Athrav – Online News Portal
दिल्ली नई दिल्ली राजनीतिक राष्ट्रीय

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष रहे राहुल गांधी ने आज आयोजित प्रेस कांग्रेस में क्या कहा -सुनिए इस वीडियो में।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
नई दिल्ली: रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज इस विशेष पत्रकार वार्ता में आप सबका स्वागत है। राहुल गांधी जी, एक अत्यंत गंभीर विषय को जिस प्रकार से सत्याग्राही किसानों के ऊपर षड़यंत्रकारी तरीके से हमला किया जा रहा है, उसको लेकर अपनी बात, देश की बात आपसे सांझा करने के लिए आपके बीच उपस्थित हैं। मैं उन्हें अनुरोध करुंगा कि वो अपनी बात आपको कहेंगे।

Rahul Gandhi said- Namaskar! Good Afternoon!

All of us are aware of what is going on with regard to the farmers protest. I just want to make a couple of things clear to the younger people, men and women of this country- It is important that you understand what these three laws are, so I am not going to repeat it.

The first law destroys the mandi system, destroys the agricultural markets of this country. The second law allows unlimited storage of grain and other materials and will make it practically impossible for our farmers to negotiate their prices. The third law basically says that if the farmers have grievance, they cannot go to court.

Now, it is very obvious, why the farmers are agitated, because the Government is destroying the livelihoods of India’s farmers. It is destroying the livelihoods of our labourers and it is going to give the middle class a shock in the coming times because the prices of food are going to skyrocket.

Now, what is being done to the farmers is absolutely criminal. You are beating them, you are threatening them, you are bullying them, and you are trying to discredit them. The Government needs to talk to the farmers. It needs to give a solution to the farmers and the only solution, as I have said again and again and again, is repealing these laws and putting the laws into the waste paper basket.

The Government must not think that the farmers are going to go home, they are not going to go home and my concern is that this situation is going to spread. We do not need this situation to spread, we need a conversation with the farmers and we need a solution, so that is broadly what I wanted to say.

राहुल गांधी ने कहा कि देश के युवाओं को मैं कहना चाहता हूं, ये जो तीन कानून हैं, इनको समझने की जरुरत है।

पहला कानून है – जो हिंदुस्तान के मंडी सिस्टम को, एग्रीकल्चर मार्केट्स को खत्म कर देगा, नष्ट कर देगा।

दूसरा कानून है – जिससे हिंदुस्तान के सबसे बड़े बिजनसमैन, 3-4-5 बिजनसमैन, जितना भी अनाज स्टोर करना चाहते हैं, जितना भी अनाज होर्ड (hoard) करना चाहते हैं, लाखों टन, वो भंडारण कर सकते हैं। अगर इनको ये इजाज़त दी गई, किसान दाम नेगोशियेट नहीं कर पाएगा।

और तीसरा कानून – सबसे अजीब कानून, कि किसान अपनी कठिनाई को कोर्ट नहीं ले जा सकता।

ये तीन कानून के लिए किसान दिल्ली के बाहर खड़े हैं और सरकार इनसे बात करने की बजाए, सिचुएशन को रिसॉल्व करने की बजाए, उनको धमका रही है, पीट रही है, एनआईए का प्रयोग कर रही है, उनको डिसक्रेडिट(discredit) करने की कोशिश कर रही है।

सरकार को एकदम इन तीन क़ानूनों को वापस लेना चाहिए, रद्द करना चाहिए। और आज जो हो रहा है, सिंधु बॉर्डर पर जो सरकार इन पर आक्रमण कर रही है, इनको मार रही है, ये बिलकुल गलत है।

अब आपके सवाल।

26 जनवरी को लाल किले में हुई घटना के संदर्भ में पूछे एक प्रश्न के उत्तर में श्री राहुल गांधी ने कहा कि आप मुझे एक बात बताइए, उन लोगों को रेड फोर्ट के अंदर किसने जाने दिया और क्यों जाने दिया? क्या होम मिनिस्ट्री का काम नहीं है कि रेड फोर्ट पर इनको नहीं जाना चाहिए, नहीं अलाऊ करना चाहिए? उसके लिए कौन जिम्मेदार है? सीधी सी बात है, उनको क्यों अंदर जाने दिया, किसने अंदर जाने दिया? होम मिनिस्टर से जाकर पूछिए और उसके पीछे क्या आइडिया था, किस प्रकार अलाऊ किया गया? वो भी पूछ लीजिए।

On a question about PM’s continued silence on the farmers issue & Red Fort violence, Shri Rahul Gandhi said- As I said in a speech in Kerala, this is the biggest transfer of wealth from the largest number of people to the smallest number of people. You have seen what has happened in Covid. During Covid, the Poor have got poorer and a handful of rich people, 5-6 rich people have just got richer and richer and richer and richer. This anger that you are seeing among the farmers, this is that anger that 5 people, 7 people have everything, we have nothing. और जो हमारा था, वो भी ले रहे हैं। तो प्रधानमंत्री क्या बोलेंगे? प्रधानमंत्री इन 5 लोगों के लिए काम करते हैं। उनके लिए नोटबंदी की, उनके लिए जीएसटी बनाई, उनके लिए किसानों से, मतलब, उनका भविष्य छीन रहे हैं, तो क्या बोलेंगे वो? कुछ बोलने को नहीं है।

