Athrav – Online News Portal
अपराध फरीदाबाद हरियाणा

एटीएम कार्ड बदलकर ठगी करने वाले 3 आरोपितों को स्टेट क्राइम ब्रांच की एंटी एटीएम फ्रॉड सेल, फरीदाबाद ने किया अरेस्ट।


अजीत सिन्हा की रिपोर्ट
चंडीगढ़:एटीएम कार्ड बदलकर ठगी करने वाले तीन आरोपितों को स्टेट क्राइम ब्रांच की एंटी एटीएम फ्रॉड सेल, फरीदाबाद ने अरेस्ट किया है। आरोपितों के पास से पुलिस ने 2 लाख 34 हज़ार रूपए बरामद किए है। आरोपित मदद करने के बहाने एटीएम बदल देते थे और बाद में एटीएम से शॉपिंग व पीओएस मशीन के द्वारा पैसे निकाल लेते थे। घटना का खुलासा करते हुए पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि 2 साल पुराने इस केस का खुलासा एंटी एटीएम फ्रॉड सेल, फरीदाबाद टीम ने किया है। आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया फरीदबाद निवासी महिला दिसंबर 2020 में रूपए निकलवाने के लिए सेक्टर- 23 फरीदाबाद के एटीएम में गई थी जहाँ पैसे निकालने के दौरान एटीएम कार्ड फंस गया था। इसी दौरान तीन लड़के मदद करने के बहाने आए और बातचीत के दौरान एटीएम कार्ड बदल दिया। पीड़िता को इस दौरान कुछ पता नहीं चला। शिकायत में बताया गया कि जनवरी महीने में जब महिला बैंक में कॉपी में एंट्री करवाने गई तो पता चला की उसके खाते से तक़रीबन 5 लाख 55 हज़ार 684 रूपए धोखाधड़ी में निकाले गए है। ठगी का पता चलने पर स्थानीय पुलिस द्वारा थाना मुजेसर, फरीदाबाद में केस दर्ज किया गया। हालांकि स्थानीय पुलिस के प्रयासों के बावजूद भी किसी प्रकार की ख़ास सफलता ना मिलने के कारण केस को मार्च 2021 में अनट्रेस घोषित कर दिया गया। पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि स्टेट क्राइम ब्रांच चीफ ओ पी सिंह,आईपीएस अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के आदेशों के बाद उक्त केस की ज़िम्मेदारी स्टेट क्राइम ब्रांच की एंटी फ्रॉड एटीएम इन्वेस्टीगेशन सेल फरीदाबाद यूनिट को दी गई। अनुसन्धान अधिकारी एएसआई शीतल शर्मा ने उक्त केस में कार्रवाई करते हुए पहले शिकायतकर्ता से बातचीत की और केस के अलग अलग पहलुओं को समझा। इसके बाद पॉइंट ऑफ़ सेल से जहाँ जहाँ पैसे गए है वहां से बैंक द्वारा जानकारी पता करवाई गई। सीसीटीवी फुटेज और गवाहों के आधार पर आरोपित गोवर्धन निवासी जिला पलवल को अरेस्ट किया गया। आरोपित गोवर्धन ने पूछताछ में अपने दो साथियों , क्रमशः कृष्ण और लक्ष्मण का नाम बताया और कहा की ठगी करने के बाद उन्होंने एटीएम कार्ड नष्ट कर दिया था। आरोपित गोवर्धन से पुलिस द्वारा 92500 रुपए बरामद किए गए। टीम द्वारा अन्य आरोपितों कृष्ण पुत्र योगेंद्र और लक्ष्मण उर्फ़ लच्छी को अरेस्ट किया गया। आरोपित कृष्ण ने बताया कि उसने अपने हिस्से के 1.70 लाख में से डेढ़ लाख घरेलु सामान में खर्च कर दिए थे। पुलिस द्वारा आरोपित कृष्ण से 17500 और लक्ष्मण से 24500 रुपयों की बरामदगी की गई। इसके अलावा कोर्ट से ज़मानत के समय स्टेट क्राइम ब्रांच द्वारा ऑब्जेक्शन लगाने के कारण कोर्ट आदेशों से आरोपितों को 1 लाख रूपए बरामदगी कि गई। तीनों आरोपितों को अरेस्ट कर कोर्ट में पेश कर दिया गया है। टीम में एएसआई शीतल, एएसआई मनमोहन, मुख्य सिपाही अमित व सिपाही महेंद्र शामिल रहे। पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि ऐसे ही एक अन्य केस में ओमप्रकाश निवासी यूपी, जो की वर्तमान में फरीदाबाद जिले में रह रहा है और एक राजमिस्त्री का काम करता है। 