Athrav – Online News Portal
दिल्ली राजनीतिक राष्ट्रीय

कांग्रेस पार्टी भ्रष्टाचार, अनाचार और वंशवाद की फैक्ट्री है- जे पी नड्डा


अजीत सिन्हा / नई दिल्ली
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने आज शुक्रवार को कर्नाटक के कैलासा, मुदिगेरे (चिक्कमंगलुरु) और शिवमोग्गा में आयोजित विशाल जनसभाओं को संबोधित किया और जनता से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में डबल इंजन वाली पूर्ण बहुमत की भाजपा सरकार बनाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि जेडीएस और कांग्रेस पार्टी को वोट देने का मतलब है प्रतिबंधित संगठन पीएफआई को वोट देना और सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ना क्योंकि कांग्रेस पार्टी तो कहते नहीं थकती है कि कांग्रेस की सरकार आने पर पीएफआई पर लगे बैन को हटा लिया जायेगा। उन्होंने कर्नाटक की जनता को आगाह करते हुए कहा कि यह चुनाव कर्नाटक के भविष्य का चुनाव है। सही जगह बटन दबने से सही परिणाम आते हैं और गलत जगह बटन दबाने पर गलत परिणाम आते हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे पर करारा प्रहार करते हुए नड्डा ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे दुनिया के सर्वाधिक लोकप्रिय जन-नेता और हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को विषैला सांप कहते हैं। ये दर्शाता है कि उनके मन में कितना विष है। वे कभी “सांप”, कभी “बिच्छू”, तो कभी “मर जा मोदी” कहते हैं जबकि कर्नाटक सहित समग्र भारत की जनता कहती है कि “मत जा मोदी”। कांग्रेस वाले कहते हैं “मोदी तेरी कब्र खुदेगी” तो देश की जनता कहती है कि “मोदी तेरा कमल खिलेगा”। कांग्रेस अध्यक्ष और उनके नेताओं की शब्दावली सोनिया गांधी और राहुल गांधी के इशारे पर चलती है। चुनाव प्रचार में सोच समझ कर बोला जाता है। मैं भी भाजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष हूँ और मल्लिकार्जुन खरगे भी कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। इसके बावजूद वे कभी सांप तो कभी रावण जैसे शब्दों का प्रयोग करते हैं। यह कौन सी शब्दावली है? एक राष्ट्रीय पार्टी का अध्यक्ष इस तरह का बयान दे, यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण और अशोभनीय है। कांग्रेस पार्टी द्वारा जब भी इस तरीके के शब्द इस्तेमाल किया जाता है तब देश की जनता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ खड़ी हो जाती है। इस बार कर्नाटक की जनता भी लोकतांत्रिक माध्यम से ऐसे अशोभनीय बयान देने वाले लोगों को करारा सबक सिखाएगी।राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह के खिलाफ कांग्रेस ने झूठी एफआईआर दर्ज कराई है। केंद्रीय गृह मंत्री ने कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार के दौरान पीएफआई को खुली छूट मिली होने की बात की थी, इसमें आखिर गलत क्या है? क्या यह सच नहीं है कि कांग्रेस-जेडीएस की सरकार में पीएफआई पर से सैकड़ों मामले नहीं हटाए गए? क्या ये सच नहीं है कि कांग्रेस-जेडीएस सरकार में पीएफआई एक्टिविस्टों के ऊपर से केस हटा लिए गए? मीडिया रिपोर्टों के अनुसार कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार के दौरान लगभग 80 दंगे हुए। कांग्रेस की सरकार में पीएफआई द्वारा कर्नाटक में ही नहीं, देश के अन्य भागों में भी दंगे कराने के आरोप हैं। इससे समाज में अशांति फ़ैली। कर्नाटक में तो पीएफआई के कैंप चला करते थे जहाँ से कई लोग पकड़े भी गए थे। 