Athrav – Online News Portal
अपराध हरियाणा

पुलिस महानिदेशक, हरियाणा प्रशांत कुमार अग्रवाल ने की करनाल रेंज के पुलिस अधिकारियों के साथ पानीपत में बैठक।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
चंडीगढ़: पुलिस महानिदेशक, हरियाणा  प्रशांत कुमार अग्रवाल आज रविवार को पानीपत पहुंचे। महानिदेशक को लघु सचिवालय में पहुंचने पर पानीपत पुलिस के जवानों ने सम्मान स्वरूप सलामी दी। इससे पूर्व करनाल रेंज के पुलिस महानिरीक्षक सतेंद्र कुमार गुप्ता (आईपीएस) व पुलिस अधीक्षक पानीपत शशांक कुमार सावन (आईपीएस), पुलिस अधीक्षक करनाल गंगाराम पूनिया (आईपीएस), पुलिस अधीक्षक कैथल मकसूद अहमद (आईपीएस) ने डीजीपी, हरियाणा का स्वागत किया। पुलिस महानिदेशक, प्रशांत कुमार अग्रवाल (आईपीएस) ने आज लघु सचिवालय के तृतीय तल पर स्थित पुलिस विभाग के सभागार में करनाल रेंज के पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक में अपराध, कानून एवं व्यवस्था व प्रशासनिक मुद्दों से संबंधित विषयों की समीक्षा की। उन्होंने इस दौरान अनेक विषयों तथा आपराधिक आंकड़ों की तुलनात्मक समीक्षा करते हुए पुलिस के उच्च अधिकारियों के साथ विस्तृत विचार विमर्श किया।

जिनमें तुलनात्मक आपराधिक आंकड़ों के साथ-साथ स्थानीय एवं विशेष प्रावधानों के तहत आपराधिक गतिविधियों की रोकथाम करना, लंबित शिकायतों का जल्द से जल्द निपटारा करना, उद्घोषित अपराधी, बेल जंपर, मोस्ट वांटेड तथा आपराधिक गिरोह की धरपकड़ के लिए की गई कार्यवाही, मादक पदार्थों की तस्करी में लिप्त दोषियों की संपत्ति को अटैच करने की कार्रवाई, शस्त्र लाइसेंसों का विश्लेषण, पासपोर्ट वेरिफिकेशन, चिन्हित अपराधों की रोकथाम के लिए निगरानी, मादक एवं नशीले पदार्थों, जुआ सट्टा, अवैध शराब की तस्करी तथा अवैध हथियरों को पकड़ने के लिए चलाए गए विशेष अभियान के दौरान की गई कार्यवाही की समीक्षा की। इसके साथ क्षेत्र में शांति एवं कानून व्यवस्था के हालात की समीक्षा, न्यायिक परिसरों की सुरक्षा व्यवस्था, प्रशासनिक कार्य एवं वेलफेयर के मुद्दे, विभागीय जांच के मामलों संबंधी निष्पादन की कार्रवाई, राष्ट्रीय व राज्य राजमार्ग एवं अपराध की दृष्टि से संवेदनशील एरिया में पुलिस की मौजूदगी एवं निगरानी इत्यादि विषयों की समीक्षा करते हुए विस्तार पूर्वक चर्चा की।

डीएसपी को दिए गंभीर और चिन्हित अपराध की पैरवी करने के आदेश

पुलिस महानिदेशक  प्रशांत कुमार अग्रवाल ने बैठक के दौरान सभी डीएसपी को निर्देश देते हुए कहा कि वे सभी घटित गंभीर व चिन्हित अपराध की अपने स्तर पर निगरानी करें।  न्यायालय में विचाराधीन चल रहे केसों को अच्छे से पैरवी कर आरोपी को सजा दिलवाने का प्रयास करें। पीओ व बेल जेम्पर व उद्घोषित अपराधी पुलिस के सामने समर्पण नही करते हैं तो उनकी संपत्ति कुर्क करवाने की प्रक्रिया कानूनी रूप से अमल में लाई जाए। नशा तस्करों के खिलाफ और संघन जांच की जाएं। इन मामलों में पुलिस नशा तस्करों के नेटवर्क की जड़ तक जाएं और ऐसे अपराधियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही  अमल में लेकर आएं। इन अपराधियों की संपत्ति भी कुर्क करने की कार्रवाई साथ के साथ करें।    चोर

