Athrav – Online News Portal
नोएडा

कैलाश अस्पताल में बम की सूचना मिलने से पुलिस विभाग में मचा हड़कंप-देखें वीडियो  

अरविन्द उत्तम की रिपोर्ट 
गणतन्त्र दिवस को देखते हुए नोएडा में पुलिस एर्ल्ट है और शहर में अप्रिय घटना को रोकाने के लिए  पहले ही सुरक्षा को लेकर खासी सतर्कता बरती जा रही है। ऐसे में नोएडा के सेक्टर-27 स्थित कैलाश अस्पताल में बम की सूचना मिलने से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। अस्पताल में बम की सूचना मिलते ही पुलिस और बम निरोधक दस्ते ने मौके पहुंचकर जांच शुरू कर दी है। अस्पताल में बम रखे होने की सूचना के बाद आनन-फानन में अस्पताल को खाली करा लिया गया। बम और डॉग स्क्वॉड बम की तलाश में जुटे हैं। लेकिन जांच के बाद ये हाक्स कॉल निकली जो किसी ने शरारत के चलते फैलाई थी। पुलिस ने हाक्स कॉलर की तलाश कर रही है।

पुलिस,फायर ब्रिगेड,डॉग स्क्वायड और एन्टी बम स्कावायड की टीमे नोएडा के कैलाश अस्पताल की जांच में जुटी है इसकी वजह ये थी कैलाश अस्पताल के रिसेप्शन पर बृहस्पतिवार को दोपहर अज्ञात व्यक्ति फोन पर बेसमेंट में बम फिट होने की जानकारी दी थी। फोन करने वाले ने अस्पताल के बेसमेंट में बम रखे होने की बात कही थी। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन की सूचना पर पुलिस को दी। सूचना के मात्र 10 मिनट के भीतर पुलिस, फायर ब्रिगेड, डॉग स्क्वायड और एन्टी बम स्कावायड मौके पर पहुंची। इस दौरान तमाम ओपीडी बंद कर दी गई। अस्पताल में बम की सूचना मिलने के बाद करीब 2 घंटे तक हड़कंप मचता रहा। पूरी छानबीन के बाद पुलिस ने घोषणा कि ‘ऑल इज वेल, बेसमेंट में नहीं मिला बम।’ सभी को तसल्ली हुई और पुलिस ने भी राहत महसूस की। पुलिस ने कहा कि ये एक हाक्स कॉल थी जो किसी ने शरारत के चलते की थी। पुलिस ने हाक्स कॉलर की तलाश कर रही है।

कैलाश अस्पताल नोएडा के नामी अस्पतालों में शुमार है। यह अस्पताल गौतमबुद्धनगर के सांसद महेश शर्मा का है। वह यहां से लगातार दो बार से लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। वह पिछली एनडीए सरकार में केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं। अस्पताल में करीब 2500 कर्मचारियों का स्टाफ है, और प्रतिदिन 300 मरीजों की ओपीडी रहती है।

Related posts

पैट्रोल पंप के एक सेल्समैन की पेट में गोली मार कर फरार, पुलिस बदमाशों की तलाश में जुटी  

webmaster

खोड़ा कालोनी में दिल्ली, गाजियाबाद व नॉएडा पुलिस की संयुक्त टीम ने ऑपरेशन प्रहार को दिया अंजाम, 27 पकडे,देखें वीडियो।    

webmaster

चीनी ऐप का विकल्प खोजने के लिए ‘स्वदेशी टेक’ नाम से वेबसाइट बनाने वाले चिराग को मिला राष्ट्रीय बाल पुरस्कार-देखें वीडियो 

webmaster
error: Content is protected !!