Athrav – Online News Portal
व्यापार हरियाणा

चंडीगढ़: व्यापारी व उद्योगपति एक भागीदार की तरह सरकार के साथ मिलकर कार्य करते है-सीएम मनोहर लाल

अजीत सिन्हा की रिपोर्ट
चंडीगढ़: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि व्यापारी व उद्योगपति एक भागीदार की तरह सरकार के साथ मिलकर कार्य करते है हम सब मिलकर जनता का भला करते है व्यापारी व उद्योगपति भी जनता का हिस्सा होते है हर व्यापारी अपनी नेक कमाई में से जनकल्याण के लिए एक अंशदान दान के रूप में देने की परम्परा पर प्राचीन समय से ही चलता आ रहा है। व्यापारियों की सहूलियत के लिए सरकार ने अनेकों योजनाएं बनाई हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की तर्ज पर छोटे व्यापारियों के लिए मुख्यमंत्री व्यापारी क्षतिपूर्ति बीमा योजना तथा बड़े व्यापारियों के लिए सामूहिक निजी दुर्घटना बीमा योजना लागू की गई हैं। इसके लिए वित्त विभाग में अलग से एक प्रकोष्ठ का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि गरीब वर्ग के लोगों के लिए केन्द्र सरकार द्वारा आरम्भ की गई प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री जीवन सुरक्षा योजना जैसी योजनाओं का प्रीमियम राज्य सरकार की ओर से वहन किया जाता है। इसी तर्ज पर छोटे व्यापारियों का प्रीमियम भी राज्य सरकार द्वारा ही वहन किया जाएगा। योजना के तहत दो लाख रुपये का बीमा कवर होगा।
मुख्यमंत्री आज यहां उनके सरकारी आवास पर मिलने आए व्यापार प्रकोष्ठ के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि व्यापारी सरकार के लिए टैक्स एकत्रित करने का एक बड़ा माध्यम है। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने ‘‘एक राष्ट्र-एक टैक्स’’ की अवधारणा से जीएसटी लागू की है। व्यापारियों द्वारा टैक्स के रूप में सरकार के पास जमा की गई राशि सरकार जनता की भलाई के लिए विकास कार्यों व योजनाओं पर खर्च करती हैं। सरकार तो इस राशि एक प्रबंधक की भूमिका निभाती है। उन्होंने कहा कि व्यवस्था कोई भी हो, पारदर्शी होने चाहिए। उन्होंने कहा कि व्यापारी निश्चिंत होकर अपना कारोबार करते रहें। वैश्विक स्तर पर जब किसी कारण से व्यापार में उतार चढ़ाव होता है तो ऐसे जोखिमों से व्यापारियों को सावधान रहना चाहिए।

तोशाम को नगरपालिका का दर्जा एक महीने में दे दिया जाएगा

भिवानी जिले के तोशाम से आए प्रतिनिधि की मांग पर मुख्यमंत्री ने कहा कि तोशाम एक पुराना कस्बा है, पता नहीं क्यों अब तक इसको नगरपालिका नहीं बनाया गया। हालांकि पहले से नगर पालिका बनाना घोषित किया गया था, किन कारणों से इसे वापस ग्राम पंचायत बनाया गया, यह सोचने का विषय है। उन्होंने कहा कि नगर निगम, नगर परिषद व नगरपालिकाओं में विकास कार्य ग्राम पंचायतों की तुलना में जल्दी होते हैं, क्योंकि इन निकायों के पास अपने संसाधन भी होते हैं।मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में ग्राम पंचायतों का कार्यकाल पहले ही पूरा हो चुका है, इसलिए ग्राम सभा से प्रस्ताव पारित करवाकर अगर तोशाम के लोग भेजते हैं तो एक महीने के अन्दर-अन्दर तोशाम को नगर पालिका का दर्जा दे दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी तोशाम से छोटे शहर जैसे कि हिसार जिले का बास व सिसाय, यमुनानगर का साढौरा व रादौर को भी नगर पालिका बनाया गया है। बारिश के बावजूद भी मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को जारी रखा और हर जिले के प्रतिनिधि से संवाद करके यह संदेश दिया की कर्म करना ही उनका संकल्प है बारिश आना एक अच्छी बात है। उन्होंने कि जिन प्रतिनिधियों के पास सुझाव है वह लिखित में दे दे क्योंकि उनके कार्यालय में कोई भी कागज़ रद्दी की टोकरी में नहीं फेंका जाता जैसे पहले की सरकारों में होता रहा होगा। प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री को अवगत करवाया की सीएम विंडो के माध्यम से समस्याओं का हो रहा है समाधान और यह लोगों में चर्चा का विषय भी बना हुआ है इस पर मुख्यमंत्री ने कहा सीएम विंडो पर लगभग 9 लाख शिकायतों का समाधान किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि सीएम विंडो पर पुलिस से संबंधित ज्यादा होती है इसलिए उन्होंने पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिए है कि प्राथमिकता आधार पर 100 शिकायतें रेनडम के तौर लेकर इनका समाधान और इसकी जानकारी स्वयं उनको दे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सीएम विंडो पर मिली शिकायत पर की गई कार्यवाही पर शिकायतकर्ता व एक प्रबुद्ध नागरिक के हस्ताक्षर लिए जाते है कि वे समाधान से संतुष्ट है बाद में शिकायत को फाइल किया जाता हैं।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित भी किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के ओएसडी  भूपेश्वर दयाल, राजनीतिक सचिव अजय गौड़, व्यापार प्रकोष्ठ प्रदेश संयोजक बाल कृष्ण अग्रवाल, सह-संयोजक पवन अग्रवाल, सुरेश मिडडा, राहुल सिंगला व्यावसायिक प्रकोष्ठ के सीताराम मित्तल, हरमिंदर सिंह सेठी, उपेन्द्र गर्ग भी उपस्थित थे।

Related posts

चंडीगढ़: हरियाणा सरकार ने आज तुरंत प्रभाव से 30 तहसीलदारों के तबादले किए हैं-लिस्ट पढ़ें 

webmaster

मुख्य सचिव श्रीमती केशनी आनन्द अरोड़ा ने फरीदाबाद सहित 5 जिले के उपायुक्तों को आवश्यक निर्देश दिए

webmaster

चीन से शिफ्ट होने या भारत में एक नई विनिर्माण सुविधा स्थापित करने के इच्छुक निवेशको-कंपनियों को लुभाने हेतु एक अग्रेसिव रणनीति बनाई है।

webmaster
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x