Athrav – Online News Portal
दिल्ली

सीएम अरविंद केजरीवाल ने नए साल पर दिल्लीवालों को दिया 50 नई लो फ्लोर इलेक्ट्रिक बसों का तोहफा


अजीत सिन्हा की रिपोर्ट
नई दिल्ली:सीएम अरविंद केजरीवाल ने नए साल पर आज दिल्लीवालों को 50 नई लो फ्लोर इलेक्ट्रिक एसी बसों का तोहफा दिया। इन बसों से प्रदूषण कम करने में भी मदद मिलेगी। राजघाट डीटीसी डिपो से सीएम अरविंद केजरीवाल ने हरी झंडी दिखाकर इन बसों को रवाना किया। ये बसें सात रूटों पर चलाई जाएंगी। सभी बसों में जीपीएस, सीसीटीवी, व्हील चेयर की सुविधा के साथ महिलाओं के लिए पिंक सीट, वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगजनों के लिए सीट उपलब्ध है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं दिल्ली में प्रदूषण मुक्त, सुरक्षित और अधिक सुविधाजनक सार्वजनिक परिवहन के नए युग में दिल्लीवासियों का स्वागत करता हूं। सार्वजनिक परिवहन के बेड़े में 50 नई लो फ्लोर इलेक्ट्रिक बसें शामिल जा रही हैं और अब दिल्ली में 300 इलेक्ट्रिक बसें हो गई हैं।

