Athrav – Online News Portal
दिल्ली नई दिल्ली राजनीतिक राष्ट्रीय वीडियो

कांग्रेस ने बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा को भाजपा -जेडीयू द्वारा विधान सभा चुनाव लड़ाए जाने पर उठाए सवाल -देखें वीडियो 

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
नई दिल्ली : सुश्री सुष्मिता देव ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आप सब जानते हैं कि बिहार में चुनाव हैं और सच्चाई ये भी है कि पूरे देश में जो माहौल है, महिला सुरक्षा को लेकर बहुत सारे सवाल उठ रहे हैं। हमने देखा कि ये वही सरकार है जिन्होंने 2 सालों से एनसीआरबी का डेटा ही नहीं निकाला, अब निकला है, पर महिला सुरक्षा को लेकर भारतीय जनता पार्टी और ये सरकार कितनी गंभीर है, ये हमने हाथरस के मामले में ही देख लिया औऱ उत्तर प्रदेश में सिर्फ हाथरस के मामले में नहीं पर उससे पहले भी जितने बलात्कार या महिला सुरक्षा का उल्लंघन करते हुए जितने भी केसेस हुए, उसमें हमने देखा है। पर बिहार के चुनाव में हमने देखा है कि जिस मंजू वर्मा के बारे में हम सबने अखबारों में पढ़ा और टी.वी. में देखा था कि मुजफ्फरपुर स्कैंडल में गर्ल्स होस्टल स्कैंडल में जिनका नाम आया था, उन्हीं को भाजपा-जद (यु) ने बिहार के चुनाव में प्रत्याशी बनाया गया है, चेरिया नाम के क्षेत्र में जो बेगूसराए में हैं।

एक सवाल हम इस मंच से करना चाहते हैं कि जिस पार्टी के नेताओं ने निर्भया के वक्त महिला सुरक्षा को इतना बड़ा मुद्दा बनाया था, आज मुजफ्फर पुर कांड से जुड़ी मंजू वर्मा जी जो पहले मंत्री थी नीतिश कुमार जी की सरकार में, जिनको मंत्री पद छोड़ना पड़ा, जिनको पार्टी से निकाला गया, आज उन्ही मंजू वर्मा को बिहार में प्रत्याशी बनाकर उन्होंने चुनाव में लड़ाने का निर्णय लिया।सवाल ये उठता है कि क्या भारतीय जनता पार्टी और उनके महागठबंधन के जो दोस्त हैं, क्या वो महिला सुरक्षा को गंभीरता से देखते हैं कि नहीं? ये सवाल आ जाता है और जिस प्रधानमंत्री ने ‘बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ’ का नारा देशभर में 2014 से लगाया था, उन प्रधानमंत्री जी, हम ये कहेंगे से कि आपने जिनके साथ गठबंधन किया है और जिन्होंने मंजू वर्मा को प्रत्याशी बनाया है, आपका भी नैतिक दायित्व होता है कि या तो आप मंजू वर्मा के कैंडिडेचर को तुरंत कैंसिल करें या अपने इस गठबंधन को तोड़ने का कष्ट करें।

