Athrav – Online News Portal
अपराध दिल्ली नई दिल्ली

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने आज 20 पिस्तौल 50 जिंदा कारतूस सहित दो शख्स को किया अरेस्ट।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने आज कुख्यात गैंगस्टरों को पिस्तौल और जिंदा कारतूस सप्लाई करने वाले दो आरोपितों को अरेस्ट किया हैं। इनके कब्जे से पुलिस ने 20 ऑटोमेटिक पिस्तौल और 50 जिंदा कारतूस बरामद किए हैं। ये दोनों आरोपित देश के अलग -अलग प्रदेश में बदमाशों को ये हथियार सप्लाई करते थे।अरेस्ट किए गए आरोपितों के नाम बड़वानी, एमपी निवासी राजेंद्र, सहयोगी बबलू हैं। कस्टडी के दौरान इन दोनों आरोपितों ने महत्वपूर्ण खुलासे किए हैं।

पुलिस के मुताबिक इस अंतरराज्यीय बंदूक चलाने वाले रैकेट के एक अन्य सदस्य को अरेस्ट किया गया हैं, जिसका नाम विकास आनंद निवासी रामगढ़, झारखंड, उम्र -26 वर्ष है। इसके  कब्जे से पुलिस ने 20 पिस्तौल और 50 जिंदा कारतूस बरामद किए हैं। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने देश के अन्य हिस्सों से दिल्ली में अवैध ऑटोमैटिक पिस्तौल  के आपूर्तिकर्ताओं के खिलाफ हमेशा कड़ा प्रयास किया है। इसी क्रम में स्पेशल सेल ने अवैध हथियारों के ऐसे कई सिंडिकेट को निगरानी में रखा है। निगरानी से पता चला कि धार, बड़वानी, भुरनपुर (मध्य प्रदेश) आदि सहित देश के विभिन्न हिस्सों से दिल्ली में अवैध हथियार डाले जा रहे हैं। इस संबंध में किए गए ठोस प्रयासों से ऐसे कई अंतरराज्यीय बन्दूक सिंडिकेट का भंडाफोड़ करने में सकारात्मक परिणाम मिले हैं। स्पेशल सेल ने अब तक कई मॉड्यूल/किंगपिनों को अरेस्ट किया है और उनके पास से भारी संख्या में अत्याधु निक/अर्ध-स्वचालित हथियार जब्त किए हैं। मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र से गन-रनिंग रैकेट पर काम करने और ऐसे सिंडिकेट के सदस्यों की आवाजाही पर नज़र रखने के लिए उत्तरी रेंज ऑफ़ स्पेशल सेल की एक समर्पित टीम का गठन किया गया था।

संचालन,  दिनांक 25/8/2021

गत 25 अगस्त 2021 को अंतर्राज्यीय गन-रनिंग रैकेट के दो सदस्यों नामतः राजेंद्र सिंह बरनाला निवासी जिला बड़वानी, (उम्र -22 वर्ष) और बबलू सिंह निवासी जिला बड़वानी, एमपी (उम्र 30 वर्ष) को अरेस्ट  किया गया। स्पेशल सेल की इसी टीम द्वारा कराला-बरवाला रोड, रोहिणी, दिल्ली से और इनके पास से 18 सेमी-ऑटोमैटिक पिस्टल और 60 जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं। इस संबंध में एफआईआर संख्या -225/2021, गत 26 अगस्त 2021, अंडर सेक्शन – 25 आर्म्स एक्ट, पीएस. के तहत मामला दर्ज किया गया था। स्पेशल सेल दिल्ली। जांच के दौरान इस मामले में दोनों आरोपितों को अरेस्ट  किया गया। आरोपितों से लगातार पूछताछ की जा रही है। आरोपित  राजिंदर सिंह बरनाला ने खुलासा किया कि वह किसका हिस्सा है?

