Athrav – Online News Portal
उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय

कोलकाता:अमित शाह की रैली के बाद हिंसा, राजनाथ सिंह ने ममता बनर्जी को किया फोन, सीएम बोलीं -अपने नेता और समर्थकों को संभाल लीजिए

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह  के बीच फोन पर कहासुनी की बात सामने आ रही है. सूत्रों के अनुसार पश्चिम बंगाल के कांथी में बीजेपी रैली  के बाद हुई हिंसा को लेकर राजनाथ सिंह  ने ममता बनर्जी  को फोन किया था. राजनाथ सिंह  ने फोन पर राज्य में लचर होती कानून व्यवस्था और भाजपा की रैली के बाद हुई हिंसा को लेकर चिंता जताई थी.सूत्रों की मानें इसपर मुख्यमंत्री ने सिंह को जवाब दिया कि आप पहले अपने नेता और कार्यकर्ताओं को संभाल लीजिए. ध्यान हो कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मंगलवार को कांथी में रैली थी. इस रैली के खत्म होने के ठीक बाद बसों पर हमला किया गया, मोटरसाइकिलों को जलाया गया यहां तक कि तृणमूल कांग्रेस के दफ्तर पर भी हमला किया गया.बिगड़ते हालात को देखते हुए घटनास्थल के आस पास बड़ी तादाद में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई. इसके बाद तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के नेता एक दूसरे पर आरोप लगाते रहे. जहां तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि यह पूरी घटना पहले से ही निर्धारित थी तो वहीं बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने टीएमसी को तालिबान मामातर करमो से बताया. रैली के बाद फैली हिंसा की सूचना मिलने के बाद ही केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने शाम में सीएम को फोन किया था. इसी दौरान दोनों के बीच तीखी बहस की बात कही जा रही है.


गौरतलब है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह बीते कुछ समय से पश्चिम बंगाल सरकार और खासकर ममता बनर्जी पर तीखे हमले कर रहे हैं. कुछ दिन पहले ही उन्होंने कहा था कि ममता दीदी को डर था कि अगर हमारी यात्रा राज्य में निकलती है तो उनकी सरकार की अंतिम यात्रा निकल जाएगी. रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह  ने कहा था कि यह चुनाव पार्टियों के बीच का चुनाव है. यह बंगाल की संस्कृति को समाप्त करने वाली टीएमसी को हराने का चुनाव है. यह बंगाल की जनता को निर्णय लेना है कि संस्कृति को बचाने वाली बीजेपी को लाएंगे या उनकी संस्कृति को खत्म करने वाली टीएमसी को. सुभाष चंद्र को भुलाने में कांग्रेस ने कोई कसर नहीं छोड़ी. लेकिन पीएम मोदी सुभाष बाबू के जीवन, देशभक्ति और उनके बंगाल को अमर करने के लिए अंडमान के टापू का नाम सुभाष जी के नाम पर रखने का फैसला किया है.साथ ही उन्होंने कहा था कि देश के आजाद होने के बाद पश्चिम बंगाल हर जगह देश का नेतृत्व करता था. कला, संस्कृति और हर क्षेत्र में बंगालियों का नाम था. एक लंबे के समय कम्युनिस्ट शासन और ममता दीदी के शोषण के बाद आज बंगाल जहां है,

उसकी कल्पना आप नहीं कर सकते. एक समय बंगाल का औद्योगिक उत्पादन दर 27 फीसदी था जो आज 3.3 फीसदी रह गया है. बंगाल को टीएमसी ने कंगाल बना दिया. पहले 100 में 32 रोजगार बंगाल देता था, आज यह आंकड़ा महज चार का है. कम्युनिस्ट तो बुरे थे ही, बंगाल की जनता ने इन्हें निकालने के लिए परिवर्तन किया और टीएमसी को लाया. लेकिन आज जनता कहती है की टीएमसी से तो कम्युनिस्ट अच्छे थे. हर पांचवा व्यक्ति गरीबी रेखा के नीचे जी रहा है.’इसके अलावा शाह ने कहा था कि बंगाल में टीएमसी की सरकार ने लोकतंत्र को समाप्त कर दिया है. हम बंगाल में रथ यात्रा निकालने वाले थे लेकिन हमें राज्य सरकार ने रोक दिया. उन्हें लगा कि यह यात्रा उनके लिए अंतिम यात्रा न हो जाए. कोई बात नहीं दीदी हम ज्यादा मेहनत करेंगे लेकिन इस बार आपको बंगाल से हटाकर रहने वाले हैं. मैं आपको बताता हूं कि पंचायत चुनाव हुए थे, उस दौरान बड़ी संख्या में हमारे कार्यकर्ताओं की हत्या हुई. आपको कहता हूं और टीएमसी को भी कहता हूं कि पंचायत चुनाव वाली गलती लोकसभा चुनाव में मत करना. वर्ना हम ईंट से ईंट बजा देंगे. यह चुनाव बंगाल सरकार के अंडर नहीं होने वाला है. यह चुनाव आयोग के अंडर होगा, यहां पैरामिलिट्री होगी.’

Related posts

कांग्रेस पार्टी ने आज उत्तराखंड कांग्रेस कमिटी में महत्वपूर्ण पदाधिकारियों को नियुक्त किया हैं -लिस्ट पढ़े।

Ajit Sinha

कैबिनेट ने ट्री ट्रांसप्लांटेशन पाॅलिसी पास की, अब काटे गए पेड़ों में से 80 प्रतिशत का करना होगा ट्रांसप्लांटेशन- केजरीवाल

Ajit Sinha

दिल्ली में हर हाथ में तिरंगा देगी केजरीवाल सरकार, सीएम अरविंद केजरीवाल ने की घोषणा

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//upontogeticr.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x