गिरोह पर कसी जाएगी नकेल

पुलिस महानिदेशक ने बैठक में अधिकारियों से चोरी के मामलों की विस्तृत रिपोर्ट ली और उन्होंने इन घटनाओं को रोकने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इस तरह का गिरोह रैकी कर वारदातों को अंजाम देता है। कुछ गिरोह खेतों में ट्रांसफार्मर चोरी की वारदातों को अंजाम देते है। इससे सरकारी संपत्ति का नुकशान तो होता ही है साथ में किसानों को भी परेशानी उठानी पड़ती है। यह छोटा छोटा अपराध पुलिस के सामने भी चुनौती बन जाता है। पुलिस अधिकारी इस तरह के गिरोह का भंडाफोड़ करने का प्रयास करें। इसके लिए अपने खुफिया तंत्र को और ज्यादा सक्रिय करें। उन्होंने अपराधिक मामलों जैसे आर्म्स एक्ट व एनडीपीएस एक्ट के तहत दर्ज केसों का गहनता से अनुसंधान करने व केस की तह तक जाने के निर्देश दिए। ताकि अपराधियों के नेटवर्क का पता चल सके व प्रभावी कार्रवाई कर अपराध की पुनरावृत्ति को रोका जा सके।  

नाकों व क्षेत्र में रहें अलर्ट

पुलिस महानिदेशक ने कानून एवं व्यवस्था की समीक्षा करते हुए कहा कि पुलिस फोर्स नाकों व क्षेत्र में अलर्ट नजर आनी चाहिये, जिससे आमजन स्वयं को सुरक्षित महसूस कर सकें और अपराधी अपराध करने से पहले ही अपने बारे में दस बार सौचें। उन्होंने महिलाओं के विरुद्ध अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर कड़ी निगरानी रखने व ऐसी शिकायतो पर त्वरित कार्यवाही करने के निर्देश दिए। यातायात को बाधा रहित बनाए रखने के लिए पुख्ता प्रबंधन पर बल दिया और कहा कि लोगों को सड़क जाम से निजात दिलवाने के लिए  योजनाबद्ध व प्रभावी तरीके से कार्यवाही की जाए। उन्होंने कहा कि हरियाणा पुलिस की छवि अच्छी है, इसे और बेहतर बनाने की दिशा मे कार्य करना है, जोकि सेवा, सुरक्षा, सहयोग की वचनबद्धता, मेहनत व परिणामों पर निर्भर है। हरियाणा पुलिस के पास संसाधनों की कोई कमी नहीं है, उनका बेहतर उपयोग किया जाना चाहिए। हमें आम जनता के प्रति समर्पित पुलिस बनने की दिशा में काम करना है और अपनी कार्यशैली को ओर अधिक प्रभावी,कुशल व कानून सम्मत बनाना हैं। थानों में की जाए आमजन की सुनवाई

पुलिस महानिदेशक ने अपराध की समीक्षा करते हुए पुलिस अधिकारियों को आवश्यक निर्देश देते हुए कहा कि सभी अधिकारी आमजन की सुनवाई करे। आपराधिक घटना की सूचना मिलते ही तुरंत मौके पर पहुंचे और अपराधी को गिरफ्तार करने के लिए तुरंत कार्यवाही अमल में लाए। थाने में आने वाले हर व्यक्ति की सुनवाई हो और उसकी शिकायत पर तुरंत कार्यवाही अमल में लाए। थाना और चौकी में जांच के स्तर को और बेहतर किया जाए, जिससे दोषियों को सजा दिलाने की दर को बढ़ाया जा सके। जांच में तकनीक का बेहतर इस्तेमाल किया जाए। बीट सिस्टम को और मजबूत किया जाए। राइडर पीसीआर और डायल 112 निरंतर क्षेत्र में गश्त करें। प्रत्येक पुलिस अधिकारी अपने अधीन कार्यरत पुलिस कर्मचारियों की कार्यकुशलता को पहचानने तथा उसके अनुरूप ही उनसे कार्य लिया जाए।