13.01.2022 को वह अपने भाई का एटीएम लेकर पैसे निकलवाने गया लेकिन मशीन से पैसे नहीं निकले। इसी दौरान एक 26 वर्षीय युवक ने मदद करने के बहाने उसका एटीएम बदल दिया। घर आकर पीड़ित ने जैसे ही फ़ोन देखा तो पता चला कि उसके खाते से 58000 रूपए निकाले गए है। पीड़ित ने उपरोक्त बाबत अपनी शिकायत सूरजकुंड थाने, फरीदाबाद में दी जहाँ पर स्थानीय पुलिस ने केस दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू की। स्थानीय पुलिस द्वारा उक्त केस में सीसीटीवी फुटेज और बैंक स्टेटमेंट प्राप्त की गई लेकिन किसी प्रकार का सुराग न मिलने पर केस में अनट्रेस रिपोर्ट लिखी गई। उच्चाधिकारियों के आदेशों से जुलाई 2022 में केस को स्टेट क्राइम ब्रांच को सौंपा गया जहाँ केस की ज़िम्मेदारी अनुसन्धान अधिकारी एएसआई शीतल को दी गई। अनुसन्धान अधिकारी ने 2017 से अब तक एटीएम ठगी में शामिल रहे आरोपितों की फोटो व जानकारी जुटानी शुरू कर दी। इसी दौरान बैंक द्वारा जानकारी प्राप्त की गई जहाँ से एक आरोपी संदीप तोमर निवासी उत्तर प्रदेश की जानकरी मिली। पता चला की आरोपी संदीप ने पेटीएम बैंक की स्वैप मशीन ली हुई थी जहाँ से पीड़ित के एटीएम से पैसे ट्रांसफर कर धोखधड़ी को अंजाम दिया गया है। पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस द्वारा सबूतों और गवाहों के आधार पर आरोपी संदीप को अरेस्ट किया गया। पूछताछ में आरोपित संदीप ने बताया कि उसने मशीन खरीदकर एक अन्य साथ मोहम्मद सहजाद उर्फ़ शाहिद निवासी दिल्ली को दे दी थी। जानकारी मिलने पर टीम द्वारा प्रोडक्शन वारंट जारी कर आरोपी सहजाद को अरेस्ट किया गया। आरोपित से 3000 रूपए की बरामदगी भी की गई। पूछताछ में मोहमद सहजाद उर्फ़ शाहिद ने बताया कि उसने , संदीप और एक अन्य साथी मोहम्मद सहजाद उर्फ़ आहिल निवासी गाज़ियाबाद यूपी के साथ मिलाकर पेटीएम बैंक कि कार्ड स्वैप मशीन खरीद कर इस ठगी को अंजाम दिया। पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए उन्होंने एटीएम कार्ड को भी नष्ट कर दिया था। पूछताछ में आरोपित संदीप ने बताया कि उसने मशीन खरीदकर दूसरे आरोपित आहिल को दी थी। हालांकि आरोपित आहिल फरार चल रहा है वहीँ संदीप तोमर व मोहम्मद सहजाद उर्फ़ शाहिद को अरेस्ट कर जेल भेज दिया गया है। आरोपी संदीप से तक़रीबन 1500 रूपए बरामद किए गए है।

Related posts

फरीदाबाद: विधायक राजेश नागर ने प्राणायाम सोसाइटी की आरडब्ल्यूए द्वारा पौधरोपण अभियान का किया शुभारम्भ

Ajit Sinha

परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा 190 बसों में से, 66 बसें गुरुग्राम, पलवल और फरीदाबाद जिलों में चलाई जाएंगी

Ajit Sinha

फरीदाबाद : ग्रीन फिल्ड कालोनी में अंकल प्रॉपर्टी कारोबारी राम प्रताप ग्रोवर ने 71 वें जन्म दिवस पर विशाल भंडारे का किया आयोजन।

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//teksishe.net/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x