Athrav – Online News Portal
फरीदाबाद व्यापार

फरीदाबाद: एजुकेशन सेस पर बिजनेसमैन और दूसरे प्रोफेशनल्स एजुकेशन सेस की डिडक्शन ले सकते है।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
फरीदाबाद: दिल्ली ट्रिब्यूनल ऐतिहासिक निर्णय इनकम टेक्स अपीलेट ट्रिब्यूनल (दिल्ली बेंच)ने एक बड़ा फैसला देते हुए कारोबारी करदाताओं को अपनी आय के निर्धारण में एजुकेशन सेस को भी खर्च में बताने की छूट दे दी है।  दरअसल रिटर्न में कारोबारी अपनी आय पर टैक्स भरने के साथ ही, इस पर चार फीसदी का एजुकेशन सेस भी देता है, जिसे यदि उसने पचास लाख की आय बताई और इस पर स्लैब के तहत चौदह लाख का आय कर भरा तो इसका चार फीसदी यानि छप्पन हजार रुपया भी देना होता है।

इस फैसले के बाद करदाता जब अपनी आय घोषित करेगा तो इसमें से यह छप्पन हजार रुपया घटा देगा और इसे सेस पर खर्च बताकर शेस आय पर स्लैब के तहत टैक्स देगा। इस फैसले से कारोबारी कॉर्पोरेट ग्रुप के साथ ही दूसरे डॉक्टर, इंजीनियर,आर्किटेक्ट, वकील और अन्य प्रोफेशनल को भी फैसले से राहत मलेगी और वह सेस को खर्चे में दिखाकर छूट ले सकेंगे।

इस तरह हुआ ये फैसला

क्रिस्टल ग्रप में असेसमेंट ईयर -2011-12 का रिटर्न दाखिल करते हुए एजुकेशन सेस की डिडक्शन लेना भूल गया और केस स्कूटिनी में आया और आयकर अधिकारी ने इसे खर्चा मान कर छूट देना अमान्य कर दिया। कमिश्नर अपील में भी केस खारिज हो गया। इसके बाद मामला इनकम टैक्स अपीलेट ट्रिब्यूनल दिल्ली में पहुंचा जहां की संदीप एस नागर (सीए) ने क्रिस्टल की  तरफ  से दलील पेश की और ट्रिब्यूनल ने  एक  ऐतिहासिक  निर्णय द्वारा एजुकेशन सेस को खर्चा मानकर छूट देना मान्य कर दिया। 

Related posts

ओल्ड फरीदाबाद नगर निगम ने एक कांग्रेसी नेता के बड़े भाई के दामाद व पूर्व पार्षद के जीजा की अवैध दुकानों को किया सील-देखें वीडियो

webmaster

फरीदाबाद में दो गांवों के बच्चों के बीच हुए झगड़े में कई जख्मी ,पुलिस की जिप्सी तोड़ी, पुलिस कर्मी को चोटें लगने की खबर हैं।

webmaster

फरीदाबाद: डायरेक्टर ऑपरेशन आर.के. सोडा के तुगलकी फरमान पर भड़की यूनियन ने दी आंदोलन की चेतावनी: सुनील

webmaster
error: Content is protected !!