Athrav – Online News Portal
फरीदाबाद हरियाणा

हरियाणा पुलिस अकादमी में दीक्षांत परेड में 400 प्रोबेशनर सब इंस्पेक्टर ने ली सेवा की शपथ: सीएम

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
चण्डीगढ: हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन में 400 प्रोबेशनर सब इंस्पेक्टर बेसिक ट्रेनिंग पूरी करने के बाद जनसेवा को समर्पित हुए। इस अवसर पर दीक्षांत परेड का आयोजन हुआ। मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने मुख्य अतिथि के रूप में इस दीक्षांत परेड की सलामी ली। पुलिस महा निदेशक मनोज यादव व अन्य गणमान्य अतिथि भी इस अवसर पर उपस्थित रहे। दीक्षांत समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस की सार्थकता, सेवा को सर्वोच्च उद्देश्य मान कर कार्य करने से संभव है। इसलिए पुलिस को समाज की सेवा का सर्वोत्तम अवसर मानते हुए अपनी ड्यूटी पर आगे बढ़ते रहना चाहिए। उन्होंने परेड में शामिल जवानों के  माता-पिता को बधाई देता हूँ जिनके बच्चों ने पुलिस विभाग के रूप में एक ऐसे चुनौती भरे रास्ते का चयन किया है जो व्यवसाय नहीं बल्कि सेवा के रूप में जाना जाता है। दीक्षांत परेड समारोह किसी भी वर्दीधारी के लिए बहुत गौरव के क्षण होते हैं। उन्होंने इस वैश्विक कोरोना महामारी काल जैसी विपरीत परिस्थितियों में भी प्रशिक्षण को पूरा करने में योगदान देने वाले अधिकारियों तथा प्रशिक्षकों की सराहना की। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार महिलाओं की सुरक्षा व देखभाल के लिए तत्पर है।

हमने महिला थाने शुरू किए  तो पीडि़त महिलाओं को अपनी छोटी-बड़ी समस्याओं को बताने के लिए स्थान मिला है। बेटियों की शिक्षा तथा सुरक्षा के लिए सभी उपाय किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आने से पहले प्रदेश में दो महिला थाने थे जिनकी संख्या अब 31 हो गई है। महिला सुरक्षा के लिए दुर्गा शक्ति वाहिनी तथा दुर्गा शक्ति ऐप जैसी सुविधाएं प्रदान की है। उन्होंने कहा कि 56 बेटियां आज इस दीक्षांत समारोह में शामिल हैं।  पहले हरियाणा प्रदेश नौकरियों में 3 प्रतिशत ही बेटिया शामिल थी लेकिन हमारी सरकार आने के उपरांत हमने इसे 6 प्रतिशत किया जिसे बाद में 10 प्रतिशत तक पंहुचाया गया और अब हमारा लक्ष्य 15 प्रतिशत तक पंहुचाने का है। इस दीक्षांत परेड में 14 प्रतिशत महिला शामिल हैं । आज की इस दीक्षांत परेड में हरियाणा की बेटियों ने भी प्रदेश की कानून व्यवस्था संभालने की शपथ ली है। इस पर उन्हें गर्व है। उन्होंने कहा कि हरियाणा पुलिस ने संकट की इस  घड़ी में भी धैर्य एवं साहस का परिचय देते हुए अपने समाजसेवा के कर्तव्य को बाखूबी निभाया है। कोविड-19 के दौरान पुलिस के जवानों ने कोरोना वारियर्स बनकर नया मोर्चा संभाला है। उन्होंने कोविड-19 जैसी वेश्विक महामारी में हरियाणा पुलिस द्वारा अपनी डयूटी को कर्तव्य परायणता से निभाने की प्रशंसा की। वर्तमान में हरियाणा पुलिस में आधुनिकीकरण के तहत नई तकनीकों को शामिल किया गया है। माडर्न पुलिस स्टेशन व 6 साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन बनाएं गए हैं। न्याय वैधिक विज्ञान प्रयोगशाला में बारकोड सिस्टम लागू किया गया है। उन्होंने कहा कि विकास के दौर में सामाजिक एवं आर्थिक परिवर्तन हो रहे हैं। जिनमें पुलिस की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। समाज को पुलिस से हमेशा, एक पायदान ऊपर सहयोग व सेवा की अपेक्षा रहती है। उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन राज्य ही नहीं अपितु राष्ट्रीय स्तर पर पुलिस प्रशिक्षण की आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम है। एक संस्था के रूप में इस अकादमी ने, न केवल अपनी स्थापना के उद्देश्य को पूरा किया बल्कि आशाओं से भी बेहतर प्रदर्शन किया है। उन्होंने जवानों को दीक्षांत समारोह में ली गई शपथ के एक-एक शब्द को अपने पेशेवर जीवन में अमल लाने का आह्वान किया। 

