Athrav – Online News Portal
अपराध दिल्ली नई दिल्ली

बैंक ऑफ़ इंडिया के पूर्व शाखा प्रमुख सहित दो लोगों को बैंक और बैंक ग्राहकों को करोड़ों का चुना लगाने के जुर्म में किया अरेस्ट।  

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने आज बैंक ऑफ़ इंडिया और तत्कालीन शाखा प्रमुख रामपात सिंह व उनके साथी अमित कुमार जांगड़ा को बैंक और बैंक ग्राहकों को करोड़ों रूपए का चुना लगाने के जुर्म में अरेस्ट किया हैं। इन दोनों आरोपितों थाना आर्थिक अपराध शाखा,दिल्ली में दर्ज मुकदमा न. 227 /2018 में अरेस्ट किया हैं। इस केस में कानून की उचित धाराओं का इस्तेमाल किया गया हैं। अभी इस केस की जांच चल रही हैं।  

पुलिस के मुताबिक बैंक ऑफ इंडिया के दो ग्राहकों ने बैंक को सूचित किया कि उनके बैंक खातों से धोखाधड़ी से रकम स्थानान्तरण किया गया हैं। जांच में बैंक ऑफ इंडिया ने पाया कि दोनों व्यक्तियों के पैसे मणि ट्रेडर्स के खाते में स्थानांतरित कर दिए गए थे। बैंक ऑफ इंडिया के अधिकारियों द्वारा शिकायत की गई थी कि अमित कुमार जांगड़ा ने चेक को मनीला ट्रेडर्स के सीसी लिमिट में जमा किया था। तत्पश्चात इस अकाउंट से पैसे अलग-अलग अकाउंट को हस्तांतरित कर दिए गए थे आरोपित अमित जांगड़ वर्तमान मामले को दिल्ली के पीएस ईओडब्ल्यू में दर्ज एफआईआर नंबर-227/18 के तहत दर्ज किया गया था और जांच की गई थी।

पुलिस की माने तो जांच से पता चला है कि आरोपित रामपत सिंह शिकायतकर्ता बैंक के वरिष्ठ प्रबंधक(शाखा प्रमुख) थे और बैंक की प्रणाली से अच्छी तरह परिचित थे। उन्होंने अभियुक्त अमित कुमार जांगड़ा के साथ मिलकर एक फर्म के नाम से एक सीसी खाता खोला, जिसका नाम था मणि ट्रेडर्स, जिसे अमित कुमार जांगड़ा द्वारा विशेष रूप से बनाए रखा जा रहा था और अपनी माँ के हस्ताक्षर का उपयोग कर रहा था। इससे पहले, शाखा प्रमुख होने वाले वरिष्ठ प्रबंधक ने इस अकाउंट के लिए 30 लाख रूपए की सीसी सीमा को मंजूरी दी थी। तत्पश्चात प्रबंधक ने उन्हें इस बैंक खाते में प्रविष्टियों को नियमित करने के तरीके से सीसी सीमा बढ़ाने की पेशकश की और योजनाबद्ध तरीके से उन्होंने अन्य ग्राहकों के खाते से इस सीसी सीमा खाते में 2.63 करोड़ रुपये हस्तांतरित कर दिए। इस राशि को बाद में अन्य बचत खातों में बदलने के बाद नकदी में निकाल लिया गया। बैंक के अन्य ग्राहकों के अकाउंट से इतनी अधिक राशि की हेराफेरी की गई थी।   

Related posts

सरकारी अस्पताल व निजी अस्पतालों में कोरोना काल तक केवल दिल्ली के लोगों का इलाज होगा, कल से बॉर्डर खुलेंगें: सीएम

Ajit Sinha

विकास चौधरी की हत्या के केस में खुलासा : कुख्यात बदमाश विकास व सचिन ने की थी विकास चौधरी की हत्या।

Ajit Sinha

जाट और गुर्जर को रिझाने का बीजेपी का चला दांव उल्टा पड़ा,प्रतिमा के अनावरण को लेकर भीड़े राजपूत और गुर्जर समुदाय

Ajit Sinha
error: Content is protected !!