Athrav – Online News Portal
फरीदाबाद

फार्म हाउसों को तोड़ने के लिए गई थी नगर निगम की टीम, भाजपा नेता के भाई ने धोखे से करोड़ों की जमीनों बेचा।

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट
फरीदाबाद: नगर निगम प्रशासन के द्वारा आज सूरजकुंड रोड स्थित गांव अनंगपुर में अवैध रूप से बने फार्म हाउसों को तोड़ने के लिए गई थी पर वहां पर तक़रीबन लोगों के पास कोर्ट से स्टे होने के कारण नगर निगम के तोड़फोड़ दस्ते को वापिस लौटना पड़ा। मौके पर कोर्ट की तकनीकी शब्दों को समझने के लिए नगर निगम के तोड़फोड़ दस्ते के पास अपना कोई वकील मौजूद नहीं था। उधर, पुलिस कर्मियों ने बातचीत के दौरान बताया कि वह लोग आज सुबह 9 बजे ही अनखीर पुलिस चौकी पर पहुंच गए थे और वह लोग उस समय से लेकर दोपहर के 3 बजे तक भूखे प्यासे धुप में खड़े हैं,इस दौरान पुलिस कर्मियों की संख्या कुल 147 बताई गई हैं। वावजूद इसके नगर निगम ने तोड़फोड़ की कार्रवाई नहीं की, इस मामले में नगर निगम के तोड़फोड़ विभाग के कार्यकारी अभियंता ओमवीर सिंह का कहना हैं कि एक दिन का समय उन लोगों को दिया गया हैं,ताकि नगर निगम से कोई गलत तोड़फोड़ न हो जाए और वह लोग भी अपनी पूरी तैयारी कर लेंगें।

एनआईटी नगर निगम के संयुक्त आयुक्त प्रशांत सिंह के नेतृत्व में आज दोपहर 1 : 20 मिनट पर गांव अनंगपुर में भारी पुलिस फोर्स के साथ नगर निगम का तोड़फोड़ का दस्ता पहुंचा जहां सूरजकुंड वाटिका के नाम से अवैध कालोनियों को बसाया गया हैं जहां पर बड़े -बड़े दो दर्जन से अधिक फार्म हाऊस अवैध रूप से बनाए गए हैं। इस दौरान नगर निगम के पास 5 जेसीबी मशीनें थी। तोड़फोड़ दस्ते को देख कर मात्र कुछ लोग वहां पर अपने -अपने फार्म हॉउस से बाहर निकले जिनके पास स्टे आर्डर थे। इन स्टे आर्डर को समझने के लिए नगर निगम के पास उस वक़्त अपना कोई वकील नहीं था। कारण यह हैं कि भू-माफिया जिसने इस कालोनी को गलत तरीके से बसाई हैं, कारण जमीन का नंबर कहीं और का हैं, रजिस्ट्री कहीं और का करा रखा हैं,इसमें तक़रीबन दो किलोमीटर का फासला हैं। यह भू -माफिया कोई और नहीं बल्कि लक्कड़पुर के एक भाजपा नेता का सगा भाई हैं। खबर हैं कि भाजपा नेता का भाई पिछले 3 -4 साल पहले गांव अनंगपुर में तक़रीबन 15 से 20 एकड़ जमीनों में गलत तरीके से प्लॉटिंग करके लोगों को करोड़ों में बेच दी और उस कालोनी का नाम सूरजकुंड वाटिका रख दिया, इन जमीनों पर लोगों ने अब बड़े -बड़े फार्म हॉउस बना लिए हैं और उस में शांति पूर्वक अपने परिवार के साथ रह रहे हैं,



यदि आप बनाए गए इस आलिशान फार्म हाउस को खरीदने जाएंगें तो आप को कम से कम 3 से 4 करोड़ के बीच में खरीदना पड़ेगा और लोग बड़े शान से अपने कोठी के बहार कोठी नंबर, सूरजकुंड वाटिका लिखे हुए हैं पर आपकों बतादें कि यह जमीन कृषि का हैं ऐसा बताया गया और इन जमीनों का असली नंबर क्या हैं, ये बात किसी को नहीं मालूम,जो रजिस्ट्री हैं,उस पर जमीन का नंबर कहां का हैं यह भी बहुत से लोगों को नहीं मालूम। कुल मिला कर भू -माफिया व भाजपा नेता का भाई लोगों को गुमराह करके और धोखे से करोड़ों रूपए ले लिए अब वह लोग परेशान हो रहे हैं

जो पहले तो भू -माफिया को करोड़ों रूपए जमीन खरीदने के एवज में देना पड़ा। इसके बाद करोड़ों में ख़रीदे गए जमीनों पर फार्म हाउस बनाने में लगा और अब नगर निगम तोड़ने के लिए पहुंच गई हैं। सवाल हैं कि इतना बड़ा खेल भाजपा सरकार में कैसे हो गया जहां पर सरकार भ्र्ष्टाचार खत्म होने का ढिंढोरा पीट रहीं हैं, ऐसे लोगो के साथ हुए धोखे का जिम्मेदार कौन होगा। लगता हैं कि करोड़ों के इस जमीन घोटाले के खेल में शासन और प्रशासन के लोग साफ़ तौर पर शामिल होना नजर आ रहे हैं। ऐसे लोगों को कोर्ट से थोड़ी राहत जरूर हैं पर परेशानी खत्म नहीं हुई। कोर्ट के अनुसार नगर निगम अगला कार्रवाई जो भी करें ,जब भी करें, वह नियमानुसार करें। आज नगर निगम ने तो तोड़फोड़ की तैयारी कर ली पर टेक्नीकल रूप से तैयारी नहीं की थी इस लिए नगर निगम के तोड़फोड़ दस्ते को वापिस लौटना पड़ा।

Related posts

फरीदाबाद;उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने फरीदाबाद विधानसभा के बुढैना गांव में किया 3 करोड़ 75 लाख के विकास कार्यों का किया शिलान्यास

webmaster

फरीदाबाद : महिला सरपंच के पति बिल्लू ने पलवली गांव में गोली मार कर एक ही परिवार के पांच लोगों की हत्या कर दी, 8 लोग जख्मी।

webmaster

फरीदाबाद : न्यू टाऊन रेलवे स्टेशन पर कोटा एक्सप्रेस की चपेट में आने के कारण एक महिला सहित दो लोगों की मौत।

webmaster