Athrav – Online News Portal
अपराध गुडगाँव

सीएम फ़्लाइंग और पुलिस की संयुक्त टीम ने छापेमारी करके फर्जी कॉल सेंटर का किया पर्दाफाश, 22 लाख कैश बरामद, 17 पकडे

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
गुरुग्राम पुलिस व मुख्यमंत्री उड़नदस्ता की संयुक्त टीम ने आज छापेमारी की कार्रवाई करते हुए एक फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश करके 17 आरोपितों को अरेस्ट किया हैं। पुलिस की माने तो ये सभी आरोपित अमेरिका के लोगों को टेक्निकल सपोर्ट देने के नाम पर धोखाधड़ी करके करते थे। इन आरोपितों के कब्जे से नगद 22.5 लाख रुपये, 6 लैपटॉप, 3 डेस्कटॉप व 18 मोबाईल फोन  बरामद किए हैं।

पुलिस प्रवक्ता के मुताबिक आज गुरुग्राम पुलिस व मुख्यमंत्री उड़नदस्ता की टीम ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए प्लाट नम्बर- 309/310, उद्योग विहार, फेस-4, गुरूग्राम से एक फर्जी कॉल सैन्टर का भंडाफोड़ किया। ये लोग अमेरिका के नागरिकों को पोपम (Popup) भेजकर उनके कम्पयुटर सिस्टम को वायरस ग्रस्त (Infected) करते हुए फर्जी मैंसेज भेजने के बाद उन पर दबाव बनाकर Dialler/X-Lite/Text now application द्वारा कॉल करके उनसे 300 से 900 डॉलर ऐंठकर धोखाधडी करते थे।

पुलिस टीम

राजीव यादव एसीपी., गुरुग्राम, इंद्रजीत ,डीएसपी सीएम फ्लाइंग स्क्वायड, निरीक्षक सुन्दर पाल, थाना साइबर अपराध, निरीक्षक नरेश कुमार, प्रबंधक थाना उद्योग विहार, गुरुग्राम।

पुलिस कार्रवाई 

इस कॉल सेंटर में काफी लडके व लडकियां लैपटॉप/कंप्यूटर पर Dialer/X-Lite के माध्यम से अंग्रेजी भाषा में लोगों से बातचीत कर रहे थे, जिनसे कॉल सेंटर चलानें के लिए DOT license,  कंपनी का रजिस्ट्रेशन, Mode of Payment, Source of Customer, Sources of data  का रिकॉर्ड पेश करने बारे कहा तो वो कोई दस्तावेज पेश नहीं कर पाए। इनसे कॉल में कंप्यूटर पर काम करने वाले युवक/युवतियों से पूछा तो इन्होनें बतलाया कि कॉल सेंटर के संचालकों द्वारा दिए गए निर्देशों अनुसार अमेरिका के नागरिकों को पोपम (Popup) भेजकर उसके कम्पयुटर सिस्टम वायरस ग्रस्त (Infected) करने के बाद फर्जी मैंसिज भेजते है और उनसे ठगी का काम करते है।


पुलिस प्रवक्ता का कहना हैं कि रेङिग टीम द्वारा कॉल सेंटर से कुल 17 आरोपितों  को अरेस्ट  किया गया। इनके नाम  1. देव प्रकाश उर्फ मोनू, 2. अनिरुद्ध अग्रवाल उर्फ अन्नी,3. हर्षद शर्मा उर्फ राहुल शर्मा पुत्र विजय,4. आशीष आनन्द,5. गोविन्द सिंह उर्फ रिंकी, 6. अनिस ऐनथेनी हैं। इनमें कॉल सेंटर के संचालक और मैनेजर शामिल हैं।पुलिस पूछताछ में इन्होंने  बतलाया कि उक्त कॉल सेंटर का मालिक हंसराज यादव निवासी बादशाहपुर, गुरुग्राम है और उपरोक्त सभी 6 आरोपित 50 प्रतिशत के हिस्सेदार है तथा कॉल सेंटर का संचालन करते है।

