Athrav – Online News Portal
अपराध फरीदाबाद

फरीदाबाद: ग्रीन फील्ड में डिप्रेशन चल रही नाबालिग लड़की का जीवन मेडिकल स्टोर के स्टाफ ने नींद की गोलियां देकर खतरे डाला।


अजीत सिन्हा की रिपोर्ट
फरीदाबाद: ग्रीन फील्ड में डिप्रेशन में चल रही एक नाबालिग लड़की की मेडिकल स्टोर पर काम करने वाले एक स्टाफ की वजह से उसकी जीवन खतरे में पड़ गई, और उसे नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया, तीसरे दिन उसकी तबियत ठीक होने के बाद, निजी अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया, मामला अभी ग्रीन फील्ड पुलिस चौकी में पेंडिग हैं, इस मामले में 30000 रूपए लेनदेन की बात चर्चा में हैं। यह बात एनआईटी डीसीपी नरेंद्र कादियान की जानकारी में दे दी गई हैं, ताकि इस केस में सही जांच हो सकें, वही, लड़की का जीवन खतरे में डालने के खिलाफ सही कार्रवाई हो सकें।ग्रीन फील्ड चौकी इंचार्ज नरेंद्र कुमार का कहना हैं कि इस घटना की शिकायत तो उनके पास हैं, पर 30000 रूपए पुलिस ने मांगी गई हैं,ये तो सरासर गलत हैं, बकवास हैं। जिस आइओ के पास ये केस हैं वह तो अभी छुट्टी पर हैं। उसके आने के बाद इस केस की बारीकी से जांच की जाएगी, और इसमें जो भी आरोपित होगा हैं, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस प्रकरण की जानकारी सीनियर ड्रग इंस्पेक्टर करण गोदारा को भी दे दी गई हैं, वह बोले की इस वक़्त वह दिल्ली में हैं पर वह पता करवा लेता हूँ। इस मामले में जब डीसीपी सेंट्रल पूजा वशिष्ट से बातचीत की गई की, तो उन्होंने कहा कि आजकल नए उम्र की लड़कियां गलत कदम उठा रही हैं,छोटी- छोटी बातों पर अपने जीवन को खतरे में डाल रही हैं, के जवाब में उनका कहना हैं कि लड़कियों के साथ होने वाली घटनाओं के प्रति वह लोग जागरूकता अभियान चलाते ही रहते हैं। इसमें बच्चे के माता-पिता को भी चाहिए की अपने बच्चों के साथ मित्रता जैसा व्यवहार करे,ताकि लड़की हो या लड़का अपने माता-पिता,भाई -बहनों , दोस्तों से अपनी सारी बातें शेयर करे , ताकि अच्छे बुरे की जानकारी का पता चल सकें, इसमें कोई गंभीर बात हो, तो वह पुलिस को कॉल करे ,डायल 112 पर कॉल करें, ताकि वक़्त रहते आने वाली परेशानियों को खत्म किया जा सकें , महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए महिला थाना हैं , और कई अभियान भी चलाया हुआ हैं। उन्होनें ये भी कहा कि माता-पिता अपने बच्चों को अकेले अपने घरों के कमरे में न छोड़े, और बदलते समय के अनुसार सुरक्षित तरीके से चलें।