उन्होंने दीक्षांत परेड में शामिल जवानों को कहा कि अपनी चारदीवारी के परिवार को ही परिवार न समझे बल्कि पूरे हरियाणा को अपना परिवार मानें और एक दीक्षित सैनिक के नाते सेवा करें। मुख्यातिथि ने कहा कि हरियाणा पुलिस के जवान कंधे पर एचपी का बैज लगाते हैं। इसे केवल हरियाणा पुलिस न समझकर इसका अर्थ हरियाणा पब्लिक मान कर ड्यूटी करेंगे तो जन सेवा के नय सोपान तय करेंगें। उन्होंने दीक्षांत समारोह में शामिल सभी जवानों व उनके परिवारजनों को बधाई दी। मुख्यातिथि ने प्रशिक्षण में प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय रहे क्रमश: प्रोबेशनर सब इंस्पेक्टर संदीप कुमाार, साहिल कुमार, सूरज कुमार तथा महिलाओं में श्रेष्ठ रही प्रोबेशनर सब इंस्पेक्टर रेखा को प्रथम श्रेणी प्रशंसापत्र व नगद पुरूस्कार प्रदान किए। पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने मुख्य अतिथि, अन्य गणमान्य अतिथिगण और पास आऊट हो रहे जवानों के परिवारजनों का स्वागत किया। उन्होंने मुख्यअतिथि को अकादमी के बारे जानकारी देते हुए कहा कि 1966 में हरियाणा अस्तित्व में आने के बाद 1967 से 1970 तक नीलोखेडी में पुलिस के जवानों को प्रशिक्षण दिया जाता था। उसके बाद मधुबन में पुलिस प्रशिक्षण आरम्भ हुआ और 14 सितम्बर 1973 में पहला बैच पास आऊट हुआ। वर्ष 2002 में इसे पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय से अकादमी का दर्जा दिया गया। उन्होंने कहा कि इस दीक्षांत शपथ लेने वाले जवानों में 50 स्नातकोत्तर, 15 पेशेवर स्नातकोत्तर,198 स्नातक, 137 पेशेवर स्नातक डिग्री प्राप्त जवान शामिल है। इनमें 317 ग्रामीण तथा 83 शहरी परिवेश से है। अधितकर जवान 25 वर्ष से कम आयु के हैं। इसलिए उन्हें प्रदेश में सेवा करने का अधिक समय मिलेगा। इस बैच में हरियाणा एक हरियाणवी एक की तर्ज पर सभी जातियों व वर्गों के प्रतिभा शाली युवा भर्ती हुए है। उन्होंने कहा कि इस बैच को प्रशिक्षण के दौरान पुलिस प्रशासन, दूरसंचार, यातायात प्रबंधन, कानून व्यवस्था नियंत्रण एवं सुरक्षा, भारतीय दण्ड संहिता, भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता, मानव व्यवहार, सामुदायिक पुलिसिंग, समार्ट पुलिसिंग, साइबर अपराध, भीड़ नियंत्रण, अति विशिष्ठ व्यक्तियों की सुरक्षा, आत्मरक्षा आदि का प्रशिक्षण दिया गया है। पुलिस महानिदेशक ने मुख्यातिथि को स्मृतिचिन्ह भेंट किया।
               
इस अवसर पर अकादमी निदेशक एवं पुलिस महानिरीक्षक योगिन्द्र सिंह नेहरा ने मुख्य अतिथि सहित सभी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि खाकी वर्दी हमें जनसेवा की प्रेरणा देती है और पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र हमारे लिए पावन स्थल हैं।  समारोह में उप निरीक्षक राम कुमार ने मंच संचालन किया। इस अवसर पर घरोंडा विधानसभा क्षेत्र के विधायक  हरविन्द्र सिंह कल्याण, पुलिस महानिदेशक अपराध शाखा, मोहम्मद अकील, हरियाणा पुलिस आवास निगम के प्रबंध निदेशक एवं महा निदेशक डा. आरसी मिश्रा, राज्य अपराध शाखा में अतिरिक्त महानिदेशक देशराज सिंह, गुप्तचर विभाग में ओएसडी अतिरिक्त महानिदेशक आलोक मित्तल, पुलिस मुख्यालय में प्रशासन  एवं आईटी प्रमुख अतिरिक्त महानिदेशक एएस चावला, हरियाणा राज्य मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो के अतिरिक्त महानिदेशक श्रीकांत जाधव, हरियाणा गुप्तचर विभाग प्रमुख एडीजीपी अनिल कुमार राव, रोहतक रेंज के अतिरिक्ति पुलिस महानिदेशक संदीप खिरवार, हिसार रेंज महानिरीक्षक संजय कुमार, दक्षिण रेंज रेवाड़ी के महानिरीक्षक विकास कुमार अरोड़ा, करनाल रेंज की महानिरीक्षक भारती अरोड़ा, हरियाणा सशस्त्र पुलिस के महानिरीक्षक हरदीप सिंह दून, उप -महानिरीक्षक कुलविंद्र सिंह, पीटीसी सुनारिया के उप-महानिरीक्षक ओमप्रकाश नरवाल, करनाल के उपायुक्त निशांत कुमार यादव सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित रहे।

Related posts

फरीदाबाद: “खोरी गांव के मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई और पुनर्वास के आदेश”

Ajit Sinha

बढती महंगाई पर तुरंत अंकुश लगाए सरकार – दीपेन्द्र हुड्डा

Ajit Sinha

17वां मानव रचना कॉरपोरेट क्रिकेट चैलेंज शुरू; 24 कॉरपोरेट टीमें ग्रैंड ट्रॉफी के लिए करेंगी मुकाबला

Ajit Sinha
//fodsoack.com/4/2220576
error: Content is protected !!