ठगी का तरीका

पूछताछ में यह भी ज्ञात हुआ कि ये इस कॉल सेंटर को करीब 4/5 महिने से बिल्डिंग किराए पर लेकर हंसराज के साथ मिलकर पार्टनरशिप में चला रहे है और फर्जी कॉल सेंटर चलाने के लिए इन्होनें करीब 106 लडकें व 43 लडकियां कस्टमर सर्विस के लिए नौकरी पर रखे हुए है। ये अमेरिका के नागरिकों को पोपम (Popup) भेजकर उसके कंप्यूटर सिस्टम वायरस ग्रस्त (Infected) का फर्जी मैसेज भेजकर व उनके ऊपर दबाव बनाकर Dialer/X-Lite द्वारा कॉल करके/प्राप्त करके उनसे 300 से 900 डालर के ट्रांक्शजन करके ठगी करते है। कंप्यूटर सिस्टम में इंटाल Dialer/ X-Lite पर विदेशी लोगों की कॉल आती है तथा विदेशी कस्टर इन्हें बताते है कि उनके कंप्यूटर सिस्टम में एक Popup message प्राप्त हुआ है। जिसे खोलने पर कंप्यूटर सिस्टम में वायरस होने की सूचना मिली है। जिस पर ये लोग स्क्रिट के अनुसार वायरस को ठीक करने का आश्वासन देते है तथा कस्टमर को उसे अस्थाई सिक्योरिटी देने के लिए Ultraviewer एप्लीकेशन/सॉफ्टवेयर इंस्टाल कराते है। फिर कस्टमर के कम्पयुटर सिस्टम की स्क्रीन का एक्सेस शेयर कर लेते है फिर उसे कमाण्ड बॉक्स पर सिस्टम स्कैन के लिए प्रोसेस कराते है जिसमें ये स्क्रीट में दी हुई फर्जी कन्टेट फाइनल रिपोर्ट

1. इल्लीगल विजिट ऑन पोर्न वेबसाइट, 2.WWW. PORNHUB. NE T (SOURCE CHINA), 3. क्लॅम्पी वायरस डेटेक्टेड, 4. CHILD PORNOGRAPHY DOWNLOADE, 5. FINANCIAL INFORMATION USED ON WWW.PORNHUB.NET, 6. DEBIT AND CREDIT CARDS ARE USED ON WWW.PORNHUB.NET., 7. इल्लीगल पर्चासेस L विथ कार्ड्स, 8. फोन लाइन्स एंड नेटवर्किंग ARE HACKED इत्यादि रिपोर्ट पेस्ट करके उन्हें भेजते हैं। उपरोक्त साइट पर उनकी डिटेल प्रयोग हुई है, जो गैर-कानूनी है। ये कस्टमर को बतलाते है कि बैंकिंग डिटेल बचाने के लिए उन्हें बैंक के टोल फ्री नम्बर कॉल लगाते है। आप उनको अपनी उपरोक्त परेशानी बताए वो आपकी मदद करेगें, फिर ये अपने फर्जी कॉल सेंटर में काम करने वाली दूसरी टीम (Closer) को कॉल फॉरवर्ड कर देते तथा दुसरी टीम कस्टमर बैंक अधिकारी बनकर काल करते है और उससे बैंकिंग डिटेल सेव करने की एवज में उन से Googleplay , Traget, Apple, Nike के गिफ्ट कार्ड खरीदवाकर उन्हें डराकर/गुमराह करके तथा विश्वास में लेकर उनसे गिफ्ट कार्डो के नम्बर पूछ लेते है। फिर उन्हें ये अपने विदेशी जानकार को भेजते है तथा वह इन गिफ्ट कार्ड को Reedem कराकर पैसा कमाते हैं। पुलिस टीम द्वारा आरोपितों  के कब्जा/कॉल सेंटर से लगभग 22.5 लाख रुपयों की नकदी, 6 लैपटॉप, 3 डेस्कटॉप व 18 मोबाईल फोन बरामद किए है। आगामी कार्रवाई  के लिए आरोपितों  को माननी अदालत के सम्मुख पेश  करके पुलिस  रिमांड पर लिया जाएगा।  अनुसंधान अधीन है।

Related posts

हरियाणा के डीजीपी पी के अग्रवाल ने नागरिकों को दीपावली पर दी बधाई, बोले ‘इको-फ्रेंडली‘ तरीके से त्यौहार मनाएं।

Ajit Sinha

आम आदमी पार्टी ई -रिक्शा चालकों के साथ ,प्रशासन को ई-रिक्शा को बढ़ावा देना चाहिए- डॉ सारिका वर्मा, सुशीला कटारिया

Ajit Sinha

क्राइम ब्रांच ने एक हथियार सप्लायर को 12 पिस्तौल और 24 जिन्दा कारतूस सहित गिरफ्तार किया हैं।  

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//glaichaupu.net/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x