Athrav – Online News Portal
Surajkund फरीदाबाद मनोरंजन

तजाकिस्तान के उजांद शहर से आई सौयोदा सूरजकुंड मेले के सांस्कृतिक मंचों पर अपने कमाल और जमाल से दर्शकों के लिए आकर्षण का केंद्रबिंदु बनी

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
फरीदाबाद:तजाकिस्तान के उजांद शहर से आई सौयोदा सूरजकुंड मेले के सांस्कृतिक मंचों पर अपने कमाल और जमाल से दर्शकों के लिए आकर्षण का केंद्रबिंदु बनी हुई है। लोक नर्तकी सौयोदा को देखकर लगता नहीं है कि वह जीवन  के 42 वसंत देख चुकी  हैं। अभी भी उनके डांस में ऐसी ताजगी है, जैसे 16-17 साल की कोई युवती मंच पर नाच रही हो। सौयोदा के डांस की यह विशेषता है कि वह अपने नृत्य मेेें तजाकिस्तान के पूर्व-पश्चिम एवं उत्तर-दक्षिण चारों दिशाओं के क्षेत्रों की संस्कृति को समाहित करके दिखाती हैं। इनमें सुगदय, माफरीगी, शोदोयाना, कॉशोख शामिल  हैं।

एक गोल दायरे में ही रक्स करने को सौयोदा ने बताया कि इसे दोयोरा राक्सी कहा जाता है। सौयोदा ने बताया कि उसने पंद्रह साल की उम्र में डांस सीखना शुरू किया था। अब वह 26 सालों की कड़ी मेहनत करने के बाद कुशल नृत्यांगना बन पाई है। सौयोदा ने बताया कि वह दुंशाबे नामक स्थान पर कोरियोग्राफी स्कूल में डांस सिखाती है और फिलहाल वह एक सरकारी नृत्य प्रशिक्षक है।



सौयोदा ने बताया कि उसके पति ईसा ख्वाजा तजाकिस्तान की आर्मी में है। उसके तीन बेटे हैं,जिनकी आयु 22 साल,15 साल और 11 साल है। उसके डांस ग्रुप फलक में सुराइयो फाइजीवा, ओगेलोई खुदाईविदीव नामक युवा  नृत्यांगना सहित पांच सदस्य है। सौयोदा ने  बताया कि सूरजकुंड में आकर उसे  काफी प्रसन्नता महसूस हो  रही है। भारत के लोगों ने उसके डांस को काफी पसंद किया है।

Related posts

सभी विभागों के नोडल अधिकारी ऑनलाइन शिकायतों का निवारण निर्धारित समय पर पूरा करना करें सुनिश्चित: सीटीएम

Ajit Sinha

फरीदाबाद:औद्योगिक प्रशिक्षण तकनीकी कर्मचारी संघ के सैकड़ों आईटीआई कॉलेजों में कार्यरत कर्मचारियों ने केबिनेट मंत्री विपुल गोयल के खिलाफ नारेबाजी की

Ajit Sinha

फरीदाबाद: मानव रचना ने अंतर्राष्ट्रीय जल शिखर सम्मेलन का आयोजन किया।

Ajit Sinha
//sauptowhy.com/4/2220576
error: Content is protected !!