Athrav – Online News Portal
हरियाणा

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मनोज यादव ने सीआईडी द्वारा विकसित सुरक्षा एप्लिकेशन की लॉन्च 

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
चंडीगढ़:हरियाणा गुप्तचर विभाग (सीआईडी) द्वारा टेक-सेवी पुलिसिंग की तरफ एक और कदम बढाते हुए राज्य मे पोजीशनल और नोन-पोजीशनल सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों की प्रभावी ऑडिट सुनिश्चित करने के लिए “एचएपीएसएपी” (हरियाणा पुलिस सिक्यिोरिटी एप्लीकेशन) विकसित की गई है। पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मनोज यादव द्वारा पुलिस मुख्यालय में इस एप्लीकेशन को लांच किया गया। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक सीआईडी, अनिल कुमार राव के कुशल मार्गदर्शन में सीआईडी द्वारा विकसित की गई इस एप्लीकेशन की लांचिग अवसर पर डीजीपी अपराध, पी. के. अग्रवाल, एडीजीपी आईटी  ए.एस. चावला, एडीजीपी सीएडब्ल्यू  अजय सिंघल, एडीजीपी आधुनिकीकरण एवं कल्याण श्रीकांत जाधव, आईजी सुरक्षा  सौरभ सिंह, आईजी सीएमएफएस  राजिंदर कुमार, डीआईजी  राकेश कुमार आर्य,  सतेन्द्र गुप्ता,  मनीष चाौधरी और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।
 
एप्लीकेशन बारे जानकारी देते हुए, आईजी सुरक्षा,  सौरभ सिंह ने बताया कि इस प्रणाली से पोजीशनल और नोन-पोजीशनल सुरक्षा में तैनात कर्मियों का डेटाबेस व अन्य विवरण प्राप्त करने में आसानी होगी। यह एप्लीकेशन सुरक्षा अधिकारियों के साथ-साथ प्रोटक्टीज़ के डेटाबेस डिजिटलीकरण के लिए एक प्रभावी निगरानी उपकरण के रूप में भी कार्य करेगा। इसके अतिरिक्त, इसका उद्देश्य प्रोटक्टीज़ के साथ सुरक्षाकर्मियों की तैनाती का प्रभावी ढंग से पता लगाने के लिए एक व्यापक और एकीकृत प्रणाली को विकसित करना है। इससे राज्य पुलिस लाभान्वित होगी क्योंकि एक क्लिक के माध्यम से पुलिसकर्मियों की तैनाती से संबंधित जानकारी उपलब्ध हो सकेगी।

सीआईडी वेल्फेयर कमेटी की बैठक का आयोजन

इससे पहले सीआईडी वेल्फेयर कमेटी की एक बैठक आयोजित की गई थी जिसकी अध्यक्षता सीआईडी प्रमुख श्री अनिल कुमार राव ने की। विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा, सभी सीआईडी इकाइयों और जिलों के प्रतिनिधियों ने बैठक में भाग लिया और विभिन्न कल्याण उपायों की शुरूआत और मजबूती के लिए अपने विचार और सुझाव रखे। सीआईडी प्रमुख श्री अनिल कुमार राव ने कहा कि बैठक में लिए गए निर्णय पुलिस कर्मियों को और अधिक सहायता प्रदान करने में सहायक हो सकेगें। सीआईडी में तैनात पुलिस कर्मियों के तीन मेधावी छात्रों को सम्मानित करने का निर्णय लिया गया। इनमें 2018 में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान परीक्षा में 110वां रैंक हासिल करने वाली ईएएसआई जयपाल (सीआईडी रेवाड़ी) की पु़त्री सुश्री आरती, 2018 में एम्स परीक्षा में 8 वां रैंक प्राप्त करने वाली ईएएसआई सुरेंद्र सिंह (सीआईडी नारनौल) की पुत्री उषा और 2018-19 में सीबीएसई द्वारा आयोजित 10 वीं की परीक्षा में 97.6 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली सिपाही संजयपाल की पुत्री तमन्ना जडवाल शामिल हैं.



यह भी निर्णय लिया गया कि पुलिस कर्मियों को रोडवेज बसों में राज्य से बाहर मुफ्त यात्रा की सुविधा प्रदान करने के संबंध में परिवहन विभाग के उच्च अधिकारियों के साथ बातचीत की जाएगी। वेल्फेयर कमेटी ने कैंटीन स्टोर डिपार्टमेंट (सीएसडी) की तर्ज पर पुलिसकर्मियों को पुलिस कैंटीन में सुविधा प्रदान करने के लिए सिद्धांत रूप में सहमति व्यक्त की। इस आशय बारे राज्य सरकार से अनुरोध किया जाएगा। इस अवसर पर एसपी लॉ एंड ऑर्डर  दीपक गहलावत, एसपी सुरक्षा,  हामिद अख्तर और पंकज नैन, एआईजी वेलफेयर  विनोद कुमार, एसपी धीरज सेतिया और डीएसपी सीआईडी मुख्यालय श्रीमती पूर्णिमा सिंह भी उपस्थित थे। 

Related posts

हरियाणा पुलिस की एक और महत्वपूर्ण उपलब्धि:यौन अपराधों की जांच में ऑल इंडिया रैंकिंग में हासिल किया दूसरा स्थान

Ajit Sinha

मैं हूं 25 वर्षो से फरीदाबाद का चौकीदार, भाजपा का चौकीदार भ्रष्टाचार में लिप्त : अवतार भड़ाना

Ajit Sinha

हिसार :क्षेत्रवाद और जातिवाद से हरियाणा की राजनीति को सिर्फ जननायक चौधरी देवीलाल की नीतियां उबार सकती हैं : दुष्यंत चौटाला

Ajit Sinha
//tauphaub.net/4/2220576
error: Content is protected !!