Athrav – Online News Portal
अपराध दिल्ली नई दिल्ली

हरियाणा राज्य चौकसी ब्यूरो द्वारा सरकार के आदेशों पर फरवरी, 2022 के दौरान दो नई जांचें दर्ज की गई हैं।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
चंडीगढ़:हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस नीति पर कार्य करते हुए राज्य चौकसी ब्यूरो द्वारा सरकार के आदेशों पर फरवरी, 2022 के दौरान दो नई जांचें दर्ज की गई और इसके अलावा,ब्यूरो ने 15 जांचें पूरी कर अंतिम रिपोर्ट सरकार को भेज दी। ब्यूरो के एक प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि ब्यूरो ने इनमें से चार जांचों में चार राजपत्रित अधिकारियों,7 अराजपत्रित अधिकारियों तथा सात प्राइवेट व्यक्तियों के विरुद्ध आपराधिक मुकदमा दर्ज करने का सुझाव दिया है। इसी प्रकार, दो जाचों में दो अराजपत्रित अधिकारियों के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई करने की सिफारिश की है तथा एक जांच में एक राजपत्रित अधिकारी व एक अराजपत्रित अधिकारी के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई व आपराधिक मुकदमा दर्ज करने तथा दो प्राइवेट व्यक्तियों के विरुद्ध आपराधिक मुकदमा दर्ज करने का सुझाव दिया है।

प्रवक्ता ने बताया कि इसके अलावा ब्यूरो द्वारा तीन विशेष चेकिंग/तकनीकी जांच की रिपोर्ट भी सरकार को भेजी गई, जिसमें संबंधित 2 कार्यों में तीन राजपत्रित अधिकारियों, दो अराजपत्रित अधिकारियों तथा संबंधित एजेंसी से 16,84,573 रुपये वसूलने की सिफारिश की गई। प्रवक्ता ने बताया कि इसी अवधि के दौरान जिन 12 अधिकारियों,कर्मचारियों व उनके सहयोगियों को 1,000 रुपये से 1,40,000 रुपये तक की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर उनके विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम,1988 के तहत मामले दर्ज किए गए, उनमें नगर निगम, फरीदाबाद के अधीक्षक अभियंता रवि शर्मा व लेखाकार रविशंकर को 1,40,000 रुपये, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग,

फरीदाबाद के वजन एवं मापन अनुभाग के निरीक्षक राजबीर सिंह को 60,000 रुपये, केन्द्रीय सहकारी बैंक बाटा, पलवल के शाखा प्रबंधक उजेन्द्र सिंह को 25,000 रुपये, दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम, छायंसा, फरीदाबाद के लाइनमैन, मान सिंह को 26,000 रुपये, हरियाणा परिवहन जींद के नाजर भगवान को 10,000 रुपये, चीका, कैथल के थाना प्रबंधक, निरीक्षक जयवीर को 5,000 रुपये, दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम,पलवल के एएलएम, हरि ओम को 5,000 रुपये, नगर निगम, गुरुग्राम के लिए सर्वेक्षक का कार्य कर रहे मैसर्ज याशी कंसल्टिंग सर्विस प्राईवेट लिमिटेड की अंशु पराशर को 2,000 रुपये, केन्द्रीय थाना फरीदाबाद के उप-निरीक्षक जय चन्द को 1,000 रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़ा जाना शामिल है।  इसके अलावा, ब्यूरो ने शिकायत के आधार पर थाना सदर नूंह के सहायक उप-निरीक्षक महेश व एसडीएम कार्यालय रादौर के सेवानिवृत्त लिपिक रणजीत सिंह के विरुद्ध शिकायत के आधार पर मामले दर्ज किए गए हैं।

Related posts

सामाजिक कार्यकर्ता पर गोली चला कर कातिलाना हमला करने के सनसनखेज मामले में 7 आरोपित अरेस्ट।

Ajit Sinha

उत्तर प्रदेश में बीजेपी एक बार पुनः प्रचंड एवं ऐतिहासिक जीत दर्ज करने जा रही है, इस बार फिर भाजपा 300 पार- नड्डा

Ajit Sinha

केजरीवाल सरकार ने राजधानी के स्कूलों के लिए जारी की नई असेसमेंट गाइडलाइन्स।

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//nossairt.net/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x