Athrav – Online News Portal
अंतर्राष्टीय गुडगाँव वीडियो

एक करोड़ की सुपारी देकर अपने ससुर की गोली मार कर हत्या करवाई थी, दामाद सहित 3 अरेस्ट देखें वीडियो  

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
गुरुग्राम: अपने ही ससुर की सुपारी देकर हत्या करवाने वाले आरोपित दामाद व गोली मारने वाले दो  आरोपित  सहित तीन  आरोपितों  को अपराध शाखा, पालम विहार की पुलिस ने गिरफ्तार किया हैं। हत्या कराने का कारण आरोपित व उसकी पत्नी के बीच झगङा होने पर ससुर द्वारा आरोपित दामाद के साथ की थी मारपीट, जिसकी रंजीश रखते हुए आरोपित दामाद ने 1 करोङ रुपयों की सुपारी देकर कराई थी अपने ससुर की हत्या। यह मुकदमा 26 जनवरी 2019 को थाना बादशाहपुर दर्ज किया गया था।यह खुलासा आज एसीपी क्राइम प्रीतपाल सांगवान ने अपने कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में किया। 

एसीपी क्राइम प्रीतपाल सांगवान का कहना हैं कि दिनांक 26 जनवरी 2019 को थाना बादशाह पुर में एक टेलिफोन आर्टीमिस हस्पताल,गुरुग्राम से हरपाल निवासी गांव फाजिलपुर झाडसा की गोली लगने के कारण मौत होने के सम्बन्ध में प्राप्त हुआ। इस सूचना पर थाना बादशाहपुर की पुलिस टीम आर्टीमिस हस्पताल पहुंची जहां पर पुलिस टीम द्वारा मृतक हरपाल निवासी गांव फाजिलपुर,गुरुग्राम का डेड रुक्का व एमएलसी  प्राप्त की। इसी दौरान आर्टीमिस हस्पताल Emergency Ward में जसवन्त सिंह, निवासी गांव फाजिलपुर (झाडसा), गुरुग्राम ने पुलिस टीम को एक लिखित शिकायत के माध्यम से बतलाया कि बीते 26 जनवरी 2019 को समय करीब 8.40 पीएम पर उसके पास इसके गांव से फोन द्वारा सूचना मिली कि उसके  भाई हरपाल को गोली लगी है जिसे ईलाज के लिए आर्टीमिस होस्पिटल लेकर गए है। सूचना  पाकर यह आर्टीमिस हस्पताल पहुंचा जहां पर उसे उसके भाई हरपाल की बेटी ने बतलाया कि वह और उसके पिताजी हरपाल प्लाट से घर को जा रहे थे तो दो मोटरसाईकिल पर सवार होकर कुछ लोग आए और उसके साथ झगडा करने लगे व उसके पिता हरपाल को गोली मारकर भाग गए। इसके बाद वहां से गुजर रहे लोगों ने उसके पिताजी को होस्पिटल लेकर चले गए। हस्पताल पहुचंते-2 उसके भाई हरपाल की गोली लगने से मौत हो गई।

उनका कहना हैं कि इस शिकायत पर थाना बादशाहपुर थाने में कानून की उचित धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। इस केस की आगे की कार्रवाई की जिम्मेदारी अपराध शाखा , पालम विहार के इंचार्ज बिजेंद्र हुड्डा को सौपी गई थी। उनका कहना हैं कि इसके लिए इंचार्ज बिजेंद्र हुड्डा ने एक विशेष टीम गठित की और इस केस की जांच शुरू की गई। जांच की सुई नरेश निवासी गांव भोकरका, पटौदी, यवीर निवासी  गांव खेडला थाना सोहना व विकास यादव निवासी गांव मोकलवास थाना बिलासपुर गुरुग्राम पर जाकर अटक गई। उनका कहना हैं कि इसके बाद पुलिस ने नरेश, जयवीर,विकास यादव को हिरासत में लेकर गहनता से पूछताछ की तो इन आरोपितों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। इसके बाद पुलिस ने तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। इनमें मृतक हरपाल का दामाद हैं। पलिस पूछताछ में खुलासा हुआ कि मृतक हरपाल के 1 लडक़ी है और 1 लड़की को हरपाल ने गोद लिया हुआ था। गोद ली हुई बेटी की शादी उक्त आरोपित  नरेश के साथ हुई थी व दूसरी लड़की की शादी उक्त आरोपित  के छोटे भाई राहुल के साथ हुई थी। मृतक हरपाल आरोपित  नरेश कुमार  का ससुर था। मृतक हरपाल की बेटी व दामाद नरेश का आपस में झगङा रहता था। बेटी व दामाद के झगङे को लेकर मृतक हरपाल अपनी बेटी को अपने घर रखता था। इन झगङो के कारण मृतक हरपाल द्वारा अपने दामाद  नरेश के साथ लङाई-झगङा भी हुआ था। 