वर्तमान में दिल्ली की सड़कों पर कुल 7379 बसें दौड़ रही हैं, जो अब तक की सबसे अधिक बसों की संख्या है। सीएम ने कहा कि हम डीएमआरसी की 100 इलेक्ट्रिक बसों को भी टेकओवर कर रहे हैं और अब दिल्ली सरकार ही डीएमआरसी की फीडर बसें चलाएगी। दिसंबर 2023 तक दिल्ली के पास 2280 इलेक्ट्रिक बसें हो जाएंगी और 2025 तक 6380 और ई-बसें खरीदी जाएंगी। जिसके बाद दिल्ली में कुल 10480 बसें हो जाएंगी, जिसमें 8280 इलेक्ट्रिक बसें होंगी, जो कुल बस बेड़े का 80 फीसद है।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने आज राजघाट डीटीसी डिपो से 50 नई लो फ्लोर इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस दौरान दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत और दिल्ली परिवहन निगम के वरिष्ठ अधिकारी समेत अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे। यह सभी इलेक्ट्रिक बसें रोहिणी सेक्टर 37 स्थित बस डिपो में ठहरेंगी और दिल्ली के सात अलग-अलग रूटों पर चलाई जाएंगी। यह 12 मीटर लंबी लो फ्लोर इलेक्ट्रिक बसें हैं। इन बसों में यात्रियों की सुविधा का विशेष ख्याल रखा गया है। बस में जीपीएस, सीसीटीवी, व्हील चेयर, महिलाओं के लिए 25 फीसद पिंक सीट व वरिष्ठ नागरिकों के लिए सीट है। नेत्रहीन लोगों के लिए विशेष सुविधा के साथ दिव्यांगजनों के लिए हर बस में 4 सीट है।आधुनिक सुरक्षा मानकों से लैस इन 50 लो फ्लोर इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी दिखाने के उपरांत सीएम अरविंद केजरीवाल ने सभी को नववर्ष की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि मैं दिल्ली में प्रदूषण मुक्त, सुरक्षित और अधिक सुविधाजनक सार्वजनिक परिवहन के नए युग में दिल्लीवासियों का स्वागत करता हूं। आज बहुत खुशी का दिन है कि 50 नई लो फ्लोर इलेक्ट्रिक बसें दिल्ली की जनता के लिए सड़कों पर उपलब्ध होने जा रही हैं। अब दिल्ली के अंदर 300 इलेक्ट्रिक लो फ्लोर बसें हो गई हैं। बहुत कम समय में ही हम लोगों ने इतनी सारी इलेक्ट्रिक बसें अधिग्रहित कर ली हैं। इसके लिए मैं सभी अधिकारियों के साथ दिल्ली के लोगों को बधाई देना चाहता हूं कि यह सुविधा उनके उपलब्ध हो रही हैं। दिल्ली में अब कुल 7379 बसे हो गई हैं। दिल्ली की सड़कों पर अब तक की सबसे ज्यादा बसे हैं। अभी तक कभी भी दिल्ली की सड़कों पर इतनी बसें नहीं थी। बीच में कई सालों तक दिल्ली में नई बसें खरीदी नहीं गई थी। मुझे याद है कि हमें भी कहा गया कि इतने साल हो गए और बसे नहीं खरीदी गई हैं। एक कहावत है कि भगवान जब देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है। वैसे ही, दिल्ली सरकार जब काम करना शुरू करती है तो छप्पर फाड़ कर काम करना शुरू करती है। दिल्ली सरकार ने एक बार जब बसें खरीदना शुरू किया तो अब खूब सारी बसें एक साथ खरीदी जा रही हैं। कुल 7379 बसों में से 4060 से डीटीसी के अंतर्गत है और क्लस्टर में 3319 बसें डीआईएमटीएस (दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टीमॉडल ट्रांजिट सिस्टम्स) के तहत संचालित की जा रही हैं। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी तक हमारे पास कुल 300 इलेक्ट्रिक बसें हो चुकी हैं। डीएमआरसी भी 100 इलेक्ट्रिक बसों को संचालित करता है। लेकिन इन बसों को डीएमआरसी ठीक से चला नहीं पा रहा है। इसलिए दिल्ली सरकार ने डीएमआरसी की 100 बसों को टेकओवर करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। डीएमआरसी के फीडर रूट्स पर दिल्ली सरकार ही इन बसों को संचालित करेगी। डीएमआरसी के फीडर रूट पर 100 इलेक्ट्रिक बसें पर्याप्त नहीं हैं। हम इस साल के अंत तक फीडर बसों की संख्या 100 से बढ़ाकर 480 कर देंगे। जिसके बाद डीएमआरसी के फीडर रूट्स पर 480 बसें हो जाएंगी। डीएमआरसी की 100 इलेक्ट्रिक बसें और डीटीसी की 300 इलेक्ट्रिक बसें यानि दिल्ली में कुल 400 इलेक्ट्रिक बसें हो गई हैं। पूरे देश में सबसे ज्यादा इलेक्ट्रिक बसें मुम्बई में हैं। मुंबई में इलेक्ट्रिक की 406 बसें हैं। मुम्बई से हम केवल 6 बसें ही पीछे रहे गए हैं। इस साल हम 1500 और नई इलेक्ट्रिक बसें खरीदने जा रहे हैं। अभी दिल्ली में 300 इलेक्ट्रिक बसें हैं। इन 300 इलेक्ट्रिक बसों के साथ हमारा इलेक्ट्रिक बसों का पहला फेज पूरा हो गया है। अब फेज दो के अंतर्गत 1500 इलेक्ट्रिक बसें खरीदी जाएंगी। दिसंबर 2023 तक हम लोग 1500 और इलेक्ट्रिक बसें खरीद लेंगे। इस तरह दिसंबर 2023 तक दिल्ली के पास 2280 इलेक्ट्रिक (300 बसें सड़क पर हैं, 480 बसें डीएमआरसी की ली जाएंगी और 1500 बसें खरीदी जाएंगी) बसें हो जाएंगी। 2025 के अंत तक हम 2280 इलेक्ट्रिक बसों के अलावा 6380 और इलेक्ट्रिक बसें खरीदेंगे। इस प्रकार 2025 के अंत तक दिल्ली में कुल 10480 बसें हो जाएंगी। जिसमें 8280 इलेक्ट्रिक बसें होंगी। इस तरह कुल बस बेड़े में 80 फीसद इलेक्ट्रिक बसें हो जाएंगी। 

Related posts

भारतीय सेना का 9 सदस्य दल स्नाइपर फ्रंटियर प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए बेलारूस रवाना

Ajit Sinha

संसद भवन में राहुल गांधी बोले,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अडानी का क्या रिश्ता है और कैसा रिश्ता है-लाइव वीडियो सुने।

Ajit Sinha

पत‍ि ने काटा रेलवे ट्रैक, लिखा-पत्नी को ले जाओ, 50 करोड़ दे जाओ, वरना मचेगी तबाही

Ajit Sinha
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
//acoudsoarom.com/4/2220576
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x