Athrav – Online News Portal
अपराध फरीदाबाद

लोन दिलाने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश साइबर थाना सेंट्रल ने 3 आरोपितों को किया अरेस्ट।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
फरीदाबाद: आजकल के आधुनिक युग में जहां हर प्रकार की सुविधाएं घर बैठे ऑनलाइन प्राप्त की जा सकती हैं, वही कुछ अपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्ति इसका गलत फायदा उठाकर साइबर ठगी की वारदातों को अंजाम देते हैं। अपराधिक प्रवर्ति के व्यक्ति मोबाइल पर लोगो को घर बैठे ऑनलाइन बिजनेस करके अच्छा कमीशन देने का लालच देकर लोगों के मेहनत की कमाई को हड़प लेते है। इसी प्रकार से साइबर ठगी की वारदात को अंजाम देने वाले  गिरोह का पर्दाफाश करते हुए साइबर अपराध थाना सेंट्रल की टीम ने तीन आरोपितों  को अरेस्ट किया है। इस मामले में अभी जांच जारी है जिसमें अन्य आरोपितों  को भी अरेस्ट किया जाएगा।

पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि अरेस्ट किए गए आरोपितों  में विशाल, अंकित तथा उदित उर्फ गोपी का नाम शामिल है। आरोपित अंकित और उदित उर्फ गोपी उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले के लोनी के तथा विशाल दिल्ली के राजा बाजार का रहने वाला है। आरोपितों  ने फरीदाबाद के रहने वाले प्रेमचंद के मोबाइल से बात कर इंडिया फर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस पालिसी करवाने पर आदित्य बिरला कैपिटल से 1500000/- रुपए का लोन दिलाने के नाम पर अपने फर्जी खाते में 26 फरवरी को 75 हजार व 28 फरवरी को भी 75 हजार रुपए डलवा कर धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम दिया। आरोपितों  इस बीच उनसे कई बार संपर्क करने की कोशिश करता रहा। पीड़ित ने 19 जुलाई को इसकी शिकायत साइबर थाने में दी जिसके आधार पर आरोपितों  के खिलाफ धोखाधड़ी की कई धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू की गई।

डीसीपी नीतीश कुमार अग्रवाल ने मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए आरोपितों  की धरपकड़ के निर्देश दिए जिसके तहत सहायक पुलिस आयुक्त विनोद कुमार की देखरेख में निरीक्षक सतीश कुमार प्रबंधक थाना साइबर अपराध सेंट्रल के नेतृत्व में सहायक उप निरीक्षक प्रमोद, पी -सब इंस्पेक्टर तरुण, मोहित, सहायक उप निरीक्षक  हरकेश, मुख्य सिपाही संदीप, सिपाही कृष्ण, सिपाही कर्मवीर, सिपाही लक्ष्मण, राकेश,  परमिंदर व शमशेर की टीम का गठन किया जो उपरोक्त साइबर टीम ने साइबर तकनीक का प्रयोग करके मामले में शामिल तीनों आरोपितों  को गाजियाबाद के वैशाली में कॉल सेन्टर चलाते हुए अरेस्ट  कर लिया। आरोपितों को अदालत में पेश करके 2 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया था। आरोपितों  से 5 मोबाइल फोन व सिम कार्ड सहित 39000/- रुपए नकद बरामद हुए है।  पूछताछ के दौरान आरोपितों  से फरीदाबाद में सेक्टर-29 में रहने वाले अपूर्व सिंह के साथ भी व  एक अन्य 7.1 लाख रुपए की वारदात का खुलासा किया। जिसमें आरोपितों  को अदालत में पेश कर उपरोक्त केस मे 1 दिन के पुलिस रिमांड पर लेकर मामले में पूछताछ की गई है। आरोपितों  से पीडित अपूर्व सिंह के मामले में 42 हजार रुपए बरामद हुए है। आरोपित  अपने व्हाट्सएप व ट्रूकॉलर का आइकन आदित्य बिरला कैपिटल का लगाकर रखते थे। आरोपितों से पूछताछ में सामने आया कि आरोपितों अपने कॉल सेंटर का स्थान पुलिस से बचने के लिए बदलते रहते है। आरोपितों ने पीडित प्रेंमचन्द के साथ धोखाधड़ी की वारदात को दिल्ली के मोती नगर में तथा आरोपित अपूर्व सिंह के साथ गाजियाबाद के वैशाली में अंजाम दिया था। आरोपित धोखाधडी के मामलों को करीब डेढ़ साल (18 महिने )से अंजाम दे रहे है। जिसमें करीब 50-60 लाख रुपए का लेन देन कर चुके है।  पुलिस रिमांड पूरा होने के पश्चात आरोपितों  को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया वहीं मामले में अभी जांच जारी है और इसमें शामिल अन्य आरोपितों  को भी अरेस्ट किया जाएगा।

Related posts

ब्रेकिंग न्यूज़: फरीदाबाद स्टेट विजिलेंस ने आज DHBVN के वाणिज्यिक लेखाकार अधिकारी को 26000 रूपए रिश्वत लेते किया अरेस्ट

Ajit Sinha

फरीदाबाद:कॉलेज के विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा देने का काम करें लैक्चरार : कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा

Ajit Sinha

मुख्यमंत्री उड़नदस्ता ने एक डिपो होल्डर के यहां निरीक्षण के दौरान बाजार में बेचने के लिए रखे 400 क्विंटल गेहूं पकडे , केस दर्ज

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//oupusoma.net/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x