Athrav – Online News Portal
दिल्ली नई दिल्ली राजनीतिक राष्ट्रीय

नई दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने बिहार के दरभंगा और सीतामढ़ी में विशाल जनसभा को संबोधित किया।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट/नई दिल्ली  
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने आज, सोमवार को, बिहार के सीतामढ़ी स्थित कोइरिया पिपरा उच्च विद्यालय मैदान में विशाल जनसभा को संबोधित किया और साथ ही, दरभंगा शहर में लोहिया चौक से मिर्ज़ापुर चौक तक भव्य रोड शो भी किया.राष्ट्रीय अध्यक्ष ने सर्व प्रथम माता सीता की भूमि को नमन करते हुए कुशवाहा समाज का नेतृत्व करने वाले बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्री सतीश प्रसाद सिंह को, जिनका निधन आज सुबह हो गया, भावभीनी श्रद्धांजलि भी दी. राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि आज से 15 साल पहले बिहार में चुनाव का मुद्दा विकास नहीं बल्कि ‘तेल पिलावन, लठिया घुमावन’ होता था, क्योंकि यहां लालू यादव का जंगलराज था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने पिछले 5 वर्षों में, राजनीति की संस्कृति, चाल, चरित्र सब बदल दिया है। अब विकास और विकास की ही बातें होने लगी हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार की राजनीतिक संस्कृति बदल दी है। पहले जाति और मजहब के आधार पर कांग्रेस और उसकी सहयोगी पार्टियां वोट बैंक और तुष्टिकरण की राजनीति करती थी। लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने सरकार के काम के रिपोर्ट कार्ड के आधार पर जनता के बीच जाने की संस्कृति की शुरुआत की है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 2015 में बिहार के विकास के लिए 1.25 लाख करोड़ रुपये का पैकेज दिया था जिसे विपक्ष ने जुमला करार देते हुए मजाक भी उड़ाया था लेकिन मैं आज इस पैकेज का पूरा हिसाब देने आया हूँ। प्रधानमंत्री ने सवा लाख करोड़ रुपये के अतिरिक्त 40 हजार करोड़ रुपये बिहार को स्वास्थ्य जैसी अन्य योजनाओं के लिए अलग से दिया। इसका विकास कार्य भी जमीन पर स्पष्ट दिखा रहा है। उन्होंने कहा कि बिहार में किसानों के लिए 3,904 करोड़ रुपये, शिक्षा के लिए 10,000 करोड़ रुपये, स्किल डेवलपमेंट पर 1,550 करोड़ रुपये, स्वास्थ्य के क्षेत्र में 10,000 करोड़ और अलग से 600 करोड़ रुपये, बिजली के लिए 16,000 करोड़ रुपये, सड़क के लिए 13,8200 करोड़ रुपये, पेट्रोलियम गैस के विस्तार के लिए 21,000 करोड़ रुपये गए हैं। हाइवे के लिए 54 हजार करोड़ रुपये, रेलवे के लिए 8,870 करोड़ रूपये, पेट्रोलियम एवं गैस के लिए 21 हजार करोड़ रुपये, ग्रामीण सड़क के निर्माण के लिए 14 हजार करोड़ रुपये,दरभंगा एअरपोर्ट के लिए 2,700 करोड़ रुपये, पर्यटन के लिए, जिसमें सीता माता का रामायण सर्किट भी आता है 600 करोड़ रुपये, दरभंगा एम्स के लिए अलग से 1200 करोड़ रुपये दिए गए, कौशल विकास के लिए 1550 करोड़ रुपये और डिजिटल बिहार के लिए 450 करोड़ रुपये दिए गए जिसके तहत गांव-गांव ऑप्टिकल फाइबर बिछाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि विगत छः वर्षों में बिहार में 11 नए मेडिकल कॉलेज खुले। नए मेडिकल कॉलेज खोलने का मतलब है कई मेडिकल दवाइयों की दुकानों का खुलना, कोचिंग इंस्टीटयूट का खुलना और स्वास्थ्य सुविधोँ में बढ़ोत्तरी के साथ-साथ बड़ी मात्रा में रोजगार का भी सृजन होना।

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान जब दुनिया के बड़े-बड़े शक्तिशाली देश लाचार हो गए थे तब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 130 करोड़ लोगों के इस देश को लड़ने के लिए तैयार किया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तत्काल लॉकडाउन का निर्णय लेकर लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा की, जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी सही समय पर लिया गया सही निर्णय बताया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने जान है तो जहान है के सिद्धांत को ध्यान में रखते हुए कोरोना महामारी की शुरुआत से ही बड़े-बड़े कदम उठाए और मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर के मामले में देश को आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर किया।
लॉकडाउन की शुरुआत में हमारी टेस्टिंग कैपिसिटी महज 1,500 प्रतिदिन की थी, आज लगभग 15 लाख टेस्टिंग प्रतिदिन हो रही है। तब हमारे पास एक भी डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल नहीं था, आज 1,500 से अधिक है। 12 लाख से अधिक डेडिकेटेड कोविड बेड्स हैं। भारत में लॉकडाउन से पहले वेंटीलेटर्स की भारी किल्लत थी, प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से लगभग तीन लाख वेंटीलेटर्स भारत में निर्मित किये गए। आज भारत प्रतिदिन लगभग चार
लाख पीपीई किट का निर्माण कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा उद्यमियों एवं विनिर्माताओं को दिए जा रहे प्रोत्साहन का ही परिणाम है कि भारत आज विश्व के 150 देशों को दवाईयां मुहैया करा रहा है। 2014 में जब मोदी जी ने जीरो बैलेंस में जनधन खाते खुलवाने शुरु किए, तब विपक्षियों ने सवाल उठाया कि गरीबों के खाते खुलवाने से कुछ नहीं होगा। जब लॉकडाउन लगा तब मोदी जी ने बिना मनीऑर्डर और पोस्टमैन के 20 करोड़ गरीब महिलाओं के इन्हीं जनधन खातों में 3 महीने तक 500-500 रुपये पहुंचाए। दिव्यांगों, बुजुर्गों और विधवाओं के भी खाते में तीन किश्तों में 3,000 रूपये की आर्थिक सहायता दी गई।

