Athrav – Online News Portal
दिल्ली राजनीतिक राष्ट्रीय वीडियो

आप घर का बोझ, महंगाई का बोझ, समाज का बोझ उठाती हो, मैं जानती हूँ, कितना मुश्किल है, जीवन, मैं जानती हूँ-लाइव सुने।


अजीत सिन्हा की रिपोर्ट
नई दिल्ली: कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मेरी बहनें बहुत समय से इंतजार कर रही हैं, सुबह खाना पकाकर आई होंगी और मेरे भाई आप सब अपने-अपने काम… अगर आप दुकान चला रहे हैं या बिजनेस चला रहे हैं या खेती करते हैं, उसको छोड़कर यहां आए हैं, मेरी बातों को सुनने के लिए, इसके लिए मैं आपकी बहुत आभारी हूं।देखिए आपका जीवन मेहनत का जीवन है, मैं जानती हूं कि सुबह से शाम तक आप ईमानदारी से, मेहनत के साथ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए मेहनत से काम करते हैं, आपकी यही आशा होती है कि आगे बढ़कर आपके बच्‍चों का भविष्‍य मजबूत बने, नौजवान लड़के, लड़कियां हैं तो आप सोचते होंगे कि कोई अच्‍छा रोजगार मिल जाए, काम करें, कमाएं तो उनका भी… मैं कह रही थी कि आपकी इच्‍छा क्‍या होती है, आपकी आशाएं, महत्‍वकांक्षाएं क्‍या हैं? सबसे पहले कि जो आपके बच्‍चे हैं, वो जब बड़े होते हैं, उनकी अच्‍छी नौकरी लगे, वो कमाएं, उनका आत्‍मविश्‍वास बना रहे और उनका एक मजबूत भविष्‍य बने।

