तर है। इसी प्रकार, उन्होंने बताया कि अंबाला जिला में कैंसर के मरीजों के उपचार के लिए अटल कैंसर केयर सेंटर स्थापित किया गया है और पीजीआईएमएम, रोहतक में कैंसर का उपचार किया जाता है तथा इस पर शोध भी किया जा रहा है।कैंसर की उत्पति के सबंध में उन्होंने कहा कि कई बार कैंसर की उत्पति हमारे खानपान की कमी, भूमि के कैमिकलयुक्त जल के कारण और खेती में प्रयोग होने वाले उर्वरकों के कारण भी होती है। उन्होंने बताया कि बठिंडा से बीकानेर के बीच चलने वाले एक रेलगाड़ी को तो कैंसर ट्रेन का नाम दिया गया है। इसलिए हमें अपने खानपान को ठीक रखना चाहिए, स्वच्छ जल का प्रयोग और प्राकृतिक खेती को अपनाना चाहिए। हालांकि वर्तमान राज्य सरकार प्राकृतिक खेती और स्वच्छ जल मुहैया करवाने के लिए पूरी तरह से प्रयासरत है। उन्होंने कैंसर रोग से जुडे हुए विशेषज्ञों का आह्वान करते हुए कहा कि कैंसर की रोकथाम के लिए हरियाणा सरकार हमेशा उनके द्वारा दिए गए सुझावों और सहयोग के लिए तैयार रहेगी।इससे पहले, मेदांता के ग्रुप सी.ई.ओ एवं डायरेक्टर, पंकज साहनी ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने नारी शक्ति को आगे बढ़ाने का काम किया और इसी कड़ी में हम भी मुख्यमंत्री की दिशा अनुसार आगे बढ़ रहे है। उन्होंने बताया कि “स्तन कैंसर के अधिकतर मामले विकसित चरण में सामने आते है। इसकी बढ़ती संख्या के कारण समय पर पहचान, निदान और इलाज अत्यधिक आवश्यक है। हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपने मरीजों को खुद के स्वास्थ्य की देखभाल करने में समर्थ बनाएं। इसके लिए हम मेदांता में निरंतर नए तरीके अपनाते हैं। सवेरा अभियान इसी दिशा में उठाया गया कदम है।उन्होंने बताया कि भारत में छह साल पहले टेक्टाईल ब्रेस्ट एग्जामिनेशन’ (टी.बी.ई.) पद्धति शुरू होने के बाद दृष्टिबाधित महिलाओं को एन.ए. बी. इंडिया सेंटर फॉर ब्लाइंड वीमेन एंड डिसेबिलिटी स्टडीज़ में स्तन रोगों और उनके परीक्षण का सैद्धांतिक प्रशिक्षण दिया गया, जिसके बाद उन्हें मेदांता गुरुग्राम के ब्रेस्ट क्लिनिक में डॉ. कंचन कौर के मार्गदर्शन में तीन महीने तक क्लीनिकल  इंटर्नशिप प्रदान की गई। गुरुग्राम के सिविल सर्जन डॉ वीरेंद्र यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ अभियान के तहत एक नई अलख जगाने का काम किया है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने चिरायु- निरोगी योजना राज्य में लागू की है। उन्होंने बताया कि ‘सवेरा’ कार्यक्रम के तहत 6 नेत्रहीन बहनें इस कार्यक्रम में शुरुआत करेंगी।इससे पहले, अजय मल्होत्रा, स्तन कैंसर विशेषज्ञ डॉ कंचन कौर, डॉ नेहा सूरी इत्यादि ने भी सवेरा कार्यक्रम के बारे में जानकारी सांझा की और कार्यक्रम के संबंध में एक प्रस्तुति  भी दी।

Related posts

जनता रहे सावधान, नहीं तो पड़ सकती है 2000 रूपये की चपत : पढ़िये हमारी विशेष खबर

Ajit Sinha

राहुल बोले- सरकार विपक्ष को दुश्मन नहीं, सहयोगी माने और सबको साथ लेकर देश हित में काम करे-वीडियो देखें।

Ajit Sinha

नई दिल्ली: एक प्रॉपर्टी डीलर की सरेआम गोली मार कर हत्या करने के सनसनीखेज मामले में एक शख्स को किया अरेस्ट।

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//ptamselrou.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x