Athrav – Online News Portal
Uncategorized राष्ट्रीय

मास्टमाइंड ने ओबामा को कहा ‘सांप का सिर,’ जेल से भेजी चिट्ठी

वॉशिंगटन : खुद को सितंबर 2001 में अमेरिका पर हुए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड बताने वाले खालिद शेख मुहम्मद ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा को पत्र लिखा है। खालिद ने इस पत्र में लिखा है कि 9/11 का हमला अमेरिकी विदेश नीति का नतीजा थी। खालिद ने लिखा है कि अमेरिका की विदेश नीति के कारण सैकड़ों निर्दोष लोग मारे गए। 18 पन्नों की इस चिट्ठी को खालिद ने ‘द हेड ऑफ द स्नैक, बराक ओबामा,’ यानी ‘सांप के सिर, बराक ओबामा’ का शीर्षक दिया है। खालिद ने इस शीर्षक में अमेरिका की तुलना ‘सांप’ से की है और उसने ओबामा को इस सांप का ‘सिर’ यानी सरगना (राष्ट्रप्रमुख) कहा है। अपनी चिट्ठी में खालिद ने अमेरिकी राष्ट्रपति को ‘दमन और उत्पीड़न करने वाले देश’ का प्रमुख बताया है।

डिफेंस अटॉर्नी डेविड नेविन ने इस पत्र की एक प्रति उपलब्ध कराई है। अभी तक इसे अमेरिकी सेना की वेबसाइट पर पोस्ट नहीं किया गया है। डेविड ने न्यूज एजेंसी AFP को बताया कि मुहम्मद ने इस पत्र को साल 2014 में लिखना शुरू किया था। इस चिट्ठी पर 8 जनवरी 2015 की तारीख डली हुई है, लेकिन अमेरिका पहुंचने में इसे दो साल लग गए। यह चिट्ठी जनवरी में ओबामा प्रशासन के आखिरी दिनों में वाइट हाउस पहुंची। खबरों के मुताबिक, अमेरिकी सेना के एक जज ने ग्वॉनटैनमो जेल शिविर को यह पत्र वाइट हाउस भेजने का निर्देश दिया था। खालिद इसी जेल में बंद है। पत्र में लिखा है, ‘सितंबर 2001 में हमने आपके खिलाफ युद्ध की शुरुआत नहीं की, आपने और आपके देश के तानाशाहों ने इस लड़ाई को शुरू किया।’

9/11 के दिन अल्लाह ने दिया हमारा साथ: खालिद
खालिद ने लिखा है कि 9/11 के दिन अल्लाह खुद उन हाइजैकर्स के साथ था, जब हवाई जहाजों ने न्यू यॉर्क स्थित ट्विन टावर्स, पेंटागन और पेंसिलवेनिया के एक मैदान को अपना निशाना बनाया। खालिद ने लिखा है, ‘9/11 को अंजाम देने में खुद अल्लाह ने हमारी मदद की। तुम्हारी पूंजीवादी अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने, तुम्हें शर्मिंदा करने और आजादी व लोकतंत्र के तुम्हारे पाखंड को सबके सामने लाने में ईश्वर ने हमारी मदद की।’ इस पत्र में खालिद ने अमेरिका द्वारा किए गए कई ‘क्रूर और नृशंस हत्याकांडों’ का जिक्र किया है। इनमें वियतनाम युद्ध से लेकर हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु हमला करने तक की कई घटनाएं गिनाई गई हैं, लेकिन इन सबसे बढ़कर खालिद ने फलिस्तीनी आबादी की तकलीफें और इजरायल को दिए जा रहे अमेरिकी समर्थन का कई बार जिक्र किया है।

Related posts

कांग्रेस की मोदी को चुनौती- अडानी-अंबानी के भ्रष्टाचार की जांच कराएं प्रधानमंत्री मोदी-लाइव वीडियो सुने

Ajit Sinha

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत सिंह नड्डा ने आज राष्ट्रीय कार्य समिति सदस्यों की घोषणा की हैं -लिस्ट पढ़े

Ajit Sinha

समान नागरिक संहिता पर बहस विधि आयोग के दायरे से बाहर : जदयू

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//soglaitsy.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x