तो देखिए आप क्‍या चाहते हैं – आप अपने बच्‍चों के लिए एक मजबूत भविष्‍य चाहते हैं, इसीलिए दिन-रात मेहनत करते हैं और कोई भी हो, मैं भी अपने बच्‍चों के लिए यही चाहती हूं और सरकार का इसमें एक बहुत बड़ा रोल होता है, बहुत बड़ी भूमिका होती है, क्‍योंकि जब आप संघर्ष करते हैं, आपके जीवन में मुश्किलें आती हैं, आपके लिए कोई समस्‍या उठती है तो सरकार आपको बहुत मदद कर सकती है। जैसे मेरी बहनें यहां हैं,आज महंगाई की वजह से आपके जीवन में कितनी मुश्किलें हैं, आप जानते हैं कि सिलेण्‍डर 1,100 रुपए का हो गया है। तो ये तमाम मुश्किलें आपके सामने हैं और साढ़े तीन सालों से जो ये मुश्‍क‍िलें हैं, ये कम नहीं हुई हैं, बढ़ती चली गई हैं, बढ़ती चली गई हैं, क्‍योंकि आपको एक ऐसी सरकार मिली जो शुरू से ही गलत तरीके से बनी, शुरू से ही इन्‍होंने लालच की वजह से, सत्ता की वजह से विधायकों को खरीदा और एक सरकार को तोड़कर ये सरकार बनाई। तो शुरू से इनकी नीयत क्‍या थी – इनकी नीयत थी कि सत्ता में आना है, लूट मचाना है, अपने आप आगे बढ़ना है और जनता की मुसीबतों को पूरी तरह से नकारना है, यही इनकी नीयत थी। अब ये सरकार आई, साढ़े तीन सालों से क्‍या हुआ?आज तो मुझे ताज्‍जुब हुआ, मैं यहां आ रही थी तो मैंने देखा कि प्रधानमंत्री मोदी जी यहीं पास में कहीं एक भाषण दे रहे हैं तो मैंने कहा, मैं देखूं क्‍या कह रहे हैं? मुझे ताज्‍जुब हुआ कि जिसको दुनिया कह रही है या उनके लोग कह रहे हैं कि सर्वशक्तिमान, सर्वोपरि, सर्वश्रेष्‍ठ, विकास पुरुष, ये सब उनके बारे में कह रहे हैं और ये विकास पुरुष जो हमारे प्रधानमंत्री हैं, कर्नाटका आकर कह रहे हैं कि मेरा एक सपना था कि मैं कर्नाटका में विकास लाऊंगा, मेरा एक सपना था कि कर्नाटका को मैं पूरे देश में विकास की मिसाल बनाऊंगा, तो क्‍यों नहीं बनाया? आप तो सर्वशक्तिमान हैं, सर्वोपरि हैं, अंतर्यामी हैं, सब जगह आप ही आप हैं तो आपने क्‍यों नहीं किया, अपना सपना साकार क्‍यों नहीं किया? और जब मैं पूछना चाहती हूं कि जब भाजपा की सरकार, आप ही की बनाई गई सरकार जनता को 40 परसेंट सरकारा बनकर लूट रही थी तो आप क्‍या कर रहे थे?लेकिन आज मुझे समझ में आ गया, जब ये लूट मच रही थी तो आपकी आँखें बंद क्‍यों थीं – आपकी आँखें बंद इसलिए थीं, क्‍योंकि आप सपना देख रहे थे, बिजी थे बहुत, बड़े-बड़े सपने देख रहे थे तो आपने लूट मचने दी, आपने चोरी होने दी, आपने रोका नहीं किसी को, ये कैसी बात हुई। 40 परसेंट सरकारा क्‍यों है आपकी सरकार का नाम, कॉन्‍ट्रैक्‍टर्स आत्‍महत्‍या कर रहे हैं आपकी सरकार को, चिट्ठी लिखते हैं प्रधानमंत्री जी को, सर्वज्ञानी, अंतर्यामी जी को, कोई जवाब नहीं आता। आत्‍महत्‍या करते हैं किसान, कोई समस्‍या नहीं देख रहा है किसानों की, कोई राहत नहीं आती, इस तरह से हर स्‍तर पर कर्नाटका को लूटा और लूटते-लूटते गवर्नेंस, किस तरह से सरकार चलेगी, कैसे हम रोजगार द‍िलवाएंगे, ये सब बातें, सब भूल गए, आज चुनाव आया है इधर-उधर की बातें हो रही हैं।हम यूपी में जब कोई इधर-उधर की ज्‍यादा बातें करते हैं तो हम कहते हैं भाई मुद्दे पर आओ, मुद्दे पर आओ, ये तो मुद्दे पर आ ही नहीं रहे हैं। मुद्दे क्‍या हैं – विकास, आपके लिए अस्‍पताल बनाना, आपके लिए शिक्षा के संस्‍थान बनाना, आपकी सड़कों को बनाना, नौजवानों को रोजगार देना, मेरी बहनों को महंगाई से राहत देना, किसानों को आगे बढ़ाना, यही तो मुद्दे हैं तो ये लोग क्‍यों नहीं बात कर रहे हैं इन मुद्दों की?