Athrav – Online News Portal
फरीदाबाद

फरीदाबाद:विधायक नीरज शर्मा की शिकायत पर नगर निगम के 10 अधिकारियों पर बड़ी कार्रवाई के आदेश जारी।


अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
फरीदाबाद नगर निगम ने बिल्डरों को फायदा पहुंचाने के लिए 4.67 करोड़ रुपये की लागत से रेलवे की जमीन पर विकास कार्य करवा दिए। इसके लिए नगर निगम अधिकारियों ने मुख्यमंत्री की घोषणा नंबर -11313 का सहारा लेते हुए विकास कार्य शुरू करने से पहले रेलवे की मंजूरी लेना भी जरूरी नहीं समझा। एनआइटी फरीदाबाद से कांग्रेस विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि उनके द्धारा कार्यालय के पत्र क्रमांक 234, दिनांक 06/03/2020 को शिकायत मुख्यमंत्री, शहरी स्थानीय निकाय मंत्री, प्रधान सचिव मुख्यमंत्री हरियाणा, प्रधान सचिव शहरी स्थानीय निकाय विभाग, उपायुक्त फरीदाबाद, आयुक्त नगर निगम फरीदाबाद प्रेषित की थी। जिसपर उपायुक्त फरीदाबाद ने इसकी जांच आयुक्त नगर निगम को सौंपी थी। 

लेकिन जांच पर कोई कार्रवाई  न होने के कारण विधायक नीरज शर्मा ने विधानसभा सत्र मार्च 2021 के विधानसभा सत्र में इस मामले को उठाया और उसके बाद विधानसभा में प्रश्न संख्या 185 में मंत्री ने जवाब दिया कि इस तरह की जांच जारी है। निगम आयुक्त की तरफ से विधायक नीरज शर्मा को दिनांक 25 फरवरी 2021 को प्राप्त जांच रिपोर्ट में नगर निगम के मुख्य अभियंता ने माना है कि प्याली चौक से एफसीआइ गोदाम तक कथित ग्रीन बेल्ट जिसके निर्माण पर नगर निगम ने 1.39 करोड़ रुपये की राशि खर्च कर दी, कब्जाधारकों का अड्डा बन गई है। ग्रीन बेल्ट के 50 फीसद हिस्से पर कब्जे हो चुके हैं। राजस्व विभाग के रिकार्ड अनुसार यह भूमि रेल मत्रांलय की भूमि है विकसित करने से पूर्व मंत्रालय से इसकी अनुमति लेनी चाहिए थी, मौके पर ग्रीन बैल्ड ना होकर जगंल विकसित है,

लाखो रूपए  के जो ट्यूब्ले लगाए गए वह केवल पैसो की बर्बादी है, लाखो रूपए की जो लाईटें लगाई गई वह सिर्फ केवल पैसो की बर्बादी है, इसके अलावा ग्रीन बेल्ट के बीचों बीच जो नाला बनाया गया, उस पर 3.28 करोड़ रुपये की राशि नगर निगम ने खर्च की तथा ग्रीन बैल्ट से जो रास्ता आवागमण के लिए  दिया है, उसकी भी रेलवे से मजूंरी लेनी थी जोकि नही ली गई थी क्योकि यह सिर्फ उघोगिक ईकाईयों को फयादा पहुंचाने  के लिए किया गया। इन दोनों कार्यों पर खर्च किए गए 4.67 करोड़ रुपये व्यर्थ हो गए हैं।एनआइटी क्षेत्र के विधायक नीरज शर्मा ने यह मामला मार्च 2021 को विधानसभा में भी उठाया। इसका जवाब देते हुए शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज ने अभी सिर्फ इतना ही बताया है कि इस पूरे मामले की उच्च स्तर पर जांच चल रही है। विस्तृत जांच रिपोर्ट के बाद अगली कार्रवाई की जाएगी। एनआइटी क्षेत्र के विधायक नीरज शर्मा ने दिनांक 20 अगस्त 2022 का प्रश्न संख्या 439 पुनः उठाया था जिसपर मंत्री  द्धारा कहा गया था कि जांच कमेटी ने अभी जांच रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं की है जांच रिपोर्ट आने उपरांत ही कोई कार्रवाई  की जागएी। विधायक नीरज शर्मा का कहना है कि यह एक घोटाला है। इसमें मुख्यमंत्री को घोषणा करने से पहले या बाद में भी सही तथ्यों से अवगत नहीं कराया गया और सीएम घोषणा का सहारा लेते हुए भ्रष्ट तंत्र ने बिल्डर को फायदा पहुंचाने के लिए निगम का पैसा लगा दिया। विधायक नीरज शर्मा ने कहां कि आज लगभग 3 वर्ष बाद सरकार ने कोई कार्रवाई की है जो कि सिर्फ खानापूर्ति करने के लिए की है क्योकि जनता के पैसो का जो दुरुपयोग हुआ है यह उन लोगों से वसूला जाना चाहिए जिन नेताओं और अधिकारियों के कहने पर यह ग्रीन बेल्ट बनी।विधायक नीरज शर्मा की शिकायत पर आज अतिरिक्त मुख्य सचिव शहरी स्थानीय निकाय विभाग ने आयुक्त नगर निगम फरीदाबाद को पत्र लिखकर नगर निगम के 10 अधिकारियों पर नियम 8 के तहत कार्रवाई  करने के आदेश जारी किए है।

Related posts

उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी के साथ जनसभा मे शामिल हुए हरियाणा के पूर्व मंत्री विपुल गोयल।

Ajit Sinha

फरीदाबाद: क्राइम ब्रांच -30 व साइबर सेल की संयुक्त टीम ने अन्नी हत्याकांड के 50 -50 हजार  के दो इनामी बदमाशों को पकड़ा 

Ajit Sinha

फरीदाबाद: जिलाधीश ने ड्रोन उड़ाने पर लगाई पाबंदी, आदेश जारी

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//toathoule.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x