Athrav – Online News Portal
दिल्ली नई दिल्ली राजनीतिक राष्ट्रीय

भारत का सबसे बड़ा रक्षा सौदा यानी दसॉल्ट एविएशन से 36 राफेल जेट लड़ाकों की खरीद पर कांग्रेस ने फिर से केंद्र पर हमला बोला

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट 
नई दिल्ली: रणदीप सिंह सुरजेवाला, महासचिव,एआईसीसी का बयान: भारत का सबसे बड़ा रक्षा सौदा यानी दसॉल्ट एविएशन से 36 राफेल जेट लड़ाकों की खरीद ‘ सरकारी खजाने को नुकसान, ‘ राष्ट्रीय हितों को गंवाने ‘, ‘ क्रोनी कैपिटलिज्म की संस्कृति ‘ का प्रचार करने और ‘ रक्षा खरीद प्रक्रिया ‘ में निर्धारित खरीद के अनिवार्य पहलुओं को नकारते हुए ‘ गोपनीयता में डूबा ‘ की एक घिनौनी गाथा है ।

फ्रांसीसी समाचार पोर्टल/एजेंसी की कल शाम की रिपोर्ट में विनाशकारी सनसनीखेज खुलासे-Mediapart.fr अब बिचौलियों के अस्तित्व, कमीशन के भुगतान और फ्रांसीसी भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी द्वारा उठाए गए लाल झंडे-एएफए (एनेक्सचर ए 1) का पता चला है । सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने, रिश्वतखोरी और भारत के सबसे बड़े बचाव में कमीशन के भुगतान के आरोप एक बार फिर मोदी सरकार के मुंह में घूरते हैं।

तथ्य 
1.10 अप्रैल, 2015 – प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने फ्रांस की अपनी यात्रा के दौरान 36 राफेल विमानों की खरीद की घोषणा की- ‘स्व से दूर’ ।

2.23 सितंबर, 2016 – मोदी सरकार ने फ्रांस के साथ 8.7 अरब डॉलर या € 7.8 बिलियन यानी 36 राफेल विमानों को खरीदने के लिए औपचारिक समझौते पर हस्ताक्षर किए। 60,000 करोड़ रुपये।

3. रक्षा खरीद प्रक्रिया और भारत सरकार की नीति में यह परिकल्पना की गई है कि प्रत्येक रक्षा खरीद अनुबंध में एक “अखंडता खंड” होगा। कोई बिचौलिया या कमीशन या रिश्वत का भुगतान नहीं हो सकता। बिचौलिए या कमीशन या रिश्वत खोरी के किसी भी सबूत में सप्लायर डिफेंस कंपनी पर प्रतिबंध लगाने, कॉन्ट्रैक्ट रद्द करने, एफआईआर दर्ज करने और डिफेंस सप्लायर कंपनी पर भारी वित्तीय दंड लगाने के गंभीर दंडात्मक परिणाम होते हैं।

4. “फ्रांसीसी भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी – एएफए” द्वारा की गई एक जांच से अब पता चला है कि 2016 में इस सौदे पर हस्ताक्षर करने के बाद, दसॉल्ट यानीराफेल के निर्माता ने एक बिचौलिए को 1 ,100 ,0 यूरो का भुगतान किया है यानीDefsys समाधान।

इस राशि को “ग्राहकों को उपहार” के रूप में दसॉल्ट द्वारा व्यय के रूप में दिखाया गया था।

30 मार्च, 2017 को दसॉल्ट ने फ्रांस की भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी को एक स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि यह राफेल के 50 मॉडलों के निर्माण के लिए भुगतान किया गया था।कथित तौर पर, फ्रांस की भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी द्वारा दसॉल्ट से तीन प्रश्न पूछे गए थे-
(क) दसॉल्ट ने एक भारतीय कंपनी से अपने स्वयं के विमानों के मॉडल बनाने के लिए क्यों कहा है और वह भी €20 ,000 प्रति पीस पर?; 
(ख) इस व्यय को तब ग्राहकों को उपहार के रूप में क्यों दर्ज किया गया था?; और 
(ग) क्या ये मॉडल कभी बनाए गए थे?यदि हां, तो वे कहां और कब प्रदर्शित किए गए थे?

कथित तौर पर, कोई जवाब कभी एक छिपा वित्तीय लेनदेन की ओर इशारा करते हुए Dassault द्वारा फ्रांसीसी AFA की संतुष्टि के लिए प्रस्तुत किया गया था ।
5. Defsys समाधान, भारत वास्तव में उड़ान सिमुलेटर और ऑप्टिकल और इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली आदि की असेंबली का उपक्रम करने वाली एक कंपनी है।(एनेक्सचर ए.2)।

प्रश्न 
1. क्या दसॉल्ट द्वारा ‘ग्राहकों को उपहार’ के रूप में €1 ,100 ,0  का भुगतान किया गया था, वास्तव में राफेल सौदे के लिए बिचौलिए को भुगतान किया गया एक आयोग?

2. अनिवार्य रक्षा खरीद प्रक्रिया का उल्लंघन करते हुए ‘सरकार से सरकारी रक्षा अनुबंध” या भारत में किसी भी रक्षा खरीद में “बिचौलिया” और “कमीशन के भुगतान” की अनुमति कैसे दी जा सकती है?

3. क्या इसने राफेल सौदे को नासॉल्ट पर भारी वित्तीय दंड लगाने, कंपनी पर प्रतिबंध लगाने, प्राथमिकी दर्ज करने और अन्य दंडात्मक परिणामों को नहीं माना है?
4. क्या अब भारत के सबसे बड़े रक्षा सौदे की पूर्ण और स्वतंत्र जांच की आवश्यकता नहीं है ताकि यह पता चल सके कि वास्तव में कितनी रिश्वतखोरी और कमीशन, यदि कोई हो, का भुगतान किया गया था और भारत सरकार में किसके लिए?

5. क्या प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी राष्ट्र को उत्तर देंगे?







Related posts

एसबीआई के करोड़ों ग्राहकों के लिए बुरी खबर, बैंक ने चलाई बचत पर कैंची

webmaster

दिल्ली में इजराइली दूतावास के पास आईईडी ब्लास्ट की खबर, इस ब्लास्ट में तीन कारें बुरी तरह से क्षतिग्रस्त, जांच में जुटी पुलिस   

webmaster

जींद/चंडीगढ़: हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जेजेपी सत्ता में आने के बाद 55 साल की उम्र वाली महिलाओंं की पेंशन बनाई जाएगी।

webmaster
0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x