मगर उनको ये नहीं लगना चाहिए कि किसान पीछे हट जाएंगे और मैं किसानों से कहना चाहता हूं- हम सब आपके साथ हैं, एक इंच पीछे मत हटिए, ये आपका भविष्य है, इसके लिए आप लड़िए और ये जो 4, 5, 10 लोग हैं, ये जो आपका सामान, आपका भविष्य चोरी करने की कोशिश कर रहे हैं, इनको आप नहीं चोरी करने दीजिए और हम आपकी पूरी मदद करेंगे। एक अन्य प्रश्न पर कि कल गाजीपुर में किसान नेता राकेश टिकैत ने आरोप लगाया है कि उस इलाके के बीजेपी विधायक गाडियों में आसपास घूम रहे हैं और लोगों को हमारे खिलाफ षड़यंत्र करने के लिए उकसा रहे हैं? राहुल गांधी ने कहा कि देखिए,ये ग़लतफ़हमी है बीजेपी को। इसमें अभी एक इशू है कि देश के किसानों को, मैंने केरल में, तमिलनाडु में बात की, देश के सभी किसानों को ये कानून अभी तक डेप्थ में समझ नहीं आए हैं। पंजाब में, हरियाणा में, यूपी में,राजस्थान में, इधर बात समझ आ गई है। प्रधान मंत्री को ये नहीं सोचना चाहिए कि ये आंदोलन यहाँ रुकेगा। ये आंदोलन, मैं बता रहा हूं, ये आंदोलन किसानों से शहरों के अंदर जाएगा। क्योंकि सिर्फ किसान गुस्सा नहीं है, हिंदुस्तान में अब लाखों-लाखों युवा हैं, जिनसे इन्हीं 5-10 लोगों ने,प्रधानमंत्री ने रोजगार छीना है। उनको भविष्य नहीं दिख रहा है। ये पूरा का पूरा आंदोलन शहरों में फैलेगा। मैं प्रधानमंत्री से कह रहा हूं, उससे नुकसान होने वाला है, देश का नुकसान होने वाला है। आप किसानों से बात कीजिए, इस सिचुएशन को रिसॉल्व कीजिए, इन कानूनों को वापस लीजिए, नहीं तो देश का नुकसान होगा। देखिए, ये जो इंस्टेबिलिटी (instab ility) है, इस इंस्टेबिलिटी से देश को फायदा नहीं हो रहा है, ठीक है। अन्याय किया है, अन्याय को ठीक किये बिना इंस्टेबिलिटी नहीं जाएगी। मगर मैं कह रहा हूं कि इंस्टेबिलिटी से फायदा नहीं है। बातचीत करनी है और इसको रिसॉल्व करना है, जल्दी से जल्दी करना है।

On a question about the pattern of BJP in dealing with JNU & the farmers agitation and the demand for resignation of Union Home Minister for his failure in handling the Red Fort incident, Rahul Gandhi said- I think, absolutely, the person, who has allowed this to happen should resign, but, there is no way, he is going to resign. I mean, the BJP doesn’t take responsibility for its actions, so I don’t expect him to resign. But, the whole idea is to discredit the farmers. Look, this is a genuine voice and it is the voice of India that is speaking .ये देश की आवाज है, प्रधानमंत्री को सुननी ही पड़ेगी और मैं बता रहा हूं, अगर नहीं सुनेंगे, ये फैलेगा। ये बाकी प्रदेशों में जाएगा, इसको आप स्प्रेस नहीं कर सकते। मेरा काफी एक्सपीरियंस है, 15 साल पॉलिटिक्स का एक्सपिरियंस है, इसको आप स्प्रेस नहीं कर सकते, ये फैलेगा और जोरों से फैलेगा। एक अन्य प्रश्न पर कि ऐसा कहा जा रहा है की आज पुलिस की मौजूदगी में भाजपा समर्थक कुछ लोगों द्वारा हिंसा हुई है राहुल गांधी ने कहा कि एक बात बताइए,किसान वहाँ महीनों से यहाँ खड़े हैं। 10-15 लोग तो नहीं हैं ना, लाखों लोग हैं, तो कुछ ना कुछ तो होगा। कुछ ना कुछ तो इनकी फीलिंग होगी, इनका दर्द होगा। ये सब के सब, मतलब, लाखों लोग बस ऐसे ही खड़े हुए हैं क्या, बिना कोई कारण? कोई ना कोई कारण तो है! सिंपल कारण है, आप इनका भविष्य इनसे छीन रहे हो। आप हिंदुस्तान के एग्रीकल्चर सिस्टम को तोड़ रहे हो। आप अपने दो-तीन मित्रों को पूरा हिंदुस्तान का एग्रीकल्चर सिस्टम पकड़ा रहे हो और आपको लगता है कि किसान कुछ नहीं करेंगे। अगर आपके घर में रात को चोर आए, आप उसको रोकने की कोशिश

Related posts

शराब घोटाले का मास्टरमाइंड दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ईडी की जांच से भागे- बीजेपी को सुने लाइव वीडियो में

Ajit Sinha

विपक्ष की भूमिका निभाने की बजाय बीजेपी की बी-टीम की तरह काम करती रही इनेलो – दीपेन्द्र हुड्डा

Ajit Sinha

अजय माकन ने आयोजित प्रेस कांफ्रेस में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पर जमकर हमला बोला-लाइव वीडियो सुने।

Ajit Sinha
//nutchaungong.com/4/2220576
error: Content is protected !!