Athrav – Online News Portal
टेक्नोलॉजी फरीदाबाद

फरीदाबाद: जे.सी. बोस विश्वविद्यालय शहर में ई-कचरा संग्रह एवं प्रबंधन के लिए लगायेगा ई-बिन

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
फरीदाबाद: विद्यार्थियों में ई-कचरे और इसके प्रबंधन को लेकर ज्ञानवर्धन के लिए जे.सी. बोस विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद द्वारा रोटरी क्लब संस्कृति फरीदाबाद के सहयोग से आज ई-कचरे के लिए व्यवस्थित संग्रह प्रणाली विकसित करने के लिए ई-बिन लॉन्च किया। विश्वविद्यालय ने आज इंजीनियर दिवस के उपलक्ष्य में ‘बेहतर दुनिया के लिए स्मार्ट इंजीनियरिंग’ विषय के तहत टेकशाला नामक एक कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम के दौरान कुलपति प्रो. सुशील कुमार तोमर और कार्यक्रम की मुख्य अतिथि अतिरिक्त उपायुक्त फरीदाबाद श्रीमती अपराजिता ने ई-कचरा संग्रह के लिए फरीदाबाद शहर में चिन्हित स्थानों पर स्थापित किए जाने वाले ई-बिन का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में वीजी ग्रुप के चेयरमैन नवीन सूद विशिष्ट अतिथि रहे। इस अवसर पर संदीप सिंघल सहित रोटरी क्लब के अन्य सदस्य भी उपस्थित थे।

विभिन्न स्थानों से एकत्र किए गए ई-कचरे को विश्वविद्यालय द्वारा संचालित व्यावसायिक कौशल विकास कार्यक्रम के तहत स्कूली छात्रों को पुनः उपयोग, पुनर्चक्रण और प्रायोगिक कार्य के लिए उपलब्ध कराया जाएगा, जिसका उद्देश्य स्कूली छात्रों को व्यावसायिक कौशल प्रदान करना है। इसके अलावा, ई-कचरा प्रबंधन प्रणाली के लिए ग्रीन सर्टिफिकेट होल्डर देशवाल ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज को भी ई-कचरा दिया जाएगा। इस अवसर पर बोलते हुए कुलपति प्रो. तोमर ने इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग विभाग द्वारा की गई पहल की सराहना की। उन्होंने ई-कचरे के लिए एक व्यवस्थित ई-कचरा संग्रह प्रणाली के महत्व पर बल दिया, और कहा कि ई-कचरे के निपटान के लिए उचित प्रशिक्षण प्रदान करने की आवश्यकता है। कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय ई-कचरा प्रबंधन पर पाठ्यक्रम भी शुरू कर सकता है।

इससे पहले इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष प्रो. प्रदीप डिमरी ने अतिथियों का स्वागत किया और कार्यक्रम का संक्षिप्त परिचय दिया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. रश्मि चावला, सुश्री संगीता ढल और डॉ. शैलेंद्र गुप्ता ने किया। टेक शाला कार्यक्रम अंतर्गत विश्वविद्यालय द्वारा छात्रों के लिए प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें उन्होंने कृषि, स्वास्थ्य देखभाल और उभरती प्रौद्योगिकियों के महत्वपूर्ण क्षेत्रों में स्मार्ट प्रौद्योगिकियों पर आधारित अभिनव विचार एवं शोध कार्य प्रोजेक्ट और शोध पत्र के माध्यम से प्रस्तुत किये। कार्यक्रम के दौरान प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत भी किया गया। कार्यक्रम में शिरडी साईं बाबा स्कूल, फरीदाबाद के छात्रों ने भी भाग लिया।

Related posts

फरीदाबाद: जिला के 48 सरकारी और 9 प्राइवेट अस्पतालों में लोगों को दी जा रही है वैक्सीनेशन : डीसी जितेंद्र यादव

webmaster

नई दिल्ली:98 फीसदी भी काफी नहीं, चलो शिक्षा को इससे और भी आगे ले चलें – मनीष सिसोदिया

webmaster

हे भगवान! पुलिस में जवान की कमी, नगर निगम में फण्ड की कमी, ऐसे में बरसात में होने वाली मुश्किलों से कैसे निपटेंगे प्रशासन

webmaster
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//whairtoa.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x