Athrav – Online News Portal
जरा हटके फरीदाबाद हरियाणा

हरियाणा पुलिस से सीखिए मुस्कान कैसे लौटाया जाता हैं, 3 बच्चों को तलाश कर परिवार के चेहरे पर लौटाए मुस्कान।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
चंडीगढ़: हरियाणा पुलिस उन परिवारों के चेहरे पर मुस्कान वापस लाने के लिए लगातार काम कर रही है जिनके बच्चे किसी कारण से लापता हो गए थे। एक बार फिर पुलिस ने तीन गुमशुदा बच्चों को तलाश कर उन्हें उनके परिजनों को सौंप कर मानवता की मिसाल पेश की है। हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस की मानव तस्करी निरोधक इकाई (एएचटीयू) द्वारा 2 वर्ष से गुमशुदा लड़के को उसके परिवार से मिलाने में सफलता हासिल की गई है। यह 10 वर्षीय बच्चा चिल्ड्रन होम झज्जर में रह रहा था। इसने अपना पता मुरादपुर और पिता का नाम बबलू बताया।

उल्लेखनीय है कि इस बच्चे को गोद देने की प्रक्रिया सीडब्ल्यूसी झज्जर द्वारा की जा चुकी थी और गोद लेने वाले माता-पिता इस बच्चे को आस्ट्रेलिया लेकर जाना चाहते थे। इसी दौरान बच्चे के द्वारा बताए गए पते और पिता के नाम के आधार पर पुलिस की मानव तस्करी निरोधक इकाई द्वारा हरदोई के आसपास लखीमपुर खीरी में इसके पिता का पता चल गया। बच्चे के परिवार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि 2 साल पहले यह बच्चा दिल्ली से गुम हो गया था और उसका कोई सुराग नहीं लग रहा था।

राज्य अपराध शाखा द्वारा 5 अक्टूबर -2020 को सीडब्ल्यूसी झज्जर से आदेश प्राप्त करके इस लड़के को उसके परिवार के सुपुर्द कर दिया गया। एक अन्य मामले में, आशियाना पंचकूला में रह रहे 7 महीने से गुमशुदा मंदबुद्धि बच्चे को उसके परिवार से मिलाने में पुलिस ने सफलता हासिल की है। बच्चे द्वारा बोली जा रही भाषा के आधार पर उत्तर प्रदेश पुलिस सहारनपुर से संपर्क साधा गया तो पता चला कि यह बच्चा शेखपुरा से 7 महीने से गुमशुदा है।

उसके परिवार से वीडियो कॉलिंग करवाई गई तो उन्होंने इस बच्चे को पहचान लिया व कानूनी प्रक्रिया अपनाकर सीडब्ल्यूसी पंचकूला से आदेश लेकर बच्चे को उसके माता पिता के सुपुर्द कर दिया गया। वहीं एक पृथक मामले में 3 दिन से गुमशुदा बच्चे को माता पिता से मिलवाया गया। राजस्थान पुलिस द्वारा सूचना प्राप्त हुई कि एक बच्चा रेलवे स्टेशन पर मिला है। बच्चे ने मिली जानकारी द्वारा बहादुरगढ रेलवे पुलिस से संपर्क साधा गया तो उसी दौरान लड़के की मां पुलिस स्टेशन बहादुरगढ़ में अपने बच्चे की गुमशुदगी की रिर्पोट दर्ज करवाने आई हुई थी। पुलिस ने बीकानेर सीडब्ल्यूसी से आदेश लेकर बच्चे को माता-पिता से मिलवा दिया।

Related posts

नूंह हिंसा में अब तक 102 एफआईआर दर्ज, 202 लोग गिरफ्तार और 80 लोगों को हिरासत में लिया- अनिल विज

Ajit Sinha

फरीदाबाद: महिलाएं सशक्त होंगी तभी बनेगा भारत विकसित और आत्मनिर्भर : कृष्णपाल गुर्जर

Ajit Sinha

फरीदाबाद :भारी मतों से एनएसयूआई हरियाणा प्रदेश सचिव पद पर विजयी हुए कृष्णअत्री

Ajit Sinha
//intorterraon.com/4/2220576
error: Content is protected !!