खबर के मुताबिक तीन दिन पूर्व ग्रीन फील्ड में ओमेक्स के मार्केट में स्थित एक मेडिकल स्टोर के स्टाफ के साथ मारपीट हुई थी, इसमें हमलावर व मेडिकल स्टोर पर काम करने वाले स्टाफ के भी सिर चोट लगने की खबर हैं। इस दौरान वहां पर लोगों की भीड़ भी एकत्रित हो गई और ये मामला ग्रीन फील्ड पुलिस चौकी में पहुँच गई, और अभी ये केस पुलिस चौकी में पेडिंग हैं। जब इस खबर की छानबीन की गई तो पता चला की एक लड़की जोकि नाबालिग हैं , की उम्र करीब 13 -14 वर्ष हैं। उसकी अपने घर में अचानक ज्यादा तबियत ख़राब हो गई, उसे नजदीक के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस दौरान परिजन को पता चला की कि इस लड़की ने नींद की कई गोलियां एक साथ खा ली हैं, जिसकी वजह से उसकी हालात ज्यादा ख़राब हो गई। परिजन को मोबाइल फोन से उस शख्स का फोन नंबर मिला, पर मेडिकल स्टोर का नाम नहीं मिला ,जो लड़की को नींद की गोलियां चोरी छिपे उपलब्ध करता था, वह भी बिना डॉक्टर के पर्ची के, जो कानूनी नियम के अनुसार नहीं दे सकता हैं, ये गोलियां दुकान पर नहीं देता था, बल्कि एसओएस बालग्राम के नजदीक पहुंचा कर देता था। जानकारी के अनुसार परिजन ग्रीन फील्ड में जितने भी मेडिकल स्टोर हैं, के पास जाकर मिले नंबर पर कॉल करता था,और वह जब ओमेक्स के नजदीक एक मेडिकल स्टोर के बाहर से कॉल किया तो वहां मोबाइल फोन की घंटी बजने लगी ,परिजन मेडिकल स्टोर पर मौजूद लोगों से भीड़ गए। इस दौरान दोनों पक्षों को चोटें लगी हैं,पीड़ित पक्ष डायल 112 पर फोन करके पुलिस को बुला ली, और मामला ग्रीन फील्ड पुलिस चौकी में पहुंच गई। इसके बाद ये चर्चा पूरे ग्रीन फील्ड में फ़ैल गई की पुलिस ने मेडिकल स्टोर वाले से 30000 रूपए मांगे हैं, इसे लेकर पीड़ित पक्ष और आरोपित पक्ष के बीच असमंजस फैलने की खबर हैं, की पुलिस ने 30000 रूपए आखिर क्यों मांगे हैं, क्या ये पैसा पीड़ित पक्ष को मिलेगा,या पुलिस अपने पास रखेगी, इस पर स्थिति साफ़ कैसे हो, इसके लिए “अथर्व न्यूज़” ने एनआईटी डीसीपी नरेंद्र कादियान से संपर्क किया गया , जिसके बाद ग्रीन फील्ड पुलिस चौकी इंचार्ज नरेंद्र कुमार ने बताया कि अभी इस केस का आइओ छुट्टी पर हैं,उसके पिता जी बीमार हैं ,पर इतना जरूर हैं ,कि पुलिस ने किसी से भी एक रुपया नहीं मांगे, जो लोग ये कह रहे हैं , वह बिल्कुल गलत कह रहे हैं, और सरासर गलत कह रहे हैं, इस रहस्य पर से पर्दा इस केस के आइओ के आने बाद ही उठेगा, अभी ये मामला ग्रीन फील्ड पुलिस चौकी पेंडिंग हैं.आज कल छोटी- छोटी बातों पर घरों के बच्चे गलत कदम उठा रहे हैं,जरा भी अपने अपने माता -पिता के बारे में नहीं सोचते हैं कि उन पर क्या बीतेगा, क्यूंकि ग्रीन फील्ड में इससे पहले भी एक होनहार लड़की आत्महत्या कर ली थी।

Related posts

एक फ्लैट के अंदर अकेली रह रही एक बुजुर्ग महिला की गला रेत कर हत्या, पुलिस कार्रवाई में जुटी।

Ajit Sinha

फरीदाबाद : भारतीय सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति ए.के. सीकरी ने आज सैक्टर-12 जिला न्यायालय परिसर में नवनिर्मित अतिरिक्त न्यायालय भवन का उद्घाटन किया

Ajit Sinha

पलवल ब्रेकिंग:कांग्रेस नेता महावीर बड़गुज्जर आम आदमी पार्टी में शामिल।

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//maithigloab.net/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x