2018 में कांग्रेस की सरकार में पीएफआई पर बैन लगाने से इनकार कर दिया गया था। कर्नाटक में हमारे कार्यकर्ता प्रवीण की नृशंस हत्या की गई, बजरंग दल के कार्यकर्ता निर्मम हर्षा की हत्या की गई। क्या ये सच नहीं है? नड्डा ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ठोस आधार पर देशविरोधी संगठन पीएफआई पर प्रतिबंध लगाया है क्योंकि भारत में देशविरोधी तत्वों की कोई जगह नहीं है बल्कि उनकी जगह जेल में है। कांग्रेस पार्टी कह रही कि कर्नाटक में उनकी सरकार बनने पर पीएफआई पर लगे बैन को हटाया जाएगा। देशविरोधी संगठन पीएफआई पर लगे बैन को हटाने की वकालत करने वाली कांग्रेस पार्टी को कर्नाटक की जनता प्रजातांत्रिक तरीके से करारा जवाब देगी। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने असंवैधानिक रूप से दिए गए 4 प्रतिशत मुस्लिम आरक्षण को ख़त्म कर दलितों, आदिवासियों, लिंगायतों और वोक्कालिगा समुदाय के आरक्षण में वृद्धि की जबकि कांग्रेस नेता सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार कहते हैं कि कांग्रेस की सरकार आने पर फिर से धर्म के आधार मुस्लिमों को आरक्षण दिया जाएगा। ऐसा कर के कांग्रेस सामाजिक सद्भाव बिगाड़ना चाहती है। सिद्धारमैया और कांग्रेस की सरकार ने धर्म के आधार पर आरक्षण दिया था जो पूरी तरह संविधान के खिलाफ था। कांग्रेस बताये कि यदि वह धार्मिक आधार पर आरक्षण देगी तो वह एससी, एसटी, लिंगायत और वोक्कालिगा – किसके आरक्षण में से कटौती करेगी? कांग्रेस पर करारा हमला करते हुए नड्डा ने कहा कि कांग्रेस को चुनाव नजदीक आने पर आज लिंगायत समाज की बहुत चिंता हो रही है। पूर्व मुख्यमंत्री निजलिंगप्पा जी लिंगायत समाज से नहीं आते थे क्या? कांग्रेस की सरकार ने निजलिंगप्पा जी को बेइज्जत करके निकाल दिया था। कर्नाटक में जब वीरेंद्र पाटील जी मुख्यमंत्री थे तब भी कांग्रेस की सरकार ने बेइज्जत करके निकाल दिया था। और, आज कांग्रेस लिंगायत समाज का हितैषी बनने का ढोंग कर रही है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस पार्टी भ्रष्टाचार, अनाचार और वंशवाद की फैक्ट्री है। जहाँ कांग्रेस रहेगी, भ्रष्टाचार और अनाचार फैलाएगी। कर्नाटक को भ्रष्टाचार मुक्त रखना है तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में कमल खिलाना होगा और डबल इंजन की सरकार बनानी होगी। कर्नाटक में जब-जब कांग्रेस की सरकार रही है तो हर साल नए-नए भ्रष्टाचार सामने आये। सि़द्धारमैया जब मुख्यमंत्री थे, तब घोटाले पर घोटाले हुए। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, सिद्धारमैया की सरकार में लगभग 35 हजार करोड़ रुपए के घोटाले हुए हैं। 400 करोड़ रुपए की मालाप्रभा कैनाल घोटाला, पुलिस भर्ती घोटाला, शिक्षक भर्ती में घोटाला, कर्नाटक पावर कॉरपोरशन घोटाले, स्लम डेवेलपमेंट बोर्ड में घोटाले सहित कई घोटाले हुए कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार में हुए। अरकावती घोटाले में 8 हजार किसानों को उनके अधिकार से वंचित रखा गया था। स्टील फ्लाईओवर घोटाले में 65 करोड़ रुपए के किकबैक लेने की बात सामने आई। वृहद बेंगलुरु महानगर पालिका में आरओ और बोरवेल प्लांट घोटाले भी सिद्धारमैया जी के समय ही हुआ।

Related posts

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का अपमान बर्दाश्त नहीं; ममता बनर्जी से अपने इस मंत्री को तुरंत कैबिनेट से बर्खास्त करने की मांग की।

Ajit Sinha

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने आज सुप्रीम कोर्ट के पैनल के खुलासे पर अरविन्द केजरीवाल सरकार पर हमला बोला।

Ajit Sinha

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अतिरिक्त पदाधिकारियों की नियुक्ति की हैं -लिस्ट पढ़े

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//grushoungy.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x