साढ़े तीन सालों से इनकी सरकार रही है, क्‍या किया इन्‍होंने? महंगाई इतनी बढ़ चुकी हैं कि आप जैसे मैंने कहा कुछ खरीद ही नहीं पा रहे हैं, किसान त्रस्‍त है, परेशान है, हर तरफ से उसकी परेशानी बढ़ ही रही हैं, जीएसटी-जीएसटी कर-करके इतनी महंगाई बढ़ा दी है कि छोटे दुकानदार ही अपने आप परेशान है, उनके बिजनेस चल ही नहीं रहे हैं जो स्‍मॉल, मीडियम बिजनेस हैं, वो चल ही नहीं पा रहे हैं और लूट कम नहीं हुई है बहनों और भाइयों, 1,50,000 करोड़ रुपए लूटे हैं कर्नाटका से, साढ़े तीन सालों में इतने पैसे लूटे कि कोई सोच भी नहीं सकता, लेकिन हमने देखा कि भइया देखते हैं इन 1,50,000 करोड़ रुपयों का बन क्‍या सकता था? और ताज्‍जुब होगा आपको जानकर जितना पैसा इन्‍होंने लूटा है, इससे आपके लिए 100 एम्‍स के अस्‍पताल बन सकते थे, 2,250 किलो मीटर लंबी 6 लेन की एक्‍सप्रेसवे बन सकती थी, 187 ईएसआई हॉस्‍पिटल बन सकते थे, 30,000 स्‍मार्ट क्‍लासरूम, सोचिए 30,000 स्‍मार्ट क्‍लासरूम जिसमें बच्‍चे पढ़ सकते थे आपके, उनको शिक्षा मिल सकती थी, 30 लाख अफोर्डेबल हाउसिंग के घर, 30 लाख गरीबों के लिए घर बन सकते थे और इन्‍होंने क्‍या किया उन पैसों का – उन पैसों को लूटा और आज आपके सामने मुंह दिखाने लायक नहीं हैं, आज आपके सामने आपके मुद्दों पर बात नहीं कर सकते, इसलिए हर रोज कोई नया मुद्दा उठाते हैं, जिसका आपके विकास, आपके जीवन, आपकी रोजमर्रा की जो समस्‍याएं हैं उससे कोई मतलब नहीं हैं।आपने खुद ही देखा होगा कि बेंगलुरु जैसे बड़े शहर से कितनी सारी कंपनियां चली गई हैं इन साढ़े तीन सालों में मोटोरोला, एप्‍पल, नोकिया, ओला, सैमसंग छोड़कर चले गए, कोई चेन्‍नई गया, कोई हैदराबाद गया, क्‍योंकि लूट इतनी है कि इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर ही खराब हो रहा है, बेंगलुरु जैसे शहर में आपका भी शहर है, बेंगलुरु जैसे विश्‍वप्रसि‍द्ध शहर में 35 लोग गड्ढों के अंदर गिरकर मर गए और यहां विकास के इतने मौके हैं, क्‍यों नहीं किए जा रहे हैं?तो मैं आपसे कहना चाहती हूं कि हर स्‍तर पर चाहे आप नंदिनी को देखिए, आपने बनाया नंदिनी, आज भाजपा की सरकार कहती है नंद‍िनी में दूध इकट्ठा नहीं हो रहा है, कम हो रहा है, अमूल को गुजरात से लाते हैं, लेकिन साढ़े तीन साल पहले जब कांग्रेस की सरकार थी तो आपको क्षीर भाग्‍य मिला, सब्सिडी मिलती थी दूध के लिए किसानों को 5 रुपए प्रति लीटर, दूध इतना इकट्ठा हो रहा था कि मुफ्त में स्‍कूल के बच्‍चों को मिल सकता था तो अब अचानक कैसे कम हो गया, अचानक ये कैसे कह रहे हैं, क्‍योंकि ये भी झूठ है। ये जो नंदिनी आपने बनाई, इसको भी लूटने की कोशिश है, गुजरात से अमूल को लाएंगे, आहिस्‍ते-आहिस्‍ते नंदिनी को खत्‍म कर डालेंगे।जिस स्‍तर पर आप देखें, जिस तरफ आप देखें, आपको सिर्फ लूटा गया है और मजाक उड़ाया गया है गवर्नेंस का। आज मेरे नौजवान भाई-बहन यहां पर खड़े हैं, कितनों को सरकारी रोजगार मिला है, किसी को नहीं मिला है और 2,50,000 सरकारी पद खाली पड़े हुए हैं, लेकिन नौकरियां आपको मिल नहीं रही हैं, जो नौकरी के मौके होते हैं, रोजगार के मौके होते हैं, कहां से आते हैं – छोटे दुकानों से, छोटे बिजनेसों से, मीडियम बिजनेसों से, बड़े-बड़े जो पीएसयू होते थे, जो सरकार के होते थे, उससे बहुत नौकरियां बनती थीं और किसानों को मजबूत करके, खेती मजबूत करके और रोजगार बनता था, लेकिन इनमें से कौन से काम किए इन्‍होंने – कोई ऐसा काम नहीं किया। बड़े-बड़े पीएसयू अपने उद्योगपति दोस्‍तों को दे दिए, प्राइवेट कर दिए, वहां से नौकरियां बंद, जो छोटी दुकान हैं, छोटे बिजनेस हैं उनकी कमर तोड़ दी, आगे बढ़ नहीं पा रहे हैं, किसानों का तो पूछिए मत, आपके लिए यहां, आपके प्रदेश में गन्‍ने व अन्य फसलों का जो दाम है, सबसे कम है, दूसरे प्रदेशो में ज्यादा मिलता है, यहां सबसे कम है।