देश के 8.56 करोड़ किसानों को किसान सम्मान निधि के तहत राशि उनके खाते में भेजी गई। किसान सम्मान निधि की एक और क़िस्त आने वाली है। गरीब परिवारों को भूखा ना सोना पड़े इसके लिए देश की 80 करोड़ जनता को दीवाली और छठ पूजा तक मुफ्त राशन की व्यवस्था भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने की। मैं श्री नीतीश कुमार को भी धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने राज्य के सभी राशन कार्ड धारकों को एक-एक हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी। इसके लिए बिहार सरकार ने 1,141 करोड़ रुपये का प्रावधान किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने कोरोना संक्रमण काल में देश को आपदा को अवसर में बदलने का मंत्र देते हुए 20 लाख करोड़ रुपये के ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान की शुरुआत की जिसमें मध्यम, सूक्ष्म एवं लघु उद्योगों के लिए तीन लाख करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई तो कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए एक लाख करोड़ रुपए का नया फंड बनाया गया। इससे बिहार के किसानों, मछुवारों, पशुपालकों को भी बहुत लाभ होगा. देश का 80 प्रतिशत मखाना बिहार के मिथिला क्षेत्र में होता है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत मखाने की वर्ल्ड ब्रैंडिंग की जा रही है। आत्मनिर्भर भारत अभियान से मखाना उत्पादन करने वालों को भी उचित दाम मिलेंगे। आत्मनिर्भर बिहार गांवों में उद्यम के, रोज़गार के अवसर तैयार करने और बिहार के गौरव एवं वैभव को फिर से लौटाने, यहां के हर युवा की आकांक्षाओं को पूरा करने का मिशन है। खेती हो, पशुपालन हो, मछलीपालन हो, इससे जुड़े उद्योग और उद्यम, आत्मनिर्भर बिहार का अहम हिस्सा हैं। हाल में देश में मछलीपालन को बढ़ावा देने के लिए एक बहुत बड़ी योजना बिहार से ही लॉन्च की गई है. राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार को लालटेन युग से एलईडी युग में पहुँचाने का काम किया. देश की जनता तक 37 करोड़ एलईडी बल्ब मुफ्त पहुंचाई गई जिससे बिहार की तस्वीर बदल गई. स्वच्छ भारत अभियान के तहत पूरे देश में 11.30 करोड़ बिहार में 1.20 करोड़ इज्जत घर बनवाकर महिलाओं-बहनों को सम्मान दिलाने का काम किया गया. सौभाग्य योजना के तहत 2.60 करोड़ लोगों के घरों में बिजली पहुंचाई गई तथा बिहार 32 लाख घरों में बिजली पहुंचाई गई. चाहे राम मंदिर का मामला हो, धारा 370 हो, ट्रिपल तलाक हो या फिर विकास कार्य – ‘अटकाना, लटकाना और भटकाना‘ ही कांग्रेस की नीति-रीति रही. राम मंदिर निर्माण में विपक्षी पार्टियों द्वारा काफी अड़चनें खड़ी की गईं आज पूरे देश के सहयोग से, जनभागी दारी से, अयोध्या में भव्य राममंदिर का निर्माण हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की इच्छाशक्ति और गृह मंत्री अमित शाह की रणनीति ने 5 अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर से धारा 370 को धाराशायी कर देश में एक निशान-एक विधान- और एक प्रधान का सपना साकार कर दिया. जब जम्मू कश्मीर से धारा-370 हटाई गई तब भी विपक्षी पार्टियों ने यही कहा कि कश्मीर में आग लग जाएगी, खून की नदियां बह जाएंगी लेकिन आज जम्मू कश्मीर और लद्दाख शांति से विकास के नए पथ पर अग्रसर हैं.यह चुनाव सिर्फ एनडीए उम्मीदवारों को जिताने का ही नहीं बल्कि बिहार के विकास की गाड़ी को आगे बढ़ाने का चुनाव है। विकास की गाड़ी को आगे बढ़ाने के लिए नीतीश कुमार जी को दोबारा मुख्यमंत्री बनाना जरूरी है। 15 साल पहले जिस बिहार में लूटराज था, उसे हम लॉ एंड ऑर्डर के राज पर आगे बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं। बाहुबल पर चलने वाले बिहार को हम विकास बल के आधार पर आगे बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं।

Related posts

फर्जी कागजात के आधार पर बांग्लादेशी नागरिकों की किडनी और अन्य अंग के ट्रांसप्लांटेशन का चल रहा था काला कारोबार, दो अरेस्ट 

Ajit Sinha

राष्ट्रीय मुद्दों पर निरंतर आंदोलन की योजना बनाने के लिए कमिटी गठित,कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह बने चेयरमैन।  

Ajit Sinha

कुछ इस तरह बेटे अरहान का बर्थडे सेलिब्रेट कर रहीं बॉलीवुड एक्ट्रेस मलाइका अरोड़ा, शेयर की फोटोज

Ajit Sinha
//ptugnins.net/4/2220576
error: Content is protected !!