अवैध हथियार और गोला बारूद आपूर्ति सिंडिकेट, उसने आगे खुलासा किया कि वह अपने बड़े भाई नरेंद्र सिंह के साथ मिलकर विभिन्न व्यक्तियों को अवैध हथियारों  की आपूर्ति करता था। उसने आगे खुलासा किया कि वह हरियाणा, पंजाब और रांची के अमन साहू को विभिन्न व्यक्तियों को अवैध आग्नेयास्त्रों की आपूर्ति करता था। गत 25 अगस्त 2021 को वे बवाना (दिल्ली) के अपने संपर्क में अवैध हथियारों  की आपूर्ति करने आए थे।

ऑपरेशन 

पीसी रिमांड के दौरान आरोपित राजेंद्र ने खुलासा किया कि अमन साहू गैंग का एक सदस्य और रिसीवर विकास आनंद अवैध हथियारों की बड़ी खेप लेने आया था और उसने अपना मोबाइल नंबर भी बताया। एसआई विकास कुहर के नेतृत्व में एक टीम आरोपित राजेंद्र सिंह बरनाला के साथ मध्य प्रदेश के लिए रवाना हुई एंव महाराष्ट्र इस अंतरराज्यीय आग्नेयास्त्र रैकेट के सह-आरोपित की तलाश में है। गत 28 अगस्त -2021 को, राजेंद्र द्वारा प्रदान किए गए मोबाइल नंबर पर तकनीकी इनपुट का उपयोग करते हुए, आरोपित विकास आनंद को आरोपित  राजेंद्र सिंह बरनाला के कहने पर महात्मा गांधी पार्क, चोपड़ा, जिला जलगांव, महाराष्ट्र के पास पकड़ा गया। विकास आनंद के ट्रॉली बैग से 20 पिस्टल और 50 जिंदा कारतूस बरामद किए गए। उसके पास से एक स्मार्ट मोबाइल फोन और 02 एयरटेल सिम कार्ड भी बरामद किए गए।

आरोपी से पूछताछ

गिरफ्तार आरोपित व्यक्ति से निरंतर पूछताछ की गई, जिस पर उसने खुलासा किया कि वह अवैध हथियार और गोला-बारूद आपूर्ति सिंडिकेट का हिस्सा है। वह झारखंड के बड़े गैंगस्टर अमन साहू के निर्देश पर मध्य प्रदेश के रहने वाले राजेंद्र और नेहंग सिंह दोनों से अवैध आग्नेयास्त्रों की सप्लाई लेता था. उन्होंने आगे खुलासा किया कि वह करते थे ,इन आग्नेयास्त्रों की आपूर्ति गतिविधियों के बारे में व्हाट्सएप, टेलीग्राम और ऐप आधारित नंबरों के माध्यम से राजेंद्र, नेहंग सिंह और अमन साहू के साथ संवाद करें। उस दिन उसने नेहंग सिंह के कैरियर से अवैध आग्नेयास्त्रों की आपूर्ति ली थी। उसके द्वारा आपूर्ति की गई पिस्तौल अंततः अमन साहू गिरोह के सदस्यों और बिहार और झारखंड के अन्य खूंखार अपराधियों के हाथों में चली जाएगी।

आरोपी शख्सियत

विकास आनंद और अमन साहू सहपाठी  पड़ोसी थे। स्कूली शिक्षा छोड़ने के बाद, उन्होंने अमन साहू के साथ स्पेयर पार्ट्स का व्यवसाय शुरू किया। कोविड लॉकडाउन के दौरान उन्हें व्यापार में भारी नुकसान हुआ और नुकसान सहन करने के लिए और आसान पैसा कमाने के लिए उन्होंने अमन साहू के निर्देश पर अवैध हथियार और गोला-बारूद की आपूर्ति शुरू कर दी।

Related posts

महिला को हेरोइन तस्करी करने के जुर्म में पुलिस ने किया गिरफ्तार, उसके कब्जे से 36 ग्राम हेरोइन किया बरामद।  

Ajit Sinha

छेड़खानी की शिकायत पर कोई सुनवाई नहीं होने महिला ने चौकी के आगे लगाई आग।

Ajit Sinha

फरीदाबाद ब्रेकिंग: अपहृत नगेंद्र की लाश को क्राइम ब्रांच ने नैनीताल स्थित 150 फ़ीट गहरी खाई से किया बरामद।

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//ragnolopi.net/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x