तो ये परिस्‍थितियां भाजपा ने बनाई और आपसे भी एक शिकायत है, आपने बनाने दी, क्‍योंकि आप बार-बार, बार-बार चुनाव आता है और बार-बार आपका ध्‍यान भटक जाता है। आप जवाब ही नहीं मांगते, आपने ये माहौल बना दिया है देश में, प्रदेश में कि कुछ न करे नेता, तब भी उसको मालूम होता है कि वो आकर मंच पर खड़े हो जाएगा, कोई जज़्बाती मामला उठा लेगा, धर्म की बात करेगा, जाति की बात करेगा तो बस फिर से जीत जाएगा तो अगर उसको मालूम है कि वो ये सब बातें करके चुनाव जीत सकता है तो वो काम क्‍यों करेगा? इस‍ीलिए तो काम करना बंद हो गया है, इसीलिए तो जवाबदेह सरकारें बनती नहीं हैं, क्‍योंकि जब मौका आता है चुनाव का तो ऐसा ध्‍यान भटका देते हैं आपका मीडिया में ये सब डालकर और धर्म की बातें करके और इधर-उधर की बातें करके कि आप भूल जाते हैं कि आपका वोट तो आपके लिए लगना चाहिए, आपका वोट आपके विकास के लिए, आपके बच्‍चों के विकास के लिए जाना चाहिए, आप भूल जाते हैं, आपके जजबात उठ जाते हैं, आप भूल जाते हैं।…तो इसलिए मैं चाहती हूँ, कि आज आपके सामने खड़े हुए आपसे वोट नहीं मांगना है, मुझे, आपकी जागरुकता मांग रही हूँ मैं। मैं कह रही हूं, जाग जाओ। बहुत हो गया है, 10 साल होने वाले हैं, जब देखो मंच पर आकर फिजूल की बातें करते हैं। अरे बताएं तो सही, साढ़े तीन सालों में कर्नाटक में किया क्या? अगर किया है, तो बता पाओगे।मैं बताती हूँ, कांग्रेस ने क्या किया, जब कांग्रेस सरकार थी। अन्ना भाग्य बनाया, क्षीर भाग्य, पशु भाग्य, आरोग्य भाग्य, विद्याश्री, इंदिरा कैंटीन, ये सब तो कांग्रेस की स्कीम थीं और इनसे आपको सुविधा मिली।कांग्रेस की सरकारों ने, राजस्थान में देखिए, छत्तीसगढ़ में देखिए, किसानों के कर्ज माफ किए हैं। छत्तीसगढ़ में 18 लाख किसानों के कर्ज माफ हुए हैं, ये कम नहीं है, बहनों और भाईयों। आज भी धान का दाम सबसे ज्यादा छत्तीसगढ़ में मिल रहा है। चुनाव के समय कहा, पुरानी पेंशन स्कीम लागू होगी, राजस्थान में लागू है, छत्तीसगढ़ में लागू है, हिमाचल में लागू कर रहे हैं। तो आप अगर जागरुक नहीं बनेंगे और आप खुद नहीं देखेंगे कि साढ़े तीन सालों से इनकी सरकार है, क्या मेरे जीवन में तरक्की आई है कि नहीं?मैं पूछ रही हूँ आपसे, जबसे बीजेपी की सरकार है, कर्नाटक में, आपके जीवन में तरक्की आई है कि नहीं? (जनता ने कहा- नहीं), सुनाई नहीं दे रहा (जनता ने फिर दोहराया- नहीं), जोर से बोले (जनता ने एक बार फिर दोहराया- नहीं)। नहीं आई? (जनता ने फिर से कहा- नहीं)। किसानों के जीवन में आई (जनता ने नहीं में उत्तर दिया)। मजदूरों को राहत मिली (जनता ने इंकार किया)। मेरी बहनों को महंगाई से राहत मिली (महिलाओं ने कहा- नहीं)। आप नौजवान खड़े हैं, आपको जॉब मिला (नौजवानों ने न में उत्तर दिया)। तो जागो, जागो, देखो, साढ़े तीन साल से कुछ नहीं हुआ है। आपके जीवन में मुश्किलें बढ़ी हैं कि नहीं? (जनता ने कहा- हां) बढी हैं न? तो कौन बदलाव लाएगा? ये माहौल कौन बदलेगा- आप ही बदल सकते हो। खासतौर से तुम लोग, जो नौजवान हो।बदलाव लाओ, अपना हक मांगो, ऐसी सरकारों को मत लाओ जो आपका आदर नहीं करते हैं, जो आपका हक नहीं देती है। कांग्रेस आपको आपके हक देना चाहती है, इसलिए कांग्रेस ने कुछ गारंटी बनाई हैं। क्या हैं ये गारंटी- सौ प्रतिशत प्रगति लाएंगे। ये जो डेढ़ लाख करोड़ रुपए इन्होंने लूटे हैं, ये हम किसानों के लिए, इनको मजबूत बनाने के लिए डालेंगे। ढाई लाख सरकारी पद खाली पड़े हैं, शर्म की बात है। कांग्रेस ये प्रयास करेगी कि एक साल के अंदर-अंदर ये ढाई लाख पद भरे जाएं।

