Athrav – Online News Portal
अपराध गुडगाँव

गुरुग्राम:कथित गौ रक्षकों ने की सरेआम गुंडागर्दी, मीट ले जा रहे शख्स को हथौड़े से बीच सड़क पर जमकर पीटा

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
गुरुग्राम: दिल्ली से सटे साइबर सिटी गुरुग्राम में गुंडागर्दी की ऐसी तस्वीरें सामने आई हैं जिसे देख कर हर किसी का कालेजा कांप जाएगा. गुरुग्राम में शुक्रवार सुबह लगभग  9 बजे मीट से भरी एक पिकअप गाड़ी को कई किलोमीटर पीछा कर कुछ कथित गौ- रक्षकों ने पकड़ लिया और फिर चालक को नीचे उतार कर हथोड़े से पीटना शुरु कर दिया. इस घटना का किसी ने मोबाइल में वीडियो बना लिया. जिसमें साफ दिख रहा है कि कथित गौ -रक्षक कितनी बेरहमी से गाड़ी चालक को बीच सडक गिरा कर हथोड़े से पीट रहे हैं. इतना ही नहीं ये सब गुरुग्राम पुलिस के जवानों के सामने और दर्जनों लोगों के सामने बीच सडक हो रहा था, लेकिन किसी ने भी उसको बचाने की जहमत नहीं उठाई.  

कथित गौ रक्षकों ने पहले तो बादशाहपुर कस्बे से पिकअप गाड़ी का करीब 8 किलोमीटर तक पीछा किया और गुरुग्राम की जुम्मा मस्जिद के पास पकड़ लिया जिसके बाद मस्जिद के पास ही चालक को बेहरमी से पीटते रहे.  पिकअप चालक लुकमान को अधमरा करने के बाद कथित गौ रक्षक उसको उसी की गाड़ी में डालकर अगवा कर ले गए और वापिस बादशाहपुर ले जाकर पीटने लगे इतने में बादशाहपुर पुलिस थाने की पुलिस आई जिसके बाद पुलिस ने लुकमान को छुड़वा कर पुलिस वैन में बिठा लिया तो कथित गौ रक्षक पुलिस वालो से ही उलझ गए. घटना की जानकारी मिलने के बाद सोहना से बीजेपी के विधायक संजय सिंह भी मौके पर पहुंचे और घायल को सड़क पर पड़े देखते रहे लेकिन किसी ने भी उसको अस्पताल पहुंचाने की जहमत तक नहीं उठाई.  

पुलिस ने घायल को अस्पताल पहुंचाया जहां उसका इलाज चल रहा है. पुलिस ने घायल लुकमान के बयानों के आधार पर अज्ञात के खिलाफ कई धाराओं में केस दर्ज कर लिया है लेकिन अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की है.  गाड़ी के मालिक का दावा है कि वो पिछले 50 सालों से मीट का कारोबार करते हैं और इस गाड़ी में भैंस का मीट लाया जा रहा था.  पुलिस ने कथित गौ रक्षकों के खिलाफ केस दर्ज कर मीट का सैंपल जांच के लिए लैब में भेज दिया है.  

Related posts

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना में छह लाख से अधिक पंजीकरण के साथ हरियाणा देश में प्रथम स्थान पर।  

webmaster

गुरूग्राम की सड़कों को आमजन के लिए सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से अतिरिक्त उपायुक्त ने अधिकारीयों के साथ बैठक की

webmaster

अवैध निर्माण बनाने के एवज में 30000 रिश्वत लेने वाले ओल्ड फरीदाबाद नगर निगम के तोड़फोड़ विभाग के कर्मचारी को भेजा जेल। 

webmaster
error: Content is protected !!