Athrav – Online News Portal
फरीदाबाद

ग्रीन फिल्ड कालोनी में डीटीपी इंफोर्स्मेंट द्वारा की गई सीलिंग तोड़ कर निर्माण करने वाले बिल्डर पर कार्रवाई करके जाएगें : नरेश  

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
फरीदाबाद; डीटीपी इंफोर्स्मेंट एंव विजिलेंस की टीम ने ग्रीन फिल्ड कालोनियों के बिल्डरों को चाहे जितना भी सुधारने की कोशिश कर ले पर उन्हें बिल्डर लोग ठेंगा दिखाने से नहीं चूकते हैं। जी हैं ऐसे ही एक सनसनी खेज मामला प्रकाश में आया हैं। जब कोई एक बिल्डर लोग कानूनी नियमों को सरेआम तोड़ता  हैं तो उसे देख कर 10 और बिल्डरों के हौसले बुलंद होते हैं और फिर इसी तरह से बिल्डर लोग भी कानूनी नियमों का मजाक उड़ाते हुए अपने मंसूबें में कामयाब हो जाते हैं। कई बार गलत करने से बिल्डरों को भारी भरकम खामियाजा भी भुगतना पड़ता हैं। 

इस मामले में डीटीपी इंफोर्स्मेंट एंव विजिलेंस नरेश कुमार का कहना हैं कि ग्रीन फिल्ड कालोनी के प्लाट नंबर-932 में वैध निर्माण में जो अवैध निर्माण बने थे उसका कुछ हिस्सा तो उन्होनें अर्थमूभर मशीन की मदद से तोड़ दी थी। क्यूंकि यह बिल्डिंग चार मंजिलों तक अवैध निर्माण बने हुए थे और अर्थ मूभर से टूट नहीं सकते थे इस लिए इस निर्माणधीन बिल्डिंग की सीलिंग कर दी थी पर अब ताजा सूचना मिली हैं कि बिल्डर ने उस बिल्डिंग की सीलिंग तोड़ दी हैं और उनके द्वारा तोड़े गए निर्माण को फिर से बना लिया हैं। यह साफ़ तौर पर कानूनी नियमों का सरेआम उल्लंघन हैं। इस बिल्डर पर सख्त कार्रवाई करके शिंकजा कसना बहुत जरुरी हैं। उनका कहना हैं कि अब तो उनका यहां से तबादला हो गया हैं कि इस बिल्डिंग की रिपोर्ट बना कर ही यहाँ से सोमवार को वह रिलीव होंगें और नए डीटीपी इंफोर्स्मेंट एंव विजिलेंस राजेंद्र शर्मा इस केस को फिर से देखेंगें और कार्रवाई करेंगें। 
 
खबर के मुताबिक ग्रीन फिल्ड कालोनी के प्लाट नंबर -932 हैं। इसमें आगे हिस्सा तो वैध तरीके से बने हुए हैं पर इसके पिछले हिस्से में जो निर्माण बने हुए हैं वह बिल्कुल अवैध हैं। इस खबर में दोनों ही तस्बीरें प्रकाशित की गई हैं। इसमें जो गेट खुले हुए हैं और दीवार बने हुए हैं। यह तस्बीरें आज की ताजा तस्बीरें  हैं। इसके बाद सील करते हुए,गेट के आगे ग्रीन फिल्ड कालोनी पुलिस चौकी के इंचार्ज सुनील कुमार खड़े हैं और कोने में अर्थमूभर मशीन से दीवार तोड़ती हुई दिखाई दे रही हैं। यह सभी तस्बीरें बीते 9 अक्टूबर-2020 की हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता हैं कि बिल्डर की कोशिश हैं कि जल्द से जल्द इस निर्माण को तैयार करके अपने ग्राहकों को सौप दें या बेच दें।

इसके बाद ग्राहक जाने और डीटीपी इंफोर्स्मेंट एंव विजिलेंस विभाग वाले जाने। वह अपने मक़सद में कामयाब हो जाएंगें। हमेशा से यह बिल्डर तो ऐसा ही करता हुआ आया हैं। अब भी ऐसा ही कर रहा हैं। यह सब इस लिए बिल्डर कर रहा हैं कि अपने ग्राहकों से 10 -5 लाख रूपए आराम से और धोखे से ऐंठ सकें। मुख्यमंत्री मनोहर लाल और जिला प्रशासन और ख़ास तौर पर संबंधित विभाग को इस बिल्डर पर सख्त कार्रवाई करने की। ताकि आम ग्राहकों की जीवन भर पूंजी लूटने से बचाया जा सकें। इसके अतिरिक्त डीटीपी इंफोर्स्मेंट नरेश कुमार ने ग्रीन फिल्ड कालोनी के प्लाट नंबर -412 पर बने अवैध निर्माणों की तोड़फोड़ की कार्रवाई की थी। जरुरत हैं इस बिल्डिंग में फिर से चेकिंग करने की। इसके अलावा प्लाट नंबर -4009, 1848, 0009, 0011, 1723, 1670, 1822, 2511,2494 में भी अवैध निर्माण बने हुए हैं। इन नंबरों की लिस्ट पहले डीटीपी इन्फ्रॉमेंट नरेश कुमार को सौप दी गई थी और उन्होनें कहा कि  सोमवार को सभी नंबरों को नए डीटीपी इंफोर्स्मेंट जो उनकी जगह पर आएंगें, को सौप दी जाएगी।           

Related posts

फरीदाबाद: सीएम मनोहर इटली से मगंवाई गई सड़कों की सफाई के लिए आधुनिक तकनीक से बनी मशीन को दिखाई हरी झंडी। 

webmaster

फरीदाबाद के उपायुक्त यशपाल ने आज मुल्ला चौक पर बनाए गए वन स्टॉप सेंटर का उदघाटन किया ।

webmaster

फरीदाबाद : बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत आगामी 30 नवम्बर तक योजना का लाभ लेने के उद्देश्य से पात्र प्रार्थी सम्पर्क कर सकते हैं।

webmaster
error: Content is protected !!