गृह ज्योति योजना लाना चाहते हैं हम। 200 यूनिट बिजली आपको फ्री मिलेगी।
अन्ना भाग्य में आपको 10 किलो चावल मिलेंगे। और ऐसे चावल नहीं, जो मुझे एक महिला ने बताया दो दिन पहले कि दीदी, जो चावल हमें मिल रहे हैं, वो हम खा ही नहीं पाते। हम अच्छे चावल देंगे आपको, 10 किलो देंगे।
युवाओं, एक युवा निधी स्टार्ट करेंगे। युवा निधी में जिसका ग्रेजुएशन हो गया है, लेकिन नौकरी नहीं है, उसको हर महीने 3,000 रुपए सरकार देगी और जिसका डिप्लोमा है, उसको 1,500 रुपए हर महीने सरकार देगी।
गृह लक्ष्मी योजना, मेरी बहनों, सबसे ज्यादा मेहनत आप करती हो। आप घर का बोझ, महंगाई का बोझ, समाज का बोझ उठाती हो, मैं जानती हूँ, कितना मुश्किल है, जीवन। मैं जानती हूँ कि इसके बावजूद सबसे कम सहायता समाज आपकी करता है, इसलिए कांग्रेस पार्टी आपकी मेहनत को पहचानते हुए, आपके लिए गृह लक्ष्मी योजना लाई है, जिसमें 2,000 रुपए हर महीने आपके खाते में जाएगा।
आपको बस पास, बस में जाने के लिए; जहाँ भी जाएं, आपको बस का पास फ्री में मिलेगा।
देखिए, जो खासतौर से शहरों में डिलीवरी का काम करते हैं, घरों में काम करते हैं, जो अस्थाई मजदूर हैं, इनके लिए बहुत कम सुविधाएं देती है, सरकार, लेकिन आज जो ये काम कर रहे हैं, उनकी भी मुसीबतें बहुत हैं, बड़े-बड़े शहरों में जाते हैं, 4-5 लोग छोटे-छोटे कमरों में रहकर सुबह से शाम तक मेहनत करते हैं, कमाने के लिए, अपने परिवारों के लिए, तो कांग्रेस पार्टी एक न्यूनतम आय तय करना चाहती है, घरेलू और डिलीवरी के कर्मियों के लिए ताकि आपको एक मिनिमम वेज मिलना चाहिए, जिससे आपका कोई फायदा हो, आपका कोई शोषण न कर पाए। इसी तरह से 3,000 करोड़ रुपए हम बजट में अस्थाई कर्मी के कल्याण के बोर्ड में डालेंगे। ऑटो ड्राईवर के लिए, टैक्सी ड्राईवर्स के लिए हम एक ऐसा कल्याण बोर्ड बनाएंगे, जिसमें 50-50 करोड़ रुपए डालकर उनकी मदद और उनकी सहायता के लिए हम काम करेंगे।जो रुकी हुई सिंचाई की योजनाएं हैं, आप जानते हैं, कई नदियों से जो सिंचाई की योजनाएं कांग्रेस ने शुरू की थीं, उनको रोका गया। बीजेपी ने उनका कुछ भी आगे काम नहीं बढ़ाया और जैसे कांग्रेस ने गोवा के साथ ट्राईब्युनल बनाया था, महादायी और जो प्रोजेक्ट था, उसके लिए, कि समस्याएं हम सुलझाएं, ये सब चीजें भी भाजपा ने रोक दीं। तो हम इसको फिर से शुरू करेंगे, ताकि आपकी सिंचाई में मुसीबतें कम हों।इसी तरह से हमने सोचा है कि जो छोटे दुकानदार हैं, छोटे बिजनेस वाले हैं, आपके लिए भी फंड्स बने। आपके वेलफेयर फंड्स बनें, ताकि जितना नुकसान आपने झेला है, इन साढ़े तीन सालों में, उससे कुछ राहत मिले आपको। हमने लाइट इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट्स में भी हम चाहते हैं कि नए-नए उद्योग बनें। हम चाहते हैं कि कर्नाटक में ये जो इलेक्ट्रिक गाड़ियाँ हैं, जो पेट्रोल- डीजल से नहीं चलती, जो आजकल एक बहुत नई चीज निकली है, हम चाहते हैं कि कर्नाटक ही इसका हब बने, यहाँ सबसे ज्यादा बनें, इससे बहुत रोजगार मिलेंगे और बीदर से लेकर चामराज नगर तक एक इंडस्ट्रियल कॉरीडोर बनाना चाहते हैं, जिसमें टाउनशिप बने। हर विधानसभा में 10 करोड़ के स्टार्टअप फंड्स के लिए रखा जाएगा ताकि ये जो नौजवान हैं, अगर एक छोटा सा बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, तो उस विधानसभा से ही उनको थोड़ा सा पैसा, थोड़ी सी मदद मिल सकती है कि अपने ही पैरों पर खड़े हो जाएं। कर्नाटक के लिए बहुत सारी चीजें सोची हैं। मैंगलोर में एक टूरिज्म और बिजनेस के लिए जैसे दुबई में होता है, एक गोल्ड और डायमंड पार्क बने। जैसे बैंगलुरू में आईटी सेक्टर मजबूत हुआ है और दुनिया में जाना जाता है, तो क्यों न ये काम छोटे-छोटे शहरों में जो टू-टियर के शहर हैं, उनमें क्यों नहीं कर सकते हैं। तो हमारा प्लान है कि मैसूर, हुबली, धारवाड़ गुलबर्ग, बेल्लारी, चित्रदुर्ग जैसे जो छोटे शहर हैं, इनमें भी हम आईटी को मजबूत करें, टेक्नोलॉजी को मजबूत करें। ये सब हमारी योजनाएं हैं, हम आपके लिए करना चाहते हैं।

