Athrav – Online News Portal
अपराध दिल्ली

तीन दिन की जुड़वां बेटियों की हत्या कर श्मशान घाट में दफ़नाने वाले फरार पिता नीरज सोलंकी पकड़ा गया।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
नई दिल्ली: दिल्ली के गांव पूठ कलां में अपनी तीन दिन की जुड़वां की बेटियों की हत्या करने के बाद श्मशान में दफना दिया। ये सनसनीखेज वारदात गत 3 जून 2024 को अंजाम दिया गया था इस संबंध में पीएस सुल्तान पूरी, दिल्ली में एफआईआर नंबर-587, दिनांक 21 जून 2024, भारतीय दंड संहिंता की धारा 302, 304, 315 , 201 व 34 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। दिल्ली पुलिस की एनडीआर अपराध शाखा की टीम ने इस केस में फरार आरोपित मृतक बेटियों के पिता नीरज सोलंकी, उम्र 32 साल, निवासी पूंठ कलां, दिल्ली को गांव सांपला, रोहतक, हरियाणा से गिरफ्तार किया है। ये आरोपित अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए लगातार अपने ठिकाने बदल-बदल रह रहा था।     
डीसीपी क्राइम अमित गोयल ने आज जानकारी देते हुए बताया कि गत 3 जून 2024 को, पीएस सुल्तानपुरी, दिल्ली में एक पीसीआर कॉल प्राप्त हुई कि “कॉलर के जीजा ने अपनी 3 दिन की जुड़वां लड़कियों को मार कर श्मशान घाट में दफना दिया है”। इसके बाद जिस श्मशान घाट पर बच्चों को दफनाया गया था,वहां पुलिस स्टाफ तैनात कर दिया गया एंव जुड़वा बच्चों के शव को निकालने के लिए संबंधित एसडीएम से अनुमति ली गई। उनका कहना है कि गत 5 जून 2024 को अनुमति मिलने पर जुड़वाँ बच्चों की लाश निकाली गई। औ शवों को शवगृह,एसजीएमएच, मंगोलपुरी, दिल्ली में संरक्षित किया गया। दिनांक 6 जून 2024 को जुड़वा बच्चों की लाश का पोस्टमार्टम करवाया गया और शव मामा को सौंप दिए गए। इसके बाद पी (मृतक की मां) निवासी गांव इस्मिला, रोहतक की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया। उनका कहना है कि दिल्ली पुलिस की एनडीआर, क्राइम ब्रांच की एक टीम को जघन्य मामलों के फरार अपराधियों का पता लगाने का काम सौंपा गया था। टीम ने सभी पहलुओं पर फरार आरोपित नीरज सोलंकी (पिता) का पता लगाने के लिए लगातार काम किया और मैनुअल के साथ-साथ तकनीकी जानकारी भी जुटाई। प्रारंभिक जांच के दौरान, निगरानी रखी गई,स्थानीय स्रोतों के साथ-साथ तकनीकी जानकारी विकसित की गई और टीमों का विस्तृत विवरण दिया गया। इंस्पेक्टर योगेश एंव विनोद यादव ने अपनी टीम के साथ फरार आरोपित के ठिकानों के बारे में जानकारी जुटाई। एसआई दीपेंद्र,देवी दयाल एंव इमरान तथा एचसी परमानंद ने फरार आरोपित नीरज सोलंकी के बारे में तकनीकी जानकारी जुटाई। एकत्र की गई जानकारी के आधार पर, एचसी राजबीर ने कई तकनीकी डेटा का विश्लेषण किया और यह देखा गया कि आरोपित व्यक्ति पुलिस को चकमा देने और अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए बार-बार अपने मोबाइल हैंडसेट, सिम और ठिकाने बदल रहा था। समर्पित, त्वरित और सटीक तकनीकी विश्लेषण के कारण, आरोपित के वर्तमान ठिकाने/स्थान को शून्य कर दिया गया। इंस्पेक्टर योगेश एंव  विनोद यादव की देखरेख एंव एसीपी उमेश बर्थवाल की समग्र देखरेख में एसआई दीपेंद्र, इमरान खान, गुरमीत सिंह एंव  देवी दयाल, एएसआई उमरदीन, एचसी परमानंद, आशीष, राम नरेश एंव राजबीर एंव कॉन्स्टेबल  कुलदीप की एक टीम गठित की गई थी। टीम ने आरोपित  की तलाश में दिल्ली एंव  हरियाणा में कई जगहों पर छापेमारी की. टीम के लगातार प्रयास रंग लाए और आरोपित नीरज सोलंकी को सांपला, रोहतक, हरियाणा से पकड़ लिया गया। पूछताछ के दौरान, उसने उपरोक्त मामले में अपनी संलिप्तता कबूल कर ली और बाद में, उसे कानून की उचित धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया गया।  गिरफ्तार आरोपित  नीरज सोलंकी दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक है, लेकिन वह कुछ नहीं कर रहा है और वह अपनी किराए की संपत्तियों पर रहता है।

Related posts

“जेपी आंदोलन दिवस ” के अवसर पर राष्ट्रीय संगोष्ठी का 8 अप्रैल को राजघाट, नई दिल्ली में आयोजित होगा- अभय सिन्हा

Ajit Sinha

देश के हर बच्चे को अच्छी शिक्षा दे दो, ये बच्चे ही देश को विकसित बना देंगे-अरविंद केजरीवाल

Ajit Sinha

हरियाणा एंटी करप्शन ब्यूरो ने 10,000 रुपये की रिश्वत लेते पटवारी को किया गिरफ्तार

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//othoojoph.net/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x