Athrav – Online News Portal
अपराध फरीदाबाद हरियाणा

हरियाणा पुलिस की एंटी ह्यूमन ट्रैफिक यूनिट ने सितंबर में 3 बच्चों सहित चार लापता को परिवार से मिलवाया

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
चंडीगढ़: हरियाणा पुलिस की एंटी ह्यूमन ट्रैफिक यूनिट (एएचटीयू) ने इस साल सितंबर माह में अबतक तीन गुमशुदा बच्चों व एक महिला के परिजनों की तलाश कर उनके सुपूर्द किया है। ये चारों लापता बच्चे व महिला राजस्थान, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश से हैं। हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि एएचटीयू टीम को झज्जर, पंचकूला और करनाल के बाल आश्रय गृहों व नारी निकेतन में रह रहे लापता बच्चों और महिला के बारे में जानकारी मिली थी। राजस्थान, पश्चिम बंगाल और यूपी पुलिस की मदद से काउंसलिंग और अन्य साक्ष्यों पर काम करते हुए पुलिस की टीम ने लापता तीनों बच्चों और महिला को आवश्यक औपचारिकताएँ पूरी करने के बाद उनके परिजनों को सौंप दिया। 8 साल बाद अपनों से मिली दो सगी बहनें
   
इनमें से 18 वर्ष और 16 वर्ष की दो सगी बहनें, जो पश्चिम बंगाल के जिला अलीपुरद्वार की रहने वाली थी व पिछले 8 सालों से से लापता थीं को एएचटीयू टीम के प्रयास से  6 सितंबर, 2020 को उनके माता-पिता के सुपुर्द किया गया। 10 साल बाद परिवार से मिली राजस्थान की बेटी एक लड़की, जो राजस्थान के जिला झालावाड़ से पिछले 10 वर्षों से लापता थी को 22 सितंबर को उसके परिवार को सौंप दिया गया। जब यह गुम हुई तो उस समय इसकी उम्र केवल 6 साल थी व गांव का नाम बताने में असमर्थ थी।
           
इसी प्रकार, लगभग 30 साल की एक महिला, जो उत्तर प्रदेश के लखनऊ से लापता हो गई थी को 17 सितंबर, 2020 को कानूनी प्रक्रिया अनुसार उसके परिवार के सुपुर्द कर दिया गया।पुलिस महानिदेशक, अपराध, मोहम्मद अकील ने एएचटीयू टीम द्वारा किए गए प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह लापता बच्चों को उनके परिजनों से मिलवाने में अहम भूमिका अदा कर रही है। उन्होने कहा कि एएचटीयू की टीमें हर संभावित संकेत पर एक-एक गुमशुदा बच्चे की खोजबीन कर उन्हे परिजनों से मिलवाने की पूरी कोशिश कर रही हैं।  

Related posts

फ़ैक्ट्री मालिक को गमछा से गला घोंट कर, सिर में गहरी चोट मार लूटने वाले फैक्ट्री के एक नौकर सहित 4 डकैत अरेस्ट।

Ajit Sinha

हरियाणा सरकार ने लिया फैसला ग्रुप बी, सी और डी के 50 प्रतिशत कर्मचारी ही कार्यालयों में, बाकि घरों से कार्य करेंगे ।

Ajit Sinha

एचसीएल कंपनी में ट्रेनी इंजीनियर ने 11वें फ्लोर से लगाई छलांग, जेब से मिला मराठी भाषा में लिखा सुसाइड नोट।

Ajit Sinha
//vekseptaufin.com/4/2220576
error: Content is protected !!