एक कल्याण कर्नाटका है। आपको मालूम है कि कांग्रेस ने 371जे का जो आर्टिकल 371जे है, संविधान का कांग्रेस ही लाई थी और यहाँ के लिए तमाम विकास के रास्ते खोले, इसके लिए सोनिया जी लड़ीं, मनमोहन सिंह जी लड़े और मल्लिकार्जुन खरगे जी, जो आज कांग्रेस के अध्यक्ष हैं, वो बहुत लड़े और जब ये आर्टिकल 371जे लाए, तो हमारे मन में यही था कि कर्नाटक को पूरी तरह से हम विकसित करेंगे। उसकी वजह से रोजगार मिले, किसानों को सिंचाई की सुविधा मिली, कल्याण कर्नाटका का बहुत विकास हुआ। आज वो विकास कहाँ गया? साढ़े तीन सालों में सारा बंद कर चुके हैं। बेरोजगारी बढ़ गई है। आपको याद होगा यहाँ पर यादगीर रेलवे कोच की फैक्ट्री खोली थी, ये सब कांग्रेस ने किया था। लेकिन आज भयंकर बेरोजगारी है, कल्याण कर्नाटका में। पीने का साफ पानी नहीं मिल रहा है, आपको। मुख्यमंत्री जी ने कोई ध्यान नहीं दिया इस क्षेत्र में। 40 हजार सरकारी नौकरियाँ खाली पड़ी हैं, इसी क्षेत्र में, कल्याण कर्नाटका में। 16 हजार शिक्षकों के पद खाली हैं और शिक्षक लोग हैं, क्यों नहीं भरे जा रहे हैं, क्योंकि हर तरफ से इन्होंने आपको पूछा नहीं है, घोटाले किए हैं, आप भर्ती के इम्तिहान देते हैं। पीएसआई के इम्तिहान देखिए, पुलिस के कर्मी खड़े हैं।

