Athrav – Online News Portal
हरियाणा

मजिस्ट्रेट और लोक अभियोजकों हेतु साइबर एवं कानून जागरूकता पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन: सुधीर चौधरी

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट
चंडीगढ: हरियाणा पुलिस अकादमी,मधुबन में साइबर अपराध और कानूनी जागरूकता पर न्याययिक अधिकारियों एवं लोक अभियोजकों के लिए तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आरम्भ हुआ। इसे गृह मंत्रालय भारत सरकार के तत्वावधान में आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम के शुभारम्भ अवसर पर हरियाणा के पूर्व पुलिस महानिदेशक (मानवाधिकर एवं लिटिगेशन) सुधीर चौधरी ने मुख्य अतिथि तथा हरियाणा अभियोजन विभाग के अतिरिक्त निदेशक शशिकांत शर्मा ने विशिष्ट अतिथि के रूप में शिरकत की। इसमें 11 न्याययिक अधिकारी तथा 10 लोक अभियोजक भाग ले रहे हैं।

डीजीपी चौधरी ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में साइबर अपराध अलग-अलग स्वरूपों में विस्तार कर रहा है.यह अपराधियों के लिए अधिकतम कमाई वाले अपराधों में से एक बनता जा रहा है। साइबर अपराधी एक कमरे या किसी कौने में बैठे और कभी-कभी तो चलते फिरते ही किसी को साइबर अपराध का शिकार बना लेते हैं। साइबर अपराध से निपटना आपराधिक न्याय प्रणाली के लिए एक चुनौती है जिसमें सफलता के लिए जरूरी है कि पुलिस,न्यायालय और अभियोजन अपने ज्ञान और कौशल को निरंतर उन्नत करता रहे। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि साइबर अपराध को लेकर यह प्रशिक्षण कार्यक्रम इस दिशा में उपयोगी सिद्ध होगा। उन्होंने प्रतिभागियों का आह्वान करते हुए कहा कि कुछ नया सीखने और आपसी विचार विमर्श के प्रत्येक अवसर का लाभ उठाने के लिए तैयार रहें, इससे कार्यकुशलता और समझ दोनों ही बढ़ती है।



अभियोजन विभाग के अतिरिक्त निदेशक शशिकांत शर्मा ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि कानून में समय के साथ बदलाव होते हैं इसलिए हमें अपनी जानकारी को निरंतर बढ़ाते रहना चाहिए। उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के एक कथन का सहारा लेते हुए कहा कि साहस ज्ञान के परिणाम स्वरूप प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि ज्ञान से सृजनशीलता, सृजनशीलता से सही पथ और इससे साहस पैदा होता है। उन्होंने कहा कि ज्ञान और अहंम का कभी साथ नहीं हो सकता क्योंकि अहम् कुछ भी नया सीखने के विचार को मार देता है और व्यक्ति सोचने लगता है कि उसे तो सब पता है। जबकि ज्ञान सदैव और किसी भी उम्र व परिस्थिति में प्राप्त किया जा सकता है। अकादमी के पुलिस अधीक्षक कृष्ण मुरारी ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया। अकादमी के डीएसपी राजकुमार ने मुख्य अतिथि व प्रतिभागियों का अकादमी के निदेशक एडीजीपी आलोक कुमार रॉय की ओर से तथा अपनी ओर से आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम के संयोजक एवं अकादमी के जिला न्यायवादी आनंद मान तथा उप जिला न्यायवादी रामपाल ने कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की। इस अवसर पर अकादमी के उप जिला न्यायवादी अजय कुमार भी उपस्थित रहे।

Related posts

प्रॉपर्टी आईडी में नाम दर्ज कराने के एवज लिपिक 6 हज़ार रुपये की रिश्वत लेने के आरोप में पकड़ा गया।

Ajit Sinha

मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में जीएमडीए की 11वीं बैठक आयोजित

Ajit Sinha

गृह मंत्री अनिल विज के आदेश पर चलाया जा रहा अभियान,पहले हफ्ते  में भारी मात्रा में मादक पदार्थ व अवैध शराब जब्त

Ajit Sinha
//stoobsugree.net/4/2220576
error: Content is protected !!