मैं ये उम्मीद करती हूं कि सुशील मोदी और नीतिश कुमार जी अगर महिला सुरक्षा को गंभीरता से देखते हैं, seriously देखते हैं तो तुरंत they should cancel her candidature and I hope that Narendra Modi Ji, who consistently says- “Beti Bachao, Beti Padhao”, will walk the talk and make sure that this lady’s candidature is canceled or sort of that, if you respect 48% of the population of this country, if you are serious about the women security, you should break this alliance unless they remove this lady and withdraw her candidature.श्रीमती सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि वो मुझे लगता है कि आधी आबादी की अस्मिता का सवाल है। जो हुआ बिहार में और जिस तरह से मंजू वर्मा का नाम आया, वो फरार हुई, फिर उन्होंने आकर बेगूसराय के मंझौल कोर्ट में सरेंडर किया और कैसे उनके परिवार के ताने-बाने जुड़े थे ब्रजेश ठाकुर से, जो मुख्य अभियुक्त है, मुख्य आरोपी है इस यौन शोषण और शारीरिक उत्पीड़न के मामले के। ये शर्मसार करता है कि ऐसी महिला को, आपने पाखंड किया, इसका मतलब पहले आपने पाखंड किया था, उनको आपने पहले मंत्री पद से हटाया, पार्टी से निलंबित किया, अब उनको आपने दोबारा से टिकट देकर अपना उम्मीदवार बना दिया है, तो ये पाखंड नहीं चलेगा। आप अपने आपको सुशासन बाबू कहलाते नहीं थकते थे, सच तो यह है कि इनकी उम्मीदवारी में, कुशासन बाबू, छोटे मोदी, बड़े मोदी और जेपी नड्डा जी का वरदहस्त है, उनके आशीर्वाद से ये उम्मीदवार बनी हैं। आज ये सवाल फिर से उठता है कि ऐसा क्यों है कि महिलाओं की सुरक्षा या महिलाओं का अधिकार या महिलाओं के खिलाफ जब अपराध होता है तो वहाँ पर एक कॉमन लिंक भाजपा, संघ या उनके सहयोगी होते हैं। आप कठुआ देख लीजिए, आप नलिया देख लीजिए, आप उन्नाव देख लीजिए, आप शाहजहांपुर देख लीजिए, आप हाथरस देख लीजिए, आप मुजफ्फरपुर देख लीजिए या तो इनके लोग दोषी होते हैं उसमें, आरोपी होते हैं या फिर ये खुले मंच से और जमीन पर उतर कर आरोपियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होते हैं या ये उनको हर तरह का, इनका शीर्ष नेतृत्व उनको हर तरह का राजनीतिक संरक्षण देने का काम करता है। ये मामला गंभीर है, क्योंकि राजनैतिक जीवन में इतना पतन नहीं हो सकता है कि एक महिला का मामला किसी और धारा के अंतर्गत नहीं, एक सेक्सुअल स्कैम में आया है, जो मुजफ्फरपुर, 34 बच्चियों का रेप हुआ, इसके बारे में आपको थोडा सा बताना चाहती हूं- ये 2018 का मामला है मई का, 34 बच्चियों के साथ रेप हुआ था, टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंस ने एक रिपोर्ट भेजी थी, जहाँ पर उन्होंने रेड फ्लैग किया था कि ऐसा हो रहा है बिहार में। मंजू वर्मा तब समाज कल्याण की मंत्री थी, सोशल जस्टिस की मंत्री थी, उनकी नाक के नीचे इतना बड़ा कांड हुआ, उनके घर में सीबीआई के छापे के दौरान अवैध हथियार मिले, कारतूस मिले, उनके पति का प्रगाढ़ संबंध ब्रजेश ठाकुर से और आपने उनको उम्मीदवार घोषित कर दिया है और ये कि आपने कुछ भी सामाजिक मर्यादा का मान नहीं रखा। आपने उनको अपनी पहली लिस्ट में 115 कैंडिडेट जहाँ पर घोषित करने थे, वहाँ पर उनको भी उम्मीदवार घोषित किया गया है। तो कहीं ना कहीं ये दर्शाता है कि आपके नारे ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के खोखले हैं, आप वुमेन सेफ्टी, महिला सुरक्षा के बारे में दो टूक बात नहीं कर सकते हैं और अगर वाकई में आप महिला सुरक्षा के बारे में कुछ करना चाहते हैं तो जैसा कि सुष्मिता जी ने बोला, हमारी एक ही मांग है उम्मीदवारी को तुरंत रद्द किया जाए, खारिज किया जाए और अगर आप ऐसा नहीं कर सकते हैं तो आपको कोई नैतिक अधिकार नहीं है महिलाओं की बात करने का।


