Athrav – Online News Portal
फरीदाबाद राजनीतिक हरियाणा

शराब घोटाले पर कांग्रेस विधायक नीरज शर्मा ने सरकार को घेरा


अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
चंडीगढ़:एनआईटी फरीदाबाद से कांग्रेस विधायक नीरज शर्मा ने विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे चरण में शराब घोटाले पर ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के दौरान सरकार को घेरा। शर्मा ने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि लॉकडाउन के दौरान बड़ा घोटाला हुआ था लेकिन सरकार सिर्फ जांच कमेटियां गठित करने में ही व्यस्त रही। जबकि प्रतिनियुक्ति पर आए अधिकारी इस प्रदेश में लूट मचा कर चले गए।शर्मा ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान 2020-21 में शराब से सरकार को 6786.78 करोड़ और 2021-22 में 7936.71 करोड़ रुपये राजस्व मिला। यानी एक ही साल में सरकार का राजस्व 1250 करोड़ रुपये बढ़ गया। इसलिए यह माना जा रहा है कि 2020-21 में एक हजार करोड़ से ज्यादा का नुकसान घोटाले की वजह से सरकार को हुआ।

नीरज शर्मा ने कहा कि सरकार ने 11 मई 2020 को खरखौदा के सरकारी गोदाम से हुई शराब की चोरी की जांच के लिए जो विशेष जांच टीम गठित की थी, उसकी रिपोर्ट में यह लिखा गया है कि तत्कालीन पुलिस अधीक्षक प्रतीक्षा गोदारा को शराब घोटालों के बारे में जानकारी थी लेकिन उन्होंने कोई सख्त कार्रवाई नहीं की। इसलिए सरकार को प्रतिनियुक्ति पर आए अधिकारियों चाहे वह प्रतीक्षा गोदारा हो या फरीदाबाद नगर निगम के घोटाले में आरोपित सोनल गोयल, सभी के खिलाफ सरकार को कार्रवाई करनी चाहिए। इन अधिकारियों की वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट में इनके कारनामों को विशेष टिप्पणी के साथ अंकित करना चाहिए। विधायक ने कहा कि सरकार जांच और अनुसंधान के बीच भेद करने की बजाय, कार्रवाई पर ध्यान दे। भ्रष्टाचार के खिलाफ मुख्यमंत्री मनोहर लाल का जो जुनून बताया  गया था, वह भी अब तक कार्रवाई नहीं होने के बाद खत्म होता नजर आ रहा है। शर्मा ने कहा कि – तू इधर-उधर की न बात कर, ये बता कि काफिला कहां लुटा। मुझे रहजनों से गिला नहीं, तेरी रहबरी का सवाल है।।

—————–
-फिर उठाया पेगासस का मुद्दा

विधायक नीरज शर्मा ने इनेलो के अभय चौटाला का साथ देते हुए सदन में पेगासस का मुद्दा फिर उठाते हुए कहा कि सरकार से उन्होंने यह पूछा था कि राज्य के आइपीएस अधिकारी इजराइल सॉफ्टवेयर पेगासस खरीदने के लिए वहां गए थे या नहीं और इजरायल की गुप्तचर एजेंसी पेगासस से अधिकारियों की मुलाकात हुई थी या नहीं। सरकार ने इसका अधूरा जवाब दिया। उन्होंने कहा कि वह इस मुद्दे को लेकर हाईकोर्ट जाएंगे लेकिन अब सदन में ऐसे प्रस्ताव लाए जा रहे हैं कि सदन की कार्यवाही को लेकर न्यायालय हस्तक्षेप नहीं कर सकता। ऐसे में यह बताएं कि यदि किसी जनप्रतिनिधि की बात विधानसभा में नहीं सुनी जाती है तो वह कहां जाए।

Related posts

117 आपराधिक गैंग बेनकाब, कुल 625 पिस्तौल, 25 रिवाल्वर, 1296 कारतूस और 37 चाकू बरामद किए हैं- एडीजीपी विर्क

webmaster

चंडीगढ़:डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने उचाना में ऑक्सीजन प्लांट का किया उद्घाटन

webmaster

हरियाणा पुलिस में महिलाओं की संख्या 15 प्रतिशत तक ले जाने का लक्ष्य रखा, इस कदम से महिलाओं में आत्मविश्वास बढ़ेगा: सीएम

webmaster
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//sheegiwo.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x