Athrav – Online News Portal
व्यापार हरियाणा

लॉकडाउन अवधि के कारण बंद पड़े उद्योगों को पुन: संचालित किया जा रहा है, अनुमति लें: सीएम

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
चण्डीगढ़: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन अवधि के कारण बंद पड़े उद्योगों को पुन: संचालित किया जा रहा है और इसके लिए सरल हरियाणा पोर्टल saralharyana.gov.in पर अनुमति व पास देने का कार्य शुरू किया गया। उन्होंने कहा कि सभी उद्योगों का पंजीकरण हो और सरकार के पास समुचित डाटा उपलब्ध हो ताकि भविष्य की योजनाएं बनाते समय भी इसे उपयोग में लाया जा सके। इस सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान राज्य में वर्तमान में स्थापित लगभग 1 लाख 16 हजार 700 लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग हैं तथा अब तक पोर्टल पर 55,935 उद्योगों ने पुन: संचालन की अनुमति के लिए आवेदन किया है, जिसमें 21 लाख 86 हजार 98 कर्मियों को पुन: काम मिलेगा। इनमें शहरी क्षेत्र में 35,572 उद्योग तथा ग्रामीण क्षेत्र में 20,246 उद्योग स्थित हैं। इनके अलावा, 608 उद्योग इन-सिटू वाले भी हैं।         
 प्रवक्ता ने बताया कि इन 25 श्रमिकों तक की संख्या वाले उद्योगों की संख्या 43,653 है, जबकि 25 से 200 श्रमिकों तक की संख्या उद्योगों की संख्या 10,186 है। इसी प्रकार, 200 से अधिक श्रमिकों की संख्या वाले उद्योगों की संख्या 1979 है। उन्होंने बताया कि अब तक 34,375 उद्योगों को काम करने की अनुमति दी जा चुकी है, जिसमें 15 लाख 48 हजार 574 कर्मियों को काम मिला है। इनमें 18,816 उद्योग शहरी क्षेत्रों में हैं, जिसमें 8,02,825 कर्मियों को काम मिला है। इसी प्रकार, ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित 11,842 उद्योग में 4,97,828 कर्मियों को काम मिला है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार, 558 इन-सिटू उद्योगों को भी काम करने की अनुमति दी गई है, जिसमें कुल 26,546 कर्मियों को काम मिला है। इनमें शहरी क्षेत्रों  के 294 उद्योग में 13,574 कर्मियों तथा ग्रामीण क्षेत्र के 264 उद्योगों में 12,972 कर्मियों को काम मिला है। इसी प्रकार, राज्य में 1448 ईंट भटठों के संचालन की अनुमति भी दी गई है, जिनमें 2,08,046 कर्मी काम पर लौटे हैं। प्रवक्ता ने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों की पालना सुनिश्चित की जा रही है तथा सभी उद्योगों को कार्यस्थलों के लिए जारी किए गए मानक संचालन प्रक्रिया का कड़ाई से अनुपालन करने के निर्देश दिए गए हैं।          
उन्होंने बताया कि सोशल डिस्टेंसिंग, फेस मास्क, हैंड वाश, सैनिटाइजर की उपलब्धता को अनिवार्य किया गया है। स्वच्छता, थर्मल स्कैनिंग, अलग-अलग शिफ्ट टाइमिंग, लंच ब्रेक के निर्देश दिए गये हैं और 65 वर्ष से अधिक आयु के श्रमिक घर पर ही रहेंगे तथा सभी श्रमिक आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड करेंगे। इसी प्रकार, एच.ई.पी.सी. में कोविड-19 हेल्पडेस्क स्थापित किया गया है, जिसका हेल्पलाइन नंबर 1800-180-2132 है। उन्होंने बताया कि लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योगों के सुचारू संचालन के लिए श्रमिकों के आवागमन के लिए हरियाणा रोडवेज बसों का उपयोग करने की पेश कश की गई है। प्रवासी श्रमिकों के सामूहिक आवागमन से बचने के उद्देश्य से राज्य सरकार ने उनके रहने के लिए सेल्टर होम बनाए हैं। प्रवक्ता ने बताया कि 6 मार्च, 2020 को राज्य के गुरुग्राम में पेटीएम के एक कर्मचारी की कोरोना रिपोर्ट पॉजीटिव आई जो हरियाणा में कोरोना का पहला केस था। सरकार ने इस पर कड़ा संज्ञान लिया और कम्पनी ने गुरुग्राम स्थित अपना कार्यालय भी बंद कर दिया। उन्होंने बताया कि हरियाणा में कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए बेहतर प्रबन्ध किए गये, जिसके कारण अन्य राज्यों की तुलना में हरियाणा में स्थिति काफी हद तक नियंत्रण में रही।

Related posts

स्कॉलरशिप की परीक्षा

webmaster

भाजपा रुपी अहंकार को ध्वस्त करने के लिए कांग्रेस को दें वोट : अवतार भड़ाना

webmaster

विधानसभा चुनावः पुलिस प्रशासन पूरी तरह से तैयार, सुरक्षा के लिए केंद्र ने भेजी अर्ध सैनिक बलों की 120 कंपनियां 

webmaster
error: Content is protected !!