मैं इस मंच से ये भी आशा करती हूं कि जो लोग भाजपा में आंखों पर पट्टियां डाल कर बैठे हैं, वो ये पट्टियां खोलेंगें, क्योंकि हाथरस का मामला अभी पूरे देश की आत्मा को झकझोर रहा है। सारा देश परेशान है कि कैसे उस बच्ची के साथ अन्याय हुआ, कैसे उस परिवार को अभी भी पीडित किया जा रहा है और आपने फिर से बेशर्मी की सारी हदें पार करके मंजू वर्मा को अपना कैंडिडेट बनाया है। मतलब आधी आबादी की अस्मिता की आपको कोई चिंता नहीं है, उसके बारे में आपका कोई ख्याल नहीं है और जैसा कि सुष्मिता जी ने कहा हम फिर से अपनी मांग दोहराते हैं- उम्मीदवारी तुरंत रद्द की जाए और अगर ऐसा नहीं कर सकते हैं, तो अपना गठबंधन तोडिए नीतिश जी के साथ। कुशासन बाबू को जिनके साथ आप गलबइंया करके ये चुनाव लड़ रहे हैं, अगर आपके अंदर हिम्मत है और अगर आप वाकई महिलाओं की इज्जत करते हैं, तो इस गठबंधन को तोडिए, अगर आप उम्मीदवारी रद्द नहीं कर सकते हैं। छत्तीसगढ़ से संबंधित एक प्रश्न के उत्तर में सुश्री सुष्मिता देव ने कहा कि छत्तीसगढ़ में जब ये मामला हुआ, मैंने खुद जो पॉलिटिक्ल एडवाइजर, जो चीफ मिनिस्टर के हैं, उनसे बात की और कांग्रेस पार्टी ये स्पष्ट तरीके से कहना चाहती है कि बलात्कार या महिला पर किसी भी तरह का अत्याचार देश के किसी भी कोने में हो, कांग्रेस पार्टी ने कही नहीं कहा कि हमारे स्टेट में हो रहा है तो ठीक है और भाजपा के स्टेट में हो रहा है तो ये गलत है। बलात्कार गलत है, किसी भी राज्य में हो, किसी के साथ भी नहीं होना चाहिए और हर सरकार का ये कर्तव्य है कि इसको रोके और अगर ना रोक सकेऔर ऐसी कोई दुर्भाग्यजनक घटना हो तो उसमें तुरंत जांच करे। It is not true that FIR has not been filed, in fact the arrest was made almost immediately as far as I know, within 15 minutes what I have been told. औऱ एक और बार कहने की जरुरत है that rape in no state, doesn’t matter whose government is there, should be tolerated, there should be zero tolerance for it. I have spoken to the Political Adviser of the Chief Minister on the date it happened and he apprised me that they have taken immediate action और सरकार का it is the Government’s duty, today हाथरस केस में लोगों को इतना गुस्सा क्यों आया, लोग सड़कों पर क्यों उतरे, क्योंकि हादसे के बाद जो यूपी सरकार ने किया, आप एक बच्ची को सुरक्षित नहीं रख पाए, पर पुलिस और ऑफिसरों का जो कर्तव्य था, वो पालन ना करके आपने उस पीडिता पर अत्याचार बढ़ा दिया, उनके परिवार के सदस्यों पर अत्याचार बढ़ा दियाकोई नहीं कह सकता कि अगर बलात्कार राजस्थान में हो या छत्तीसगढ़ में हो तो छत्तीसगढ़ या राजस्थान की पुलिस ने पीड़िता के परिवार के साथ किसी तरह का हैरासमेंट किया अन्याय किया । अगर राजस्थान में, ऐसी कोई घटना हुई हो, जहाँ बलात्कार या किसी भी क्राईम के बाद पुलिस ने अत्याचार किया हो, तो कांग्रेस के शासन में ऐसा कभी नहीं होता। We condemn rape everywhere. We have the same expectation from our Chief Ministers that we do from every other Chief Minister that women security must be the top priority and there should be zero tolerance towards such crimes.On another question about Dr. Raman Singh’s statement, Ms. Dev said- डॉ. रमन सिंह जी क्या कह रहे हैं, शायद अभी समाचारों में चल रहा है we have not seen it, but I assure you, देखिए, दूध का दूध पानी का पानी हो जाता है। सिर्फ वक्त की बात है और छत्तीसगढ़ सरकार इसका अच्छी तरह से जवाब देगी और रमन सिंह जी से कहते हैं कि आप अपने कुंभकरण की नींद से अभी उठे हैं, हाथरस की बेटी के लिए पूरा देश चीख रहा है, तब आप क्या घोड़े बेच कर सो रहे थे, अपने दोस्त योगी को बचाने के लिए? ऐसा कैसे हो सकता है कि हाथरस की बेटी की चीखें आपके कानों तक नहीं पहुंची और छत्तीसगढ़ में आप इतना प्रेस मीट कर रहे हैं, एक पूर्व मुख्यमंत्री होकर। आप और आपके पार्टी के नेताओं को मैं कहना चाहती हूं कि आप बलात्कार का राजनीतिकरण कर रहे हैं।

Related posts

ब्रेकिंग न्यूज़: लो जी मोदी सरकार के “महंगे दिन” वापस आ गए हैं- कांग्रेस

Ajit Sinha

चंडीगढ़ ब्रेकिंग: भाजपा जिला अध्यक्षों, जिला प्रभारियों की महत्वपूर्ण बैठक आज

Ajit Sinha

कांग्रेस; दो महिला सांसदों ने सोनिया गाँधी और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरान के बीच संसद में हुई नोंक- झोंक के बारे आंखों देखा हाल बताया।

Ajit Sinha
//nossairt.net/4/2220576
error: Content is protected !!