बच्चे मेहनत करते हैं, पैरेंट्स, उनके मां-बाप ट्यूशन्स के लिए फीस देते हैं ताकि भर्ती के इम्तिहान के लिए तैयारी अच्छी होगी, अच्छी नौकरी मिलेगी। तो ये सब मेहनत करने के बाद, पढ़ाई-लिखाई करने के बाद, फीस भरने के बाद क्या पता चलता है- उसमें भी घोटाला कर दिया।

तो ये परिस्थितियाँ बन गई हैं, कर्नाटका की और जैसे मैं आपसे कह रही थी, ये परिस्थितियाँ सिर्फ आप बदल सकते हो। ये आप ही के हाथों में है, समझ लो। महान इतिहास है आपका। आपकी संस्कृति दुनियाभर में जानी जाती है। यहाँ के महान गुरू, महात्मा सबने ये संस्कृति आपके साथ बनाई, आपके समाज ने बनाई।
आपका एक ऐसा प्रदेश है, मुझे याद है, जब मैं छोटी थी, मेरे पिता जी कहते थे- हम कर्नाटक में बहुत विकास कर सकते हैं। वहाँ पर आईटी टेक के बड़े-बड़े शहर बना सकते हैं और मैं पूछती थी, कैसे? छोटी थी, मुझे नहीं मालूम था। पिता जी ने कहा- क्योंकि शिक्षित लोग हैं, कर्नाटका में, इंग्लिश बोलते हैं, शिक्षित लोग हैं और टेक्नोलॉजी, आईटी में बहुत शिक्षित हैं, तो ये दोनों चीजें जो हैं, इंग्लिश की भाषा में मजबूत हैं, आईटी-टेक्नोलॉजी में मजबूत हैं, तो पूरी दुनिया में ये भागीदार बन सकते हैं। जो आईटी और टेक आने वाला है, ये 1984-85 की बात कर रही हूँ मैं।तो आप तबसे पहचाने जाते थे अपनी मेहनत के लिए, यहाँ की शिक्षा के लिए, अपनी संस्कृति के लिए और इसके लिए कि आप सब मेहनत से अपने प्रदेश को बनाने के लायक हैं और खुद अपने पैरों पर खड़े होने के लायक हैं, तो उस परंपरा को तोड़िए मत, अपने प्रदेश को ऐसे हाथों में देकर, जो सिर्फ लूटना चाहते हैं, दिल में सत्ता का लालच है, आपकी कोई परवाह नहीं, उनके हाथों में मत दो। अब बंद करो ये सब। अपने विकास के लिए, अपने बच्चों के भविष्य के लिए, अपना वोट अपने प्रदेश के लिए, अपने ही लिए दीजिए, तभी यहाँ पर विकास आएगा, तभी आपका प्रदेश फिर से दुनिया में पहचाना जाएगा। सारी कंपनियाँ वापस यहाँ आएंगी, रोजगार बनेंगे और एक नया भविष्य, एक उज्जवल भविष्य आप बना पाओगे। तो यही मेरा आग्रह है कि आप जागरुक बनें। अपनी शक्ति से अपना भविष्य अपने हाथों में लीजिए। इन लोगों की बातों में मत पड़िए। देखिए, कांग्रेस ने आपके लिए कितना काम किया, क्या-क्या योजनाएं लाना चाहते हैं और कांग्रेस को एक इस तरह के बहुमत से जिताइए कि उस सरकार को कोई तोड़ न पाए। एक मजबूत सरकार बनाइए, एक स्थिर सरकार बनाइए, क्योंकि एक मजबूत और स्थिर सरकार, जो तोड़ी नहीं जा सकती है, बहुत काम कर सकती है। तभी उसका पूरा ध्यान विकास पर जाता है, नहीं तो जोड़-तोड़ की कोशिशें जब होती हैं, बाहर से, तो सरकार का ध्यान भी उसे बचाने में चला जाता है। इसलिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, खासतौर से आपके कल्याण क्षेत्र के लिए कि आप पूर्ण बहुमत से, भारी से भारी बहुमत से कांग्रेस की सरकार बनाएं और अपने भविष्य को एक बार फिर मजबूत बनाएं। आपने मेरी बातें सुनीं, गर्मी भी हो रही है, अब मैं आपको छोड़ती हूँ। बहुत प्रेम दिया आपने इसके लिए मैं हमेशा आभारी रहूंगी। एक बार मेरे साथ कहिए, कर्नाटका की (जनता ने पूरा किया- जय)। कर्नाटका की (जनता ने फिर से दोहराया- जय)। कर्नाटका की (जनता ने एक बार फिर दोहराया- जय)

Related posts

दिल्ली के दंगें में दिल्ली पुलिस ने एचसी रतन लाल को खोया, 53 लोगों ने अपनों को खोया, चार शीट दाख़िल, देखें वीडियो।  

Ajit Sinha

कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने कहा, हाथरस की मासूम लड़की के साथ जो हैवानियत की गई, वो हमारे समाज पर एक कलंक है-वीडियो सुने

Ajit Sinha

एक्सएलआरआई, जमशेदपुर और दिल्ली पुलिस के बीच एमओयू साइन किया गया है, में सर्वे और फ्यूचर एक्शन प्लान शामिल है।

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//thampolsi.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x