पुलिस पूछताछ में खुलासा  हुआ कि आरोपित  नरेश अवैध हथियार के मामले में जेल गया था। जेल में इसकी मुलाकात उक्त आरोपित  विकास यादव निवासी गांव मोकलवास थाना बिलास पुर व एक अन्य साथी से हुई। उसके बाद ये सभी जमानत पर बाहर आ गए और आपस में मिलना झुलना शुरू हो गया। जून 2018 में आरोपित  नरेश उक्त के गांव में इसकी दादी का स्वर्गवास हो गया जिस पर यह अपनी पत्नी सुमन को अपने पास भिवाड़ी ले बुला लिया और जब उसने  अपनी पत्नी सुमन को गांव में ले जाने के लिए कहा तो उसकी पत्नी ने मना कर दिया, जिस पर आरोपित  नरेश व उसकी  पत्नी सुमन के साथ झगड़ा हो गया और सुमन का पिता हरपाल अपने साथ कुछ व्यक्तियों को लाकर उसके  साथ मारपीट करके सुमन को अपने साथ अपने घर ले गया। आरोपित  नरेश व उसकी  पत्नी दोनों को तलाक का केस चल रहा है। आरोपित  नरेश उक्त ने अपने ससुर हरपाल की इस हरकत के कारण उसको जान से मारने की ठान ली। हरपाल के कोई लङका नही होने के कारण हरपाल की प्रोपर्टी भी हरपाल के मरने के बाद आरोपित  नरेश की पत्नी के नाम आनी थी जिससे वह बहला-फुसला कर ले लेता। आरोपित  नरेश ने अपने साथी विकास  से मिलकर अपने ससुर हरपाल को मारने के लिए एक करोड रुपए नगद देने को कहा। उसके बाद आरोपित  नरेश के कहने पर  आरोपित  विकास ने हरपाल की हत्या करने का षड्यंत्र रचा व अपने दो साथी राहुल व जयवीर को हरपाल को हत्या करने के लिए भेजा और योजनानुसार राहुल व जयवीर ने हत्या की वारदात को अन्जाम भी दिया। आरोपित  ने पुलिस पूछताछ में बतलाया कि अब उसने अपने साथी विकास को अपने ससुर की हत्या करने के पैसे देने के लिए अपनी दादालाई जमीन भी उसके नाम करवा दी थी। नरेश के पिता ने वह जमीन वापिस अपने नाम करवा ली। अब यह विकास को पैसे देने का इन्तजाम कर रहा था इसी दौरान इसे पुलिस ने पकङ लिया।

Related posts

पुलिस कमिश्नर मोहम्मद अकिल ने आज सड़क हादसे में मरने वाले सिपाही की पत्नी पिंकी को 30 लाख रूपए के चेक सौप दिया।

Ajit Sinha

ब्रेकिंग न्यूज़: डेंगू की जांच के लिए 600 रुपए के चार्जिज निर्धारित, प्राइवेट अस्पताल एवं लैब इससे ज्यादा नहीं वसूल सकते

Ajit Sinha

मिल्क प्लांटों को एक मुश्त निपटान योजना के तहत लाभ देना सुनिष्चित, चक्रवर्ती ब्याज को साधारण ब्याज में बदला।

Ajit Sinha
//zeewhaih.com/4/2220576
error: Content is protected !!