जवानों और उनके परिजनों के कल्याण पर भी दें ध्यान

पुलिस महानिदेशक ने बैठक में कहा कि हरियाणा पुलिस अपने जवानों और उनके परिजनों के कल्याण के लिए भी हर समय खड़ी है। जिला स्तर पर इनके कल्याण की तरफ ध्यान दिया जा रहा है। अनेक कल्याणकारी योजनाएं जवानों के लिए चलाई जा रही है। अधिकारी जवानों के स्वास्थ्य व सेहत का ध्यान रखते हुए अपने स्तर पर जरूरी कदम उठाए। जवानों के लिए सुविधाओं को और बेहतर किया जाए। अच्छे कार्य के लिए जवानों को उचित इनाम व नियमानुसार समय पर तरक्की सुनिश्चित की जाए। उचित समय पर पदोन्नति देने के अलावा पुलिसकर्मियों के आवास, चिकित्सा और उनके बच्चों के लिए बेहतर शिक्षा सुविधा बारे विशेष ध्यान रखा जाए।

जीरो टॉलरेंस नीति पर कार्य करें

पुलिस महानिदेशक हरियाणा प्रशांत कुमार अग्रवाल ने कहा कि बिना किसी भेद भाव के जीरों टॉलरेंस नीति पर कार्य करें। भ्रष्टाचार को किसी भी सूरत में सहन नही किया जाएगा। इस तरह की शिकायत मिलने पर अधिकारी त्वरित कार्रवाही कर पीड़ित को समय रहते न्याय दिलाकर आरोपी पर उचित कार्रवाही अमल में लेकर आए।

पानीपत पुलिस के चार पुलिसकर्मियों को किया सम्मानित

पुलिस महानिदेशक हरियाणा प्रशांत कुमार अग्रवाल ने इस दौरान पुलिस अधीक्षक शशांक कुमार सावन की अनुशंसा पर 4 पुलिसकर्मियों को प्रशंसा पत्र और 50 हजार रुपए का इनाम देकर सम्मानित  किया। इनमें थाना चांदनी बाग के प्रभारी इंस्पेक्टर महिपाल सिंह, सब इंस्पेक्टर अत्तर सिंह, एएसआई ऋषिराम व मुख्य सिपाही सुनील कुमार शामिल है। इन सभी को गत दिनों थाना चांदनी बाग क्षेत्र के अंतर्गत 6 साल की मासूम बच्ची का अपहरण के बाद दुष्कर्म कर हत्या करने वाले दरिंदे को वारदात के महज कुछ घंटों के दौरान ही काबू कर न्यायालय के सम्मुख पेश किया और इस मामलें में ठोस सबूत एकत्रित कर 5 दिन के दौरान ही न्यायालय में चालान पेश करने में मुख्य भूमिका निभाई थी। इस मौके पर करनाल रेंज के पुलिस महानिरीक्षक सतेंद्र कुमार गुप्ता आईपीएस व पुलिस अधीक्षक पानीपत शशांक कुमार सावन आईपीएस, पुलिस अधीक्षक करनाल  गंगाराम पूनिया आईपीएस, पुलिस अधीक्षक कैथल मकसूद अहमद आईपीएस व रेंज के अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहें।

Related posts

25 हजार का इनामी अपराधी अरेस्ट: गैंगस्टर एक्ट, हत्या, हत्या का प्रयास, चोरी के 25 से भी अधिक मामले दर्ज।

Ajit Sinha

फरीदाबाद: गैस कटर से एटीएम मशीन काटने वाले गैंग का भंडाफोड़, गैंग के तीन आरोपित गिरफ्तार।

Ajit Sinha

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला: रजिस्ट्री होने के साथ म्युटेशन भी उसी दिन दर्